Jammu Kashmir में में पेड क्वारंटाइन की सुविधा देने की तैयारी, अंतरराष्ट्रीय विमान से आने वाले सभी यात्रियों की जांच के निर्देश

उन्होंने आपात स्थिति से निपटने के लिए पेड क्वारंटाइन केंद्र बनाने के लिए भी कहा है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग को ओमिक्रॉन और अन्य म्यूटेशन का पता लगाने के लिए मेडिकल कालेज श्रीनगर और जम्मू में जीनोम जांच सुविधाएं स्थापित करने के लिए कहा।

Lokesh Chandra MishraPublish: Tue, 30 Nov 2021 07:07 AM (IST)Updated: Tue, 30 Nov 2021 07:07 AM (IST)
Jammu Kashmir में में पेड क्वारंटाइन की सुविधा देने की तैयारी, अंतरराष्ट्रीय विमान से आने वाले सभी यात्रियों की जांच के निर्देश

जम्मू, राज्य ब्यूरो : कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन के मिलने के बाद जम्मू कश्मीर में विदेश से आने वाले लोगों पर प्रदेश सरकार की कड़ी नजर है। मुख्य सचिव डा. अरुण कुमार मेहता ने संभागीय और जिला प्रशासन से जम्मू और श्रीनगर दोनों एयरपोर्ट पर विदेश विशेषकर दक्षिण अफ्रीका से आने वालों की स्क्रीनिंग और जांच करने को कहा गया है। उन्होंने आपात स्थिति से निपटने के लिए पेड क्वारंटाइन केंद्र बनाने के लिए भी कहा है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग को ओमिक्रॉन और अन्य म्यूटेशन का पता लगाने के लिए मेडिकल कालेज श्रीनगर और जम्मू में जीनोम जांच सुविधाएं स्थापित करने के लिए कहा। बड़गाम और श्रीनगर जिला प्रशासन कोे सरकारी क्वारंटाइन केंद्र स्थापित करने को कहा गया।

कोविड टास्क फोर्स की सोमवार को हुई बैठक में बताया गया कि केंद्र सरकार ने उन सभी देशों से आने वाले नागरिकों का टेस्ट करने को कहा जिन्हें रिस्क वाले देश घोषित किया गया है। मुख्य सचिव ने अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट से आने वाले सभी लोगों की जांच करने को कहा। नेगेटिव आने वाले यात्रियों को सात दिन होम क्वारंटाइन किया जाएगा और आठवें दिन उनके फिर से टेस्ट होंगे। संक्रमितों को क्वारंटाइन केंद्रों में 15 दिन के लिए भेजा जाएगा। उनके सैंपल आइसीएमआर से मान्यता प्राप्त लैब में जीनोम जांच के लिए भेजे जाएंगे।

श्रीनगर हवाई अड्डे पर एक विशेष कोविड हेल्पडेस्क स्थापित किया गया है। आपदा प्रबंधन सचिव को स्थिति की निगरानी करने और संबंधित एजेंसी के समय पर हस्तक्षेप के लिए एक प्रति दिन रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है। स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग को स्वास्थ्य ढांचा और उपकरण आडिट करने के लिए कहा। इनमें कोविड अस्पताल, वेंटिलेटर, आक्सीजन बेड और आक्सीजन प्लांट शामिल हैं। विभाग को निर्देश दिया था कि वह प्रतिदिन कम से कम 7500 मरीजों के लोड को उठाने को कर्मचारी और मशीनरी की तैयारी सुनिश्चित करे और आक्सीजन की आपूर्ति और दवाओं की सप्लाई को सुनिश्चित बनाएं।

विदेश से आने वाले 450 लोगों की जांच, सभी स्वस्थ : स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पिछले कुछ महीनों में सिर्फ जम्मू जिले में ही विदेश से आने वाले 450 लोगों की कोविड जांच उनके घरों में जाकर की गई है। इनमें से कोई भी संक्रमित नहीं मिला है। अब दक्षिण अफ्रीका से अगर कोई आता है तो उस पर विशेष नजर रखने को कहा गया है। केंद्र सरकार की ओर से विदेश से आने वालों की जो सूची भेजी जा रही है, उनके टेस्ट सभी जिलों में किए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहता।

डीआरडीओ के अस्पताल में ही भर्ती होंगे कोरोना संक्रमित : जम्मू में अब कोविड के मरीजों को भगवती नगर स्थित डीआरडीओ के अस्पताल में ही भर्ती किया जाएगा। इस समय राजकीय मेडिकल कालेज जम्मू में आठ मरीज भर्ती हैं, लेकिन आने वाले दिनों में मरीजों को डीआरडीओ अस्पताल में ही भर्ती किया जाएगा। इस अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन भी लगा दी गई है। सोमवार को इसका ट्रायल भी हो गया। यह पूरी तरह सफल रहा।

Edited By Lokesh Chandra Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept