माघ में बारिश, जनजीवन अस्त-व्यस्त

संवाद सूत्र चतरा हाड़ कंपा देनेवाली ठंड से फिलहाल राहत नहीं मिलने वाली है। बल्कि कंपक

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 06:38 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 06:38 PM (IST)
माघ में बारिश, जनजीवन अस्त-व्यस्त

संवाद सूत्र, चतरा : हाड़ कंपा देनेवाली ठंड से फिलहाल राहत नहीं मिलने वाली है। बल्कि कंपकपाती सर्दी और बढ़नेवाली है। शनिवार की शाम से झमाझम बारिश हो रही है। यह क्रम रविवार को दोपहर तक जारी रहा। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि ओलावृष्टि होगी। माघ में सावन जैसा नजारा है। बेमौसम हो रही बरसात से जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त है। बारिश के बीच कोहरे की परत गाढ़ी है। इस ठंड शीतलहर और कोहरे के कारण साग-सब्जियों के साथ-साथ रबी फसलों का व्यापक नुकसान हो रहा है। आलू, टमाटर, मटर एवं दूसरे अन्य फसलों की उत्पादकता प्रभावित होने संभावना से इंकार नहीं कर सकते हैं। बारिश थमने के बाद ठंड और बढ़ेगी तथा तापमान में गिरावट आएगी। मौसम के जानकारों का कहना है कि न्यूनतम तापमान एक बार फिर पांच से छह डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। वैसे रविवार को न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया है। इधर बारिश के कारण शहर के विभिन्न सड़कों में जल जमाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। शहरी जलापूर्ति फेज-2 योजना को लेकर पाइप लाइन बिछाने के लिए सड़कें काटी गई है। इन सड़कों का जीर्णोद्धार नहीं कराया गया है। परिणामस्वरूप बारिश होने पर सड़कें कीचड़ में तब्दील हो जाती है। ऐसे में राहगीरों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। बिजली आपूर्ति व्यवस्था शनिवार की रात से बाधित है। रात 9 बजे के बाद से अंधेरा छाया हुआ है। विद्युत आपूर्ति प्रमंडल के अधिकारियों ने बताया कि चतरा-इटखोरी लाइन में तकनीकी खराबी आने के कारण बिजली आपूर्ति ठप थी। सुबह के 10 बजे के बाद व्यवस्था को बहाल कर दिया गया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept