जम्मू : पंचैरी-मौंगरी को विधानसभा क्षेत्र न बनाया तो आंदोलन तय : मनकोटिया

चुनाव आयुक्त से भेंट करने के बाद जम्मू के प्रैस कल्ब में संवाददाता सम्मेलन में मनकोटिया ने कहा कि परिसीमन आयोग के प्रदेश दौरे के दौरान भी टीम के सदस्यों से लोगों की यह मांग उठाई गई है। उन्होंने कहाकि विकास की ²ष्टि से भी पंचैरी-मौंगरी-लांदर बहुत पिछड़ा हुआ है।

Publish: Fri, 21 Jan 2022 07:36 AM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 07:44 AM (IST)
जम्मू : पंचैरी-मौंगरी को विधानसभा क्षेत्र न बनाया तो आंदोलन तय : मनकोटिया

राज्य ब्यूरो, जम्मू : विधानसभा चुनाव से पहले विधानसभा सीटों की परिसीमन की प्रक्रिया के चलते जम्मू संभाग के उधमपुर जिले के दूरदराज पंचैरी-मौंगरी-लांदर इलाके को विधानसभा क्षेत्र बनाने की राजनीति तेज हो गई है। उधमपुर के पूर्व विधायक बलवंत सिंह मनकोटिया के नेतृत्व में क्षेत्र के पंचों, सरपंचों ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर पंचैरी-मौंगरी-लांदर इलाके को विधानसभा क्षेत्र ने बनाया तो आंदोलन होगा।

अगर सरकार ने लोगों के हितों को नजरंअदाज किया तो उसे इसका खामियाजा भुगतना होगा। विधानसभा सीटों के परिसीमन की प्रक्रिया के चलते यह मांग जोरशोर से बुलंद की जा रही है। ऐसे में वीरवार को मनकोटिया के नेतृत्व में एक प्रतिनिधमंडल ने जम्मू में चुनाव आयुक्त केके शर्मा से भेंट कर जोर दिया कि लोगों की इस दो दशक पुरानी मांग को पूरा किया जाए। मनकोटिया ने कहा कि परिसीमन के लिए तय मापदंड के आधार पर भी पंचैरी-मौंगरी विधानसभा क्षेत्र बनने के लिए हर लिहाज से उपयुक्त है। ऐसे में नई सीटें बनाने में राजनीति के बजाय इंसाफ होना चाहिए।

परिसीमन आयोग की टीम ने भी प्रदेश के दौरे के दौरान माना था कि यह क्षेत्र नई सीट बनाने के मानकों पर खरा उतरता है। चुनाव आयुक्त से भेंट करने के बाद जम्मू के प्रैस कल्ब में संवाददाता सम्मेलन में मनकोटिया ने कहा कि परिसीमन आयोग के प्रदेश दौरे के दौरान भी टीम के सदस्यों से लोगों की यह मांग उठाई गई है। उन्होंने कहाकि विकास की ²ष्टि से भी पंचैरी-मौंगरी-लांदर बहुत पिछड़ा हुआ है। क्षेत्र के लोग आज भी सड़कों, पानी, स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी सुविधाओं की कमी का सामना कर रहे हैं।

ऐसे में इसे पहाड़ी विधानसभा क्षेत्र बनाना बड़ी पुरानी मांग है। उन्होंने कहा कि इस समय पंचैरी, मौंगरी तहसीलों में बर्फबारी हुई है। लोगों मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में 21 पंचायतें आती हैं। हमे शक है कि इस इलाके को विधानसभा सीट बनाने में नजरअंदाज किया जा सकता है। ऐसे में अगर कोई गड़बड़ी हुई तो खामियाजा भुगतने को तैयार रहे है।

मनकोटिया ने कहा कि जब 14000 मतदाताओं वाले कश्मीर के गुरेज को विधानसभा क्षेत्र बनाया जा सकता है तो करीब चालीस हजार वोटरों वाले पंचैरी-मौंगरी-लांदर इलाके को विधानसभा बनाने में क्या दिक्कत है। संवाददाता सम्मेलन में मनकोटिया के साथ क्षेत्र की पंचायतों के कई प्रतिनिधि व गणमान्य लोग भी मौजूद थे।

Edited By

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept