Earthquake In Chamba: भूकंप के झटकों से हिली हिमाचल की धरती, जानिए छोटे झटके क्‍यों हैं फायदेमंद

Himachal Pradesh Earthquake चंबा में भूकंप के झटके महसूस किए गए। एक ही दिन में चार बार भूंकप के झटके आए। इसके कारण किसी भी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ है। चंबा में भूंकप रविवार सुबह 1.19 बजे आया इसका केंद्र चंबा में जमीन से दस किलोमीटर नीचे था।

Rajesh Kumar SharmaPublish: Sun, 05 Dec 2021 12:26 PM (IST)Updated: Sun, 05 Dec 2021 12:26 PM (IST)
Earthquake In Chamba: भूकंप के झटकों से हिली हिमाचल की धरती, जानिए छोटे झटके क्‍यों हैं फायदेमंद

शिमल, तीसा, जागरण टीम। Earthquake In Chamba, चंबा में भूकंप के झटके महसूस किए गए। एक ही दिन में चार बार भूंकप के झटके आए। इसके कारण किसी भी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ है। चंबा में भूंकप रविवार सुबह 1.19 बजे आया इसका केंद्र चंबा में जमीन से दस किलोमीटर नीचे था। भूकंप की तीव्रता 3.8 मापी गई। कुछ ही घंटों में भूकंप के चार झटके आए हालांकि इनका केंद्र देश के अलग-अलग स्थानों पर रहा। भूकंप का पहला झटका देर रात 12.23 बजे आया और इसका केंद्र उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल में जमीन से दस किलोमीटर नीचे था। इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.2 मापी गई। टिहरी गढ़वाल में भूंकप का दूसरा झटका सुबह 2.02 बजे आया और इसकी तिव्रता 3.8 मापी गई। इसके बाद 6.34 बजे एक और भूकंप का झटका असम में आया और इसकी तीव्रता 2.8 मापी गई।

भूकंप के छोटे क्‍याें होते हैं फायदेमंद

हिमाचल प्रदेश भूकंप के लिए अति संवेदनशील है और इसे जाेन चार और पांच में रखा गया है। इससे पूर्व 24 नवंबर को एक ही दिन में चार बार शिमला में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इसके बाद 26 नवंबर को भी शिमला में भूकंप के झटके महसूस किए गए। विशेषज्ञों के अनुसार लगातार भूकंप के झटके आने से बड़े झटकों की संभावनाएं कम हो जाती हैं। इससे फायदा ही होता है।

चंबा में सहमे लोग

रात को भूकंप के झटके लगने से लोग दहशत में आ गए तथा घरों से बाहर निकल आए। हालांकि, कुछ ही पलों में झटके लगने बंद हो गए, जिससे लोगों ने राहत की सांस ली। लेकिन दहशत में लोग काफी देर तक घरों के बाहर ही रहे। लोगों को यह भय सता रहा था कि कहीं दोबारा से भूकंप न आ जाए। कुछ माह से हिमाचल के चंबा में भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं, जिसे लेकर लोगों में दहशत का माहौल है। चंबा जिला में एक समय के अंतराल के बाद भूकंप की कंपन महसूस की जा रही है।

क्‍या कहते हैं उपायुक्‍त चंबा

उधर, उपायुक्त चंबा डीसी राणा ने बताया कि भूकंप के कारण अभी तक किसी भी प्रकार का जानमाल का नुकसान होने की सूचना नहीं मिली है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि जब भी भूकंप आए तो लोग आपदा प्रबंधन को लेकर बनाए जाने वाले उपाय अपनाते हुए स्वयं को सुरक्षित करें, ताकि नुकसान न हो।

चंबा में साल भर में आए भूकंप के झटके

इससे पहले भी जिला चंबा में भूकंप के झटके महसूस किए गए। 16 नवंबर को चंबा में आए भूकंप की तीव्रता 3.4 मापी गई थी। वहीं, इससे पहले जनवरी माह में आए भूकंप की तीव्रता 3.2 थी। मार्च में आए भूकंप की तीव्रता 3.6 थी। अप्रैल में आए भूकंप की तीव्रता 2.4 थी। जुलाई में भी 2.6 तीव्रता के झटके महसूस किए गए थे। जिला में लगातार एक अंतराल के बाद भूकंप के झटके महसूस होने से लोग सहमे हुए हैं। लोगों का कहना है कि उन्हें इस बात का भय रहता है कि पता नहीं कब भूकंप आ जाए। हलके झटकों से तो इतना नुकसान नहीं होता है। लेकिन, यदि भूकंप की तीव्रता अधिक हो तो जानमाल का नुकसान होने की आशंका रहती है।

Edited By Rajesh Kumar Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept