देहरी कॉलेज में रिक्त पदों को न भरने पर एनएसयूआइ ने जताया रोष

प्रथम स्वतंत्रता सेनानी बजीर राम सिंह पीजी कॉलेज देहरी में कॉलेज समस्याओं को लेकर एनएसयूआइ ने संघर्ष का बिगुल बजा दिया है। एनएसयूआइ की इकाई ने प्रिंसिपल कार्यालय का घेराव किया। छात्र नेताओं कॉलेज कैंपस के रख रखाव को बेहतरीन बनाने के लिए मांग पत्र प्रिंसिपल को सौंपा था।

Richa RanaPublish: Fri, 10 Sep 2021 07:33 AM (IST)Updated: Fri, 10 Sep 2021 07:33 AM (IST)
देहरी कॉलेज में रिक्त पदों को न भरने पर एनएसयूआइ ने जताया रोष

राजा का तालाब, संवाद सूत्र। प्रथम स्वतंत्रता सेनानी बजीर राम सिंह पीजी कॉलेज देहरी में कॉलेज समस्याओं को लेकर एनएसयूआइ ने संघर्ष का बिगुल बजा दिया है। एनएसयूआइ की इकाई ने प्रिंसिपल कार्यालय का घेराव किया। छात्र नेताओं ने कुछ दिन पहले कॉलेज कैंपस के रख रखाव को बेहतरीन बनाने के लिए एक मांग पत्र प्रिंसिपल को सौंपा था। मांगों में कॉलेज कैंपस की सफाई, पानी की उचित एवं स्वच्छ व्यवस्था, जर्जर भवनों की मरम्मत और स्टाफ़ की कमी को पूरा किए जाने आदि कई प्रमुख समस्याएं शामिल थी।

कई दिन बीत जाने के बावजूद भी कॉलेज प्रशासन में इन मांगों की तरफ कोई ध्यान दिया जाना मुनासिब नहीं समझा। नतीजन क्रोधित छात्रों ने प्राचार्य का घेराव करके अपने मन की खूब भड़ास निकाली। छात्र नेताओं ने प्रिंसिपल होश में आओ के नारे लगाकर पढ़ाई को ठप रखा। इसी कड़ी में छात्रों की पढ़ाई भी बाधित हुई है। कहने को यह कॉलेज शिक्षा मंदिर, मग़र इसमें गंदगी की भरमार अक्सर देखने को मिलती है। स्टाफ की कमी खलती है। जिसके चलते छात्रों के पीटीए फंड पर स्टाफ रखकर कई दशकों से यह कॉलेज चलाया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: जिला कांगड़ा में कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या पहुंची 400, एहतियात बरतें लोग

गौरतलब है कि अंग्रेजों खिलाफ गाय हत्या का बिगुल बजाने बाले प्रथम स्वतंत्रता सेनानी,युग पुरुष, और बीर शिरोमणि बजीर राम सिंह पठानिया के नाम से यह पीजी कॉलेज देहरी चलाया जा रहा है। अगर इस कॉलेज में गंदगी की भरमार है। विद्यार्थियों ने कॉलेज में साफ सफाई रखने व रिक्त पदों को भरने की मांग की है। छात्रों ने चेतावनी दी है कि बार बार कहने के बाद भी उनकी समस्याओं का सामाधान नहीं हो रहा है। अगर जल्द ही समस्याओं का समाधान नहीं होता है तो आंदोलन को तेज किया जाएगा, इसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

Edited By Richa Rana

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept