सड़कों को दुरुस्त रखें विभाग : एसडीएम

संवाद सूत्र कुमारसैन कुमारसैन के एसडीएम धर्मपाल चौधरी ने बुधवार को मानसून की तैयारियों के

JagranPublish: Wed, 29 Jun 2022 07:29 PM (IST)Updated: Wed, 29 Jun 2022 07:29 PM (IST)
सड़कों को दुरुस्त रखें विभाग : एसडीएम

संवाद सूत्र, कुमारसैन : कुमारसैन के एसडीएम धर्मपाल चौधरी ने बुधवार को मानसून की तैयारियों के संदर्भ में विभिन्न विभागों के अधिकारियों से कुमारसैन में बैठक की। इस दौरान उन्होंने लोक निर्माण विभाग और एनएच को मानसून के दौरान सड़कों को दुरुस्त करने के आदेश दिए। अब सेब सीजन भी शुरू होने वाला है, ऐसे में ग्रामीण संपर्क सड़कों को भी दुरुस्त रखना आवश्यक है। उन्होंने भूस्खलन के संवेदनशील स्थान चिह्नित करने और लोक निर्माण विभाग से वहां हरसंभव कार्य करने को कहा, ताकि आपदा के समय पर्याप्त मात्रा में मजदूर व मशीनरी उपलब्ध हो।

एसडीएम धर्मपाल चौधरी ने लोक निर्माण विभाग और एनएच को सड़कों में बंद पड़ी नालियों, कल्वर्ट को शीघ्र खोलने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बरसात के दिनों में जलजनित रोगों से बचने के लिए जल शक्ति व स्वास्थ्य विभाग को उचित व्यवस्था करने, पेयजल की शुद्धता जांचने के लिए पंचायतों में किट उपलब्ध करने और ब्लीचिग पाउडर व पेयजल स्त्रोतों की सफाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने विभाग से जन-जन को जागरूक करने की अपील की ताकि जलजनित रोगों से बचा जा सके। एसडीएम ने खंड विकास अधिकारी और पंचायत प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वे अपनी पंचायतों में पेयजल स्त्रोतों एवं बावड़ियों की सफाई सुनिश्चित करवाएं और पंचायत में उपलब्ध टेस्ट किट का पेयजल की गुणवत्ता निर्धारित करने में प्रयोग करें।

बैठक में कुमारसैन की तहसीलदार डा. कंचन, बीएमओ कुमारसैन डा. ताराचंद, हरि कपूर, एमसी कजला, एलसी भारद्वाज, देव शर्मा, एचएस मेहता, संजीव और रजनी गौतम मौजूद रहे। बैठक में इन मुद्दों पर हुई चर्चा

मानसून के मद्देनजर तैयारियों को लेकर कुमारसैन के एसडीएम की अध्यक्षता में हुई बैठक में आपदा संभावित क्षेत्र में नालियों को साफ रखने बारे स्थिति स्पष्ट करने, संपर्क सड़कें, राष्ट्रीय मार्ग, राजमार्ग की नालियों व कल्वर्ट साफ करने के बारे रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए। खंड विकास अधिकारी को बावड़ियों को साफ करने क्षेत्र में कुल कितनी बावड़ियां हैं व कितनी साफ हो चुकी हैं और कितनी शेष रह गई हैं, पंचायत अनुसार सूची उपलब्ध करने के बारे में निर्देश दिए। जलजनित रोगों से बचाव के लिए पीने के पानी की टेस्टिंग करने, ब्लीचिग पाउडर व टेस्टिग किट्स की रिपोर्ट बारे भी चर्चा की गई।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept