2021 की इन आपदाओं ने दिए उम्रभर न भूलने वाले जख्‍म, रुलेहड़ गांव से लेकर मनूनी व गज खड्ड ने मचाई तबाही

Year Ender 2021 Kangra जिला कांगड़ा में साल भर प्राकृतिक आपदा व हादसों ने खूब रुलाया। कुछ हादसे सबक दे गए तो कुछ सबक बन गए। 12 जुलाई को हुई भारी बारिश तबाही लेकर आई। जिसमें कांगड़ा जिला की वोह घाटी का रुलेहड़ गांव मलबे में तब्दील हो गया।

Rajesh Kumar SharmaPublish: Wed, 29 Dec 2021 06:26 AM (IST)Updated: Wed, 29 Dec 2021 07:56 AM (IST)
2021 की इन आपदाओं ने दिए उम्रभर न भूलने वाले जख्‍म, रुलेहड़ गांव से लेकर मनूनी व गज खड्ड ने मचाई तबाही

धर्मशाला, नीरज व्यास। Year Ender 2021 Kangra, जिला कांगड़ा में साल भर प्राकृतिक आपदा व हादसों ने खूब रुलाया। कुछ हादसे सबक दे गए तो कुछ सबक बन गए। 12 जुलाई को हुई भारी बारिश तबाही लेकर आई। जिसमें कांगड़ा जिला की वोह घाटी का रुलेहड़ गांव मलबे में तब्दील हो गया। मांझी, गज खड्ड ने कयामत ढहाई तो भागसू नाला भी पर्यटकों के लिए आफत बन गया। कई बेघर हुए, कईयों को कारोबार में नुकसान हुआ तो कई लोगों को जान से हाथ धोना पड़ा। प्राकृतिक आपदा कुछ सबक देकर गई तो कई लोगों ने सबक लिया।

रुलेहड़ में मलबे में तब्दील हो गए मकान, दस लोगों की हुई मौत

कांगड़ा जिला की वोह घाटी में रुलेहड़ गांव मलबे में तब्दील हो गया। इस हादसे में दस लोगों की मौत हो गई। शवों को मलबे से निकालने के लिए जहां स्थानीय लोगों व स्थानीय प्रशासन की टीमें जुटी रही तो एनडीआरएफ की टीम व पोकलेन मशीन की मदद से मलबा हटाकर शव निकाले गये। मलबे से 10 शव निकाले गए, जबकि पांच सुरक्षित रेस्क्यू किए गए। राहत बचाव कार्य करीब एक सप्ताह तक चलता रहा। भारी भूस्खलन में 15 लोग दब गए थे, जिसमें से पांच लोगों को घायल हालत में निकाल लिया गया था। 10 लोग मलबे में दब गए थे, जिनमें से नौ लोगों के शव मलबे से पहले निकाल लिए गए थे। जबकि एक शव अंत में निकाला गया। एनडीआरएफ, पुलिस जवान और जिला प्रशासन के करीब 130 जवान लापता लोगों को ढूंढने में लगे थे। इस हादसे में भीम सिंह का पूरा परिवार तबाह हो गया। जबकि भीम सिंह ने अपनी जान देकर कई मासूम जानों को बचाया।

मांझी व गज खड्ड ने ढहाया खूब कहर, भागसू नाले से भी नुकसान

बारिश का पानी बढ़ने से मांझी, मनूनी व गज खड्ड में उफान आया था। कई सड़कें, पुल व पेयजल योजनाएं व सिंचाई योजनाएं इसकी भेंट चढ़ गईं, जबकि कई परिवार घरों से बेघर हो गए। चैतड़ू व शीला में कई परिवारों के घर बह गए तो कई दुकानदारों की दुकानों को पानी बहा ले गया था। तो कई स्कूलों में पानी जा घुसा। जिसके जख्म अभी भी हरे हैं। पर्यटन नगरी मैक्लोडगंज भागसू में नाले में एकाएक पानी बढ़ने से दुकान व वाहनों को नुकसान पहुंचा।

पहाड़ निगल गया सूफी सिंगर मनमीत सिंह को

धर्मशाला में बादल फटने के बाद से लापता चल रहे सूफी सिंगर मनमीत सिंह की लाश बरामद हुई। संगीत की दुनिया में 'सैन ब्रदर्स' की जोड़ी भी टूट गई। मनमीत पंजाब के अमृतसर के रहने वाले थे। 'दुनियादारी' गाने से उन्‍होंने खूब पॉप्‍युलैरिटी बटोरी थी। मनमीत का शव कांगड़ा के करेरी लेक के निकट एक नाले से बरामद हुआ।मनमीत सिंह अपने भाई कर्णपाल और कुछ दोस्तों के साथ धर्मशाला पहुंचे थे। सभी धर्मशाला से करेरी लेक घूमने गए थे। जब रात में बारिश शुरू हुई तो सभी वहीं रुक गए। इस दौरान भारी बारिश के बीच नाले में बहने से सिंगर की मौत हो गई।

आंगनबाड़ी व कुएं में घुस गया था मलबा

टटवाली पंचायत के नगोह गांव में में बारिश से नुकसान हुआ। एकाएक पानी का बहाव आ गया। घरों में पानी घुसा और आंगनबाड़ी व कुएं में मलबा घुस गया था। इसके अलावा विद्युत आपूर्ति व पेयजल आपूर्ति बाधित हो गई थी।

धर्मशाला के पहाड़ों में ट्रैकिंग पर गए दो दोस्त, नहीं लौटे जिंदा

धर्मशाला में पहाड़ों में ट्रैकिंग पर गए दो दोस्त जिंदा नहीं लौटे। जब परिजनों ने उनकी पड़ताल की तो स्थानीय लोगों व अन्य हायर ट्रैकरों व पुलिस तथा प्रशासन ने उन्हें तीन चार दिन तक तलाशा जिन्हें बाद में एक खाई में देखा गया और उनके श‌व वहां से घर लाए गए दोनों युवक धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र के थे।

पैराग्लाइडिंग से भी मिले जख्म

इंद्रुनाग पैराग्लाइडिंग साइट में गलती से ग्लाइडर से साथ ही युवक लटक गया और जिसकी कुछ दूरी पर ऊंचाई से गिरने के कारण मौत हो गई। इसी तरह से बैजनाथ बीड़ विलिंग में पैराग्लाइडंग के दौरान नगरोटा बगवां का युवक ग्लाइडर से गिर गया, जिस कारण उसकी मौत हो गई।

Edited By Rajesh Kumar Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept