हिमाचल प्रदेश: सुंदरनगर में जहरीली शराब पीने से दो और लोगों की मौत, प्रशासन ने एडवायजरी जारी की

Himachal Pradesh Mandi Sundernagar हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी जहरीली शराब से मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। वीरवार सुबह दो और लोगों की मौत हो गई। सीता राम पुत्र बंगालू राम निवासी खनयोड तहसील सुंदरनगर ने घर में दम तोड़ दिया।

Rajesh Kumar SharmaPublish: Thu, 20 Jan 2022 08:43 AM (IST)Updated: Thu, 20 Jan 2022 10:35 AM (IST)
हिमाचल प्रदेश: सुंदरनगर में जहरीली शराब पीने से दो और लोगों की मौत, प्रशासन ने एडवायजरी जारी की

मंडी, जागरण संवाददाता। Himachal Pradesh Mandi Sundernagar, हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी जहरीली शराब से मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। वीरवार सुबह दो और लोगों की मौत हो गई। सुबह दस बजे के बाद नेरचौक मेडिकल कालेज में एक और व्यक्ति को मृत अवस्था में लाया गया। 40 साल का मेहर सिंह सुंदरनगर उपमंडल के चौक का रहने वाला है। बताया जा रहा है व्‍यक्ति ने तारपीन पी है। लेकिन पुलिस मामले की जांच कर रही है।

इसके अलावा अल सुबह सीता राम पुत्र बंगालू राम निवासी खनयोड तहसील सुंदरनगर ने घर में दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है सीता राम ने 17 जनवरी को शराब पी थी। सीता राम मिस्त्री का काम करता था। स्वजन को कमरे में शीतल पेयजल की बाेतल में शराब मिली हुई मिली है। पुलिस ने बोतल व शव कब्जे में लिया है। भगत राम की वीरवार तड़के मौत हो गई, यह नेरचौक मेडिकल कालेज में उपचाराधीन था।

जहरीली शराब के दो और मामले सामने आए। दोनों नेरचौक मेडिकल कॉलेज में भर्ती किए गए हैं। 45 वर्षीय नीरज कुमार पुत्र लेह राम निवासी सलापड़ व 48 वर्षीय जीत राम पुत्र नगारू राम निवासी बारी ध्‍वाल को सुबह नेरचौक में उपचाराधीन किया गया।

इसके अलावा जहरीली शराब पीने से गणपत की हालत नाजुक है, आधी रात को आईजीएमसी शिमला रेफर किया गया है। अभी तीन और लोगों की हालत नाजुक बताई जा रही है। बुधवार को पांच लोगों की मौत हुई थी, इस तरह अब तक सात लोग जान गंवा चुके हैं।

सलापड, ध्वाल व कांगू पंचायत में आज स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम घर-घर जाएगी। उपायुक्त मंडी अरिंदम चौधरी ने तीनों पंचायत के लोगों से अपील की है कि अगर किसी के पास घर में शराब पड़ी है तो उसका सेवन न करें। जिन लोगों ने 17 जनवरी से शराब पी है, वह उपचार के लिए खुद सामने आएं।

प्रशासन ने इस मामले की जांच के लिए आइजी मधुसूदन की अध्‍यक्षता में एसआइटी गठित कर दी है। इसमें जो भी संलिप्‍त पाया गया, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई तय है। सरकार व प्रशासन ने मृतकों के परिवार को आठ-आठ लाख रुपये मुआवजा देने का निर्णय लिया है। इसके अलावा 50-50 हजार रुपये मौके पर फौरी राहत प्रदान की गई है।

Edited By Rajesh Kumar Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept