सिग्नल आफ, टेंशन आन

सुनील राणा देहरा उपमंडल देहरा के तहत विकास खंड परागपुर की पंचायत कलोहा के लोग इन दिनों मोबाइल फोन सिग्नल न होने से परेशानी में हैं। पंचायत के गांव सरड़ बम्मी-दो में करीब दो माह से किसी भी मोबाइल फोन कंपनी का सिग्नल नहीं है। इस वजह से सबसे ज्यादा परेशानी इन दिनों आनलाइन पढ़ाई करने वाले बच्चों को हो रही है। मजबूरी में बच्चे गांव के पास स्थित पहाड़ी पर जाकर पढ़ाई करते हैं आसपास सिर्फ यहीं पर सिग्नल आता है। लोगों ने प्रशासन से इस समस्या के समाधान की मांग की है।

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 06:00 AM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 06:00 AM (IST)
सिग्नल आफ, टेंशन आन

सुनील राणा, देहरा

उपमंडल देहरा के तहत विकास खंड परागपुर की पंचायत कलोहा के लोग इन दिनों मोबाइल फोन सिग्नल न होने से परेशानी में हैं। पंचायत के गांव सरड़ बम्मी-दो में करीब दो माह से किसी भी मोबाइल फोन कंपनी का सिग्नल नहीं है। इस वजह से सबसे ज्यादा परेशानी इन दिनों आनलाइन पढ़ाई करने वाले बच्चों को हो रही है। मजबूरी में बच्चे गांव के पास स्थित पहाड़ी पर जाकर पढ़ाई करते हैं, आसपास सिर्फ यहीं पर सिग्नल आता है। लोगों ने प्रशासन से इस समस्या के समाधान की मांग की है।

नेशनल हाईवे नंबर तीन जालंधर-मनाली से महज डेढ़ किलोमीटर दूर स्थित इस गांव में करीब 350 परिवार हैं। गांव तक पहुंचने के लिए पक्की सड़क भी है लेकिन मोबाइल फोन का सिग्नल न होना यहां पर सबसे बड़ी समस्या है। गांव के लोगों का कहना है कि करीब दो माह से यहां बीएसएनएल का सिग्नल भी पूरी तरह बंद पड़ा है। अन्य कंपनियों का सिग्नल भी न के बराबर है। सूचना प्रौद्योगिकी के इस दौर में मोबाइल फोन के जरिये सब कुछ आनलाइन किया जा सकता है, लेकिन स्मार्ट फोन होने के बाद भी वे लोग लाचार हैं।

..

बच्चों को पढ़ाई के लिए दूर पहाड़ी पर भेजना पड़ता है। देखभाल के लिए हमें भी साथ आना होता है। इससे हमारे कामकाज के साथ बच्चों की पढ़ाई पर भी असर पड़ रहा है। यदि सही ढंग से सिग्नल आए तो यह समस्या दूर हो सकती है।

-सीमा देवी, स्थानीय निवासी

..

यह गंभीर मामला है। हम अपने स्तर पर भी कई बार अधिकारियों से मांग कर चुके हैं। फिर भी समस्या दूर नहीं हुई। सिग्नल न आने की वजह से हर कोई परेशान है। हर समय पहाड़ी पर आकर फोन नहीं किया जा सकता।

दलजीत सिंह, उपप्रधान, कलोहा पंचायत

..

गुड़गांव में नौकरी करता हूं। काफी समय से वर्क फ्राम होम चल रहा है। अब सिग्नल न आने की वजह से ढलियारा में कमरा किराये पर लेकर रहता हूं। कहने को वर्क फ्राम होम है, लेकिन घर से बाहर ही हूं।

-अमित, स्थानीय निवासी

..

सिग्नल न आने की वजह से हमारे यहां रिश्तेदारों ने आना-जाना छोड़ दिया है। हम कई बार अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैं, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है।

-करतार सिंह, स्थानीय निवासी

---

इलाके में लगे टावर से सिग्नल में काम आने वाले कार्ड चोरी होने की वजह से यह समस्या पैदा हुई है। सामान उपलब्ध होते ही यह समस्या दूर कर दी जाएगी।

-अक्षय कुमार, एसडीओ बीएसएनएल

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept