चायल व कसौली में हिमपात, नौ बस रूट हुए बाधित

जिलाभर में बीते 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश व हिमपात हो रहा है। सोलन शहर चायल व कसौली में हिमपात हुआ है।

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 06:01 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 06:01 PM (IST)
चायल व कसौली में हिमपात, नौ बस रूट हुए बाधित

जागरण संवाददाता, सोलन : जिलाभर में बीते 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश व हिमपात के कारण लोगों की दिक्कतें बढ़ने लगी हैं। इस दौरान जिले में 35 मिलीमीटर (एमएम) बारिश रिकार्ड की गई है। जबकि जिले के चायल, कसौली व बड़ोग में भारी हिमपात हुआ है। मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले दो दिन तक मौसम का मिजाज इसी प्रकार बना रहेगा तथा अधिकतर क्षेत्रों में बारिश व हिमपात होने की संभावना है। बारिश व हिमपात से जिलाभर में हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) के नौ बस रूट बंद रहे।

जिले में शनिवार देर रात से बारिश का सिलसिला शुरू हो गया था। नालागढ़, बद्दी, परवाणू, अर्की, कुनिहार व आसपास के क्षेत्रों में जमकर बारिश हो रही है। सोलन शहर व आसपास के क्षेत्रों में भी बीते कई घंटे से बारिश के साथ हिमपात का क्रम जारी है। चायल के कुछ क्षेत्रों में एक फीट तक हिमपात हुआ है। चायल-कुफरी मार्ग भी बर्फ की वजह से बंद हो गया है। इसी प्रकार सोलन शहर के साथ लगते क्षेत्र सैरी, डमरोग, करोल, कसौली व बड़ोग में भी बारिश व हिमपात का सिलसिला रविवार को दिनभर जारी रहा।

बारिश व हिमपात का सबसे अधिक असर जिले की परिवहन सेवाओं पर पड़ा है। सवारियां न होने की वजह से एचआरटीसी के नौ रूट रविवार को बंद रहे। शिमला से चंडीगढ़ के लिए जाने वाली तीन बसें रविवार को सवारियां न होने की वजह से नहीं चल पाई। इसी प्रकार सोलन-रोहड़ू, सोलन-डिल्मन, सोलन-पुलवाहन व लोकल रूट रविवार को बंद रहे। इसी प्रकार अर्की से शिमला जाने वाली बस भी रविवार को बंद रही।

कसौली व चायल में हिमपात होने के बाद पर्यटकों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई है। पर्यटक भी काफी संख्या में कसौली व चायल पहुंचे हैं। मौसम में आए बदलाव का सबसे अधिक लाभ पर्यटन व्यवसाय और फसलों को हुआ है।

कृषि सलाह एवं सेवा इकाई नौणी विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष डा. सतीश भारद्वाज का कहना है कि आने वाले दो दिन तक मौसम इसी प्रकार बना रहेगा तथा अधिकतर क्षेत्रों में बारिश हो सकती है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept