ऊधमपुर : स्ट्रोक से लीक हुई भोजन नली, सेना की मेडिकल टीम ने मौके पर इलाज कर बचाई जान

अब्दुल रशीद की लीक भोजन नली का प्राथमिक उपचार कर किया जिससे वानी को दर्द से राहत मिली। वानी के परिवार और रिश्तेदारों ने कड़ाके की सर्दी और बर्फीले पहाड़ी इलाके में मुश्किल रास्ते को पार करते हुए मदद के लिए बाटीबास आने पर सेना के प्रयास को सराहा।

Rahul SharmaPublish: Mon, 17 Jan 2022 08:12 AM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 12:00 PM (IST)
ऊधमपुर : स्ट्रोक से लीक हुई भोजन नली, सेना की मेडिकल टीम ने मौके पर इलाज कर बचाई जान

ऊधमपुर, अमित माही : अवाम की मदद को हमेशा तत्पर सेना की राष्ट्रीय राइफल ने एक बार फिर से रामबन जिले में एक व्यक्ति की जान बचाई है। शनिवार देर रात पहाड़ी क्षेत्र के दूरदराज गांव में डाक्टर सहित मौके पर पहुंच कर स्ट्रोक की वजह से व्यक्ति की लीक हुई फूड पाइप का इलाज किया।

खड़ी तहसील के दूरदराज के पहाड़ी क्षेत्र बाटीबास शागन के रहने वाले अब्दुल रशीद वानी को रात को स्ट्रोक हुआ, जिससे उसकी भोजन नली अचानक लीक हो गई। उसे असहनीय दर्द होने लगा और उसकी जान पर बन आई। इससे सारा परिवार घबरा गया। क्षेत्र में बर्फबारी और संचार साधनों के अभाव में चिकित्सीय उपचार तक पहुंचना मुश्किल था। उनके पास नचिलाना क्षेत्र में 23 आरआर के साथ संपर्क करने के लिए अलावा दूसरा कोई चारा नहीं था।

परिवार के लोगों ने कमांडिंग आफिसर से संपर्क कर सारी स्थिति से अवगत कराया। सीओ ने गंभीर स्थिति और मानवीय जान को खतरे को देखते हुए त्वरित कार्रवाई करते हुए एक सैन्य चिकित्सक सहित पूरी टीम बाटीबास शागन के लिए रवाना की। देर रात को टीम ने मौके पर पहुंच कर अब्दुल रशीद की लीक भोजन नली का प्राथमिक उपचार कर किया, जिससे वानी को दर्द से राहत मिली। वानी के परिवार और रिश्तेदारों ने कड़ाके की सर्दी और बर्फीले पहाड़ी इलाके में मुश्किल रास्ते को पार करते हुए मदद के लिए बाटीबास आने पर सेना के प्रयास को सराहा।

उन्होंने कमांडिंग आफिसर 23 आरआर के कर्नल एसके सिंह की निगरानी में मौके पर आई टीम में शामिल डा. बासुवराज, मनोज कुमार, डा., अविनाश, मेजर धर्मवीर और गुलाम नबी का आभार व्यक्त किया। वहीं, सेना ने कहा कि 23 आरआर रामसू से लेकर खड़ी, महू व मांगित इलाकों में हर मुश्किल समय में लोगों का सहयोग के लिए उपलब्ध है।  कमांडिंग आफिसर ने कहा कि जम्मू संभाग ही नहीं कश्मीर में भी जहां-जहां सेना तैनात है, वे हमेशा लोगों की मदद के लिए तत्पर है। बर्फबारी से प्रभावित इलाकों में रहने वाले लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो, सेना इसका विशेष ध्यान रख रही है।

Edited By Rahul Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept