व्यवहार के माध्यम से कार्यस्थल को बनाया जाएगा सुरक्षित

बोकारो बीएसएल प्रबंधन ने संयंत्र स्तर पर कार्यस्थल पर सुरक्षा में बेहतरी के उद्देश्य से सुरक्षा

JagranPublish: Thu, 02 Dec 2021 08:00 PM (IST)Updated: Thu, 02 Dec 2021 08:00 PM (IST)
व्यवहार के माध्यम से कार्यस्थल को बनाया जाएगा सुरक्षित

बोकारो : बीएसएल प्रबंधन ने संयंत्र स्तर पर कार्यस्थल पर सुरक्षा में बेहतरी के उद्देश्य से सुरक्षा संस्कृति परिवर्तन अभियान की शुरुआत की है। इसके लिए बीएसएल ने एएसके-ईएचएस इंजीनियरिग एंड कंसल्टेंट्स प्राइवेट लिमिटेड को सुरक्षा सलाहकार नियुक्त किया है। यह संस्था बीएसएल में पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के लिए रोड-मैप भी तैयार करेगी। इस अहम अभियान को परियोजना कवच नाम दिया गया है। सुरक्षा संस्कृति परिवर्तन के तहत इंटिग्रेटेड आर्गेनाइजेशन स्ट्रक्चर (आईओएस) बनाई गई है जो कि एक बहुस्तरीय समिति संरचना है। इसके शीर्ष में एपेक्स कमेटी है। गुरुवार को आयोजित एक बैठक में इस परियोजना की एपेक्स कमेटी का गठन किया गया और इसकी पहली बैठक निदेशक प्रभारी अमरेंदु प्रकाश की अध्यक्षता में हुई।

बैठक का उद्देश्य विभिन्न स्तरीय समितियों का गठन करना और सुरक्षा के लिए नियोजित प्रमुख गतिविधियों पर चर्चा करना था। प्रोजेक्ट कवच का उद्देश्य कर्मचारियों और ठेका कर्मियों द्वारा सुरक्षित व्यवहार के माध्यम से कार्यस्थल को सुरक्षित बनाना है। बीएसएल प्रबंधन इस अभियान को सफल करने के लिए सभी संसाधन उपलब्ध कराने और समय-समय पर अहम निर्णय लेने के लिए समितियों को सशक्त बनाकर कवच परियोजना को सक्रिय रूप से क्रियान्वयन करने के लिए प्रतिबद्ध है।

एपेक्स कमेटी के अन्य नामित सदस्यों में अधिशासी निदेशक परियोजनाएं राजीव कुशवाहा, अधिशासी निदेशक सामग्री प्रबंधन विष्णु कांत पांडेय, अधिशासी निदेशक संकार्य अतनु भौमिक, अधिशासी निदेशक कार्मिक एवं प्रशासन समीर स्वरूप, मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी सुरेश रंगानी, मुख्य महाप्रबंधक सुब्रत मुखोपाध्याय, मुख्य महाप्रबंधक एके झा, मुख्य महाप्रबंधक लक्ष्मी दास, महाप्रबंधक प्रभारी आनंद रौतेला, महाप्रबंधक विकास गुप्ता, सीएमओ डा. पंकज शर्मा, एएसके-ईएचएस से उनके संस्थापक और निदेशक जेके आनंद के नेतृत्व में उनके प्रधान कार्यालय की वरिष्ठ टीम के सदस्य उपस्थित थे।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept