Dhanbad Weekly Railway News: टायलेट का नया डिजाइन लांच... लेटेस्ट मॉडल देखना हो तो गोमो जंक्शन आना होगा

पुरुषों के लिए बने टायलेट का नया डिजाइन लांच हुआ है। लेटेस्ट मॉडल देखना हो तो आपको गोमो जंक्शन आना होगा। यहां रेलवे के ठेकेदार ने अनूठे टायलेट का निर्माण कर डाला है। टायलेट में कमोड तो लगे हैं।

Atul SinghPublish: Sun, 03 Jul 2022 08:06 PM (IST)Updated: Sun, 03 Jul 2022 08:06 PM (IST)
Dhanbad Weekly Railway News: टायलेट का नया डिजाइन लांच... लेटेस्ट मॉडल देखना हो तो गोमो जंक्शन आना होगा

तापस बनर्जी, धनबाद: पुरुषों के लिए बने टायलेट का नया डिजाइन लांच हुआ है। लेटेस्ट मॉडल देखना हो तो आपको गोमो जंक्शन आना होगा। यहां रेलवे के ठेकेदार ने अनूठे टायलेट का निर्माण कर डाला है। टायलेट में कमोड तो लगे हैं पर नीचे की पाइप जोड़ने में शायद पैसे कम पड़ गए हैं। अब यहां खड़े होकर अगर हल्का होने की कोशिश करेंगे तो ऐसा करना भारी पड़ सकता है क्योंकि इससे आपके कपड़े खराब हो सकते हैं। लेन-देन और भुगतान की बात तो रेलवे ही जाने, पर जानकार बता रहे हैं कि टायलेट निर्माण करने वाले ठेकेदार को पूरा भुगतान कर दिया गया है। मामले की शिकायत डीआरएम से लेकर पीएमओ तक हो चुकी है। शिकायतकर्ता ने लिखा है कि भ्रष्टाचार की भी हद होती है, कुछ तो लिहाज करो। मामला ऊपर तक पहुंचा तो जांच की बात तो कही जा रही है। देखिए क्या होता है।

जो चला गया उसे भूल जाइए

ऐसा कतई जरूरी नहीं कि आपका कोई सामान चोरी हो जाए और अगर पुलिस उसे बरामद कर ले तो वह आसानी से आपको वापस मिल जाए। इसके लिये पापड़ बेलने पड़ सकते हैं। अब हुआ ऐसा कि सागर की मां के गले से उचक्को ने सोने का चेन झपट लिया था। घटना 26 मई को हुई थी। रेल थाने में शिकायत दर्ज हुई। रेल पुलिस ने भी फौरी कार्रवाई की। चेन चुराने वाले अपराधियों को दबोच लिया गया। सागर को जब खबर मिली कि उसकी मां का चेन चुराने वाले चोर पकड़े गए हैं, तो वह चेन वापस पाने की उम्मीद लेकर रेल थाने पहुंच गया। बेचारे की उम्मीदों को उस वक्त झटका लगा जब उसे कहा गया कि जो चला गया है, उसको भूल जाइए। अब जब मामला इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ तो रेलवे ने भी संजीदगी दिखाई कहा जांच चल रही है।

ऐसे हमसफर तो मुश्किल भरा सफर

यात्री डिब्बों को चकाचक रखने और कीड़े मकोड़े से राहत दिलाने के लिए रेलवे करोड़ों खर्च करती है। इसके लिए बकायदा आउटसोर्सिंग कंपनी बहाल है। पर कागजों पर होने वाले पेस्ट कंट्रोल व्यवस्था की चुगली कर ही देते हैं। ताजा मामला 23 जून का है जो धनबाद की उत्कृष्ट ट्रेन गंगा दामोदर से जुड़ा है। पटना से धनबाद आ रही ट्रेन के बी 3 कोच के यात्रियों को रतजगा करना पड़ी क्योंकि जैसे ही सोने जाते काकरोच उन्हें जगाने पहुंच जाता। जगह बदल बदल कर परेशान करता रहा। यात्री कभी अपना बैग संभालते तो कभी उठ कर बैठ जाते। अब जब ऐसा हमसफर मिल जाए तो सफर मुश्किलों भरा होगा ही। काफी हैरान परेशान होने के बाद आखिरकार यात्रियों ने अटेंडेंट से इसकी शिकायत कर डाली। अटेंडेंट बाबू ने भी अपनी ड्यूटी पूरी की और जाते-जाते शिकायत वापस लेने की बात कह गए।

और जवान ने महिला यात्री को दबोचा

ट्रेनों में सफर करने वाली अकेली महिलाओं को सुरक्षित यात्रा का दावा करने वाली रेलवे की पोल खुल गई है। हावड़ा से कालका जाने वाली नेताजी एक्सप्रेस में एक महिला यात्री के साथ जो कुछ हुआ उसे जानकर आप हैरत में पड़ जाएंगे। 27 जून की रात महिला हावड़ा से ट्रेन पर सवार हुई थी।बी वन कोच में बैठी महिला को दुर्गापुर उतरना था।रात के तकरीबन 11:50 पर जैसे ही ट्रेन दुर्गापुर स्टेशन पहुंची अर्धनग्न अवस्था में खड़े एक यात्री ने महिला को पीछे से दबोच लिया। उसकी हरकतों से महिला यात्री स्तब्ध थी। कुछ ही पलों में उसने गलत हरकत भी करना शुरू कर दिया था। उस शख्स की पहचान धर्मेंद्र मिश्रा के रूप में हुई है, जो एसएसबी बटालियन का जवान बताया गया है। महिला ने दुर्गापुर रेल थाने में उसके खिलाफ शिकायत की है। मामले की जांच शुरू हो गई है।

Edited By Atul Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept