श्री भैरव अष्टमी के उपलक्ष्य पर निकाली प्रभातफेरी, पुराने शहर के प्राचीन मंदिरों में टेका माथा

मोटरसाइकिल रैली निकाली कर शहर भर के लोगों को श्री भैरव अष्टमी में शामिल होने का निमंत्रण दिया। प्रभातफेरी में भाग लेने वालों के अलावा दूसरे श्रद्धालुओं के लिए भी भंडारे का आयोजन किया गया। दिन भर भैरव मंदिर अपर बाजार में बाबा भैरव के जयकारे गूंजते रहे।

Lokesh Chandra MishraPublish: Sun, 21 Nov 2021 09:01 PM (IST)Updated: Sun, 21 Nov 2021 09:01 PM (IST)
श्री भैरव अष्टमी के उपलक्ष्य पर निकाली प्रभातफेरी, पुराने शहर के प्राचीन मंदिरों में टेका माथा

जम्मू, जागरण संवाददाता : भैरव अष्टमी के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रमों की शृंखला में रविवार को प्रभातफेरी निकाली गई। इस दौरान पुराने शहर के प्राचीन मंदिरों में माथा टेक कर आयोजन में भाग लेने का निमंत्रण दिया। वहीं मोटरसाइकिल रैली निकाली कर शहर भर के लोगों को श्री भैरव अष्टमी में शामिल होने का निमंत्रण दिया। प्रभातफेरी में भाग लेने वालों के अलावा दूसरे श्रद्धालुओं के लिए भी भंडारे का आयोजन किया गया। दिन भर भैरव मंदिर अपर बाजार में बाबा भैरव के जयकारे गूंजते रहे। प्रभातफेरी को महंत रुमिल शर्मा ने झंडी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने बताया कि मुख्य भंडारा 29 नवंबर को होगा।

सुबह करीब छह बजे श्री काल भैरव मंदिर अपर बाजार से प्रभात फेरी शुरू हुई। सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु काल भैरव के जयघोष लगाते, भजन करते हुए पुराने शहर के लगभग सभी मंदिरों में गए। जिन रास्तों से भी प्रभात फेरी निकली, लोगों ने श्रद्धालुओं का भव्य स्वागत किया। कई स्थानों पर श्रद्धालुओं के प्रसाद की व्यवस्था की गई थी। प्रभातफेरी महंत रुमिल शर्मा के नेतृत्व में पहले लक्ष्मी माता मंदिर, चण्डी माता मंदिर, हनुमान जी मंदिर, प्राचीन हनुमान जी मंदिर मोती बाजार, श्री रणबीरेश्वर मंदिर, हनुमान मंदिर पुरानी मंडी, श्री राम मंदिर पुरानी मंडी से होती हुई श्री भैरव मंदिर अप्पर बाजार पहुंची।

भैरव मंदिर के बाहर शानदार रंगोली बनाई गई थी। रैली को रवाना करने के मौके पर डिप्टी मेयर पूर्णिमा शर्मा और कई दूसरे गणमान्य लोग मौजूद थे। करीब 11 बजे एक मोटरसाइकिल रैली निकाली गई, जिसमें कई गणमान्य लोगों ने भाग लिया। बाबा भैरव का ध्वज लहराते यह मोटर साइकिल रैली पूरे शहर से निकली। रैली निकाल कर बाबा भैरव नाथ जी के भक्तों को 29 नवंबर को होने वाले भव्य भंडारे में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया। रविवार को भी दिन भर भंडारा चलता रहा। हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया।

काल भैरव मंदिर के महंत रुमिल शर्मा ने बताया कि सोमवार को कंजक पूजन और बच्चों का कार्यक्रम रहेगा। उसके बाद रात को भंडारा होगा। 27 नवंबर शनिवार को काल भैरव मंदिर में 52 बिरादरियों की मेल होगी। भैरव अष्टमी को देखते हुए जल्द बाजार सजने लगेगा।महंत रुमिल ने सभी श्रद्धालुओं से आग्रह किया है कि वह कोरोना सावधानियों का पालन करते हुए सभी कार्यक्रमों में श्रद्धा और आस्था के साथ शामिल हों।

Edited By Lokesh Chandra Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept