जम्मू कश्मीर : आतंकवाद-सोशल मीडिया दुष्प्रचार को रोकने के लिए समग्र-समावेशी सुरक्षाचक्र तैयार कर रही पुलिस

अंतरराष्ट्रीय सीमा और एलओसी पर सुरक्षा चक्र को मजबूत बनाने के साथ साथ सभी शहरोंकस्बों और राष्ट्रीय राजमार्ग की सुरक्षा मजबूत बनाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि सभी संवेदनशील इलाकों की लगातार समीक्षा कर नाके स्थापित किए जाने चाहिए।

Rahul SharmaPublish: Tue, 18 Jan 2022 09:56 AM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 09:56 AM (IST)
जम्मू कश्मीर : आतंकवाद-सोशल मीडिया दुष्प्रचार को रोकने के लिए समग्र-समावेशी सुरक्षाचक्र तैयार कर रही पुलिस

जम्मू, राज्य ब्यूरो। पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने प्रदेश में शांति बहाली की प्रक्रिया को और मजबूती व गति देने के लिए सभी संबधित पुलिस अधिकारियों को एक समग्र और समावेशी सुरक्षा चक्र तैयार कर तदनुसार पुलिस अधिकारियों व कर्मियों को तैनात करने के लिए कहा। उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर पाक प्रायोजित एजेंसियों के दुष्प्रचार और फर्जी खबरों से निपटने के लिए सभी प्रभावी कदम उठाने और दुर्दांत व नामी अपराधियों को जन सुरक्षा अधिनियम के तहत बंदी बनाने के लिए भी कहा। उन्होंने यह निर्देश आज यहां पुलिस मुख्यालय में प्रदेश पुलिस के सभी विंगों के प्रमुख अधिकारियों संग बैठक में पुलिस संगठन की गतिविधियों और गणतंत्र दिवस की तैयारियों की समीक्षा के दौरान दिए।

पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बैठक में मौजूद अधिकारियों को अपराधियों और अपराधों पर अंकुश लगाने व आम लोगों को अपराधमुक्त माहौल देने के लिए व्यावहारिक और प्रगतिशील कार्ययोजना तैयार कर उसे प्रभावी तरीके से लागू करने को कहा। उन्होंने आतंकियों व उनके समर्थकों के खिलाफ चलाए जा रहे सफल अभियानों के लिए सभी संबधित अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि यह क्रम वर्ष 2022 में भी बना रहना चाहिए। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय सीमा और एलओसी पर सुरक्षा चक्र को मजबूत बनाने के साथ साथ सभी शहरों,कस्बों और राष्ट्रीय राजमार्ग की सुरक्षा मजबूत बनाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि सभी संवेदनशील इलाकों की लगातार समीक्षा कर नाके स्थापित किए जाने चाहिए।

उन्होंने युवाओं में जिहादी मानसिकता पैदा करने वाले तत्वों और आतंकी संगठनों में स्थानीय युवकों की भर्ती के खिलाफ सुनियोजित तरीके से प्रभावी अभियान चलाने के लिए कहा। इंटरनेट मीडिया पर कश्मीर के हालात को लेकर हो रहे दु़ष्प्रचार से भी निपटने की प्रभावी रणनीति पर काम होना चाहिए। नशीले पदार्थाें, आतंकी गतिविधियों ,हवाला से संबधित मामलों की जांच में तकनीक का भी पूरा इस्तेमाल किया जाना चाहिए ताकि आरोपितों को बच निकलने का कोई मौका नहीं मिले।

सभी विंगों और यूनिटों के प्रमुखों की पाक्षिक बैठक पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि जवानों व अधिकारियों के रहने,खाने5पीने व साजो सामान में सुधार संबंधी प्रस्ताव जल्द भेजे जाएं ताकि उनका जल्द समाधान हो। उन्होंने कहा कि सभी संबधित अधिकारी अपने अपने कार्याधिकार क्षेत्र में वर्ष 2021 के दौरान की अपनी गतिविधियों और उपलब्धियों की समीक्षा करें और उसके आधार पर 2022 की रणनीति व योजनाएं तैयार करें। प्रत्येक विंग को 2022 के लिए अपने लक्ष्य तय करने चाहिए। उन्होंने कहा कि अपराधियों और आतंकियों के खिलाफ कोई चूक नहीं होनी चाहिए।

गणतंत्र दिवस की तैयारियों का जिक्र करते हुए उन्होंने सभी सुरक्षा एजेंसियों आपस में पूरा समन्वय बनाए रखें ताकि अमन के दुश्मनों की हर साजिश को नाकाम बनाया जा सके।

Edited By Rahul Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept