अब चंद सेकंड में खुद जांच सकेंगे शराब असली है या नकली, बस करना होगा यह काम

Liquor Checking App हिमाचल प्रदेश राज्य में अवैध शराब के धंधे और इससे उत्पन्न गंभीर समस्या को रोकने के लिए आबकारी व कराधान विभाग ने ग्राहकों के हाथ में ही असली और नकली शराब की जांच का जिम्मा सौंपने की तैयारी कर ली है।

Virender KumarPublish: Sun, 23 Jan 2022 09:34 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 09:34 PM (IST)
अब चंद सेकंड में खुद जांच सकेंगे शराब असली है या नकली, बस करना होगा यह काम

बिलासपुर, जागरण संवाददाता। Liquor Checking App, हिमाचल प्रदेश राज्य में अवैध शराब के धंधे और इससे उत्पन्न गंभीर समस्या को रोकने के लिए आबकारी व कराधान विभाग ने ग्राहकों के हाथ में ही असली और नकली शराब की जांच का जिम्मा सौंपने की तैयारी कर ली है। इसके लिए पिछले एक साल से अलग-अलग स्तरों पर विभाग काम कर रहा था। सबसे महत्वपूर्ण पहल शराब की आपूर्ति श्रृंखला के एंड-टू-एंड ट्रैक और ट्रेस के लिए एक ई-गवर्नेंस परियोजना की शुरुआत है।

ट्रैक एंड ट्रेस प्रणाली के साफ्टवेयर को लांच करने के लिए पिछले एक साल के दौरान काफी काम किया जा चुका है। यह उल्लेख करना उचित है कि ट्रैक एंड ट्रेस समाधान की शुरुआत से न केवल राज्य कर और आबकारी विभाग बल्कि अंतिम उपभोक्ता भी लाभान्वित होंगे। शराब आपूर्ति श्रृंखला के सभी रिकार्ड आनलाइन रखे जाएंगे और इसे कहीं से भी वास्तविक समय के आधार पर प्राप्त किया जा सकता है। यह परियोजना अंतिम चरण में है और बहुत जल्द इसे लागू कर दिया जाएगा।

यह है विशेषता

इस प्रणाली की सबसे बड़ी विशेषता यह होगी कि असली व नकली शराब की पहचान करना उपभोक्ता के हाथ में रहेगा। इसके अंतर्गत शराब की प्रामाणिकता की जांच करने तथा वैध और अवैध शराब के बीच अंतर करने के लिए एक मोबाइल एप लांच किया जाएगा। अंतिम उपभोक्ता को बस मोबाइल एप डाउनलोड करना होगा और राज्य में बेची जा रही शराब की प्रामाणिकता को सत्यापित करने के लिए बोतल पर चिपकाए गए होलोग्राम पर उपलब्ध बारकोड को स्कैन करना होगा। होलोग्राम को स्कैन करते ही पता चल जाएगा कि शराब असली है या नक़ली और इस प्रकार अवैध शराब के धंधे पर लगाम लगायी जाएगी ।

इसके अलावा, राज्य आबकारी व कराधान विभाग के प्रवर्तन प्रकोष्ठ को भी मजबूत किया जाएगा, क्योंकि शराब के परिवहन के संबंध में डेटा चलते-फिरते आसानी से आनलाइन उपलब्ध होगा और बारकोड की स्कैनिंग के माध्यम से शराब की प्रामाणिकता को आसानी से पहचाना जा सकता है। बिलासपुर व शराब संघ के प्रमुख शराब ठेकेदार मोहिंदर ठाकुर ने कहा कि यह सुविधा सभी के उपयोगी साबित होगी। इसका हम स्वागत करेंगे।

इस आशय की पुष्टि हमीरपुर उप आयुक्त आबकारी एवं कराधान विभाग विकास गोरला ने की है।

Edited By Virender Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept