होमिद्र पोटन बने हाटी समिति के अध्यक्ष

हाटी समिति अध्यक्ष श्याम लाल खदराई की अध्यक्षता में दशशों हाटी समिति थरोच की महाखुमली की गई। इसमें होमिंद्र पोटल को समिति का अध्यक्ष चुना गया।

JagranPublish: Tue, 28 Jun 2022 03:07 PM (IST)Updated: Tue, 28 Jun 2022 03:07 PM (IST)
होमिद्र पोटन बने हाटी समिति के अध्यक्ष

संवाद सूत्र, नेरवा : हाटी समिति अध्यक्ष श्याम लाल खदराई की अध्यक्षता में दशशों हाटी समिति थरोच की महाखुमली की गई। इसमें दशशों थरोच परगना की कार्यकारिणी का गठन किया गया। इसमें होमिद्र (सोनू) पोटन को अध्यक्ष चुना गया। सतीश चौहान, कमाल चंद व शमशेर धाजटा को उपाध्यक्ष, राजिद्र चौहान, नरेश शर्मा, राकेश चौहान को सचिव, हीरा लाल, बलवीर रौलेट, मोहिद्र चौहान को सह सचिव चुना गया। इसके अलावा अमित चौहान, लाल सिंह पोटन, लीला नंद शर्मा, सोहन दत्ता, मंगत राम सिसोदिया एवं मुनीश भंडारी को कानूनी सलाहकार, संतराम पोटन, काना सिंह चौहान, आज्ञा बल्लभ शास्त्री, भोपेंद्र सिसोदिया एवं काकू ठाकुर को मुख्य सलाहकार के पद पर तैनाती दी गई।

इसके अलावा बलवीर शर्मा, केवलराम पुरोली, राम लाल, मोहन हरजेट, राजेश केस्टा, कृष्ण घमटा, यशपाल पोटन, पदम चौहान, रेसिंह चौहान, विमला जमिहान, लोकेंद्र जैलदार, नरेंद्र चौहान, चमन चौहान, गोविद समरा एवं लायक राम सिसोदिया को कार्यकारिणी सदस्य चुना गया। महाखुमली में 14 परगनों के नंबरदार, जैलदार एवं हाटी प्रतिनिधि हुए शामिल

महाखुमली में क्षेत्र के 14 परगनों के नंबरदारों, जैलदारों एवं हाटी प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस मौके पर पूर्व शिक्षा मंत्री डा. राधारमण शास्त्री भी उपस्थित रहे। नवनियुक्त अध्यक्ष होमिद्र पोटन ने कहा कि सभी हाटी भाइयों के सहयोग से उपमंडल चौपाल और कुपवी को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिलवाने की मुहिम को आगे बढ़ाना उनकी प्राथमिकता रहेगी। संघर्ष समिति ने आगामी रणनीति पर चर्चा की

हाटी संगठन महामंत्री अमर सिगटा ने कहा कि चौपाल को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिलवाने के लिए संघर्षरत हाटी समुदाय में पूर्व शिक्षा मंत्री डा. राधारमण शास्त्री के इस बैठक में शामिल होने से एक नई ऊर्जा का संचार हुआ है। हाटी समिति के महासचिव राजेंद्र त्यागी, महामंत्री अमर सिगटा शास्त्री, सोहन सिंह, लाल सिंह पोटन, कांता कंवर, विमला जमिहान, वीना पोटन, कल्पना भगटा, सुशील दफराईक, मनोहर शर्मा, विक्रम हाटी, डा. दिनेश हाटी ने महाखुमली में शामिल होकर चौपाल क्षेत्र को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिलवाए जाने के लिए संघर्ष समिति की आगामी रणनीति पर चर्चा की।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept