This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

धाैलाधार की पहाड़ियों ने ओढ़ी बर्फ की चादर, धर्मशाला के इन पर्यटन स्‍थलों तक पहुंची बर्फ, पढ़ें खबर

Snowfall on Dhauladhar कई सप्ताह के बाद जिला कांगड़ा में मौसम से करवट लेते हुए शीत लहर चलाई है। बुधवार दोपहर बाद बदले मौसम से धौलाधार के ऊपरी क्षेत्रों में बर्फवारी शुरू हो गई। त्रियुंड अप्‍पर बनगोटू अप्पर नड्डी ठठराना श्री हिमानी चामुंडा मंदिर बिलिंग क्षेत्रों ताजा बर्फबारी हुई है।

Rajesh Kumar SharmaThu, 04 Feb 2021 10:05 AM (IST)
धाैलाधार की पहाड़ियों ने ओढ़ी बर्फ की चादर, धर्मशाला के इन पर्यटन स्‍थलों तक पहुंची बर्फ, पढ़ें खबर

धर्मशाला, जेएनएन। Snowfall on Dhauladhar, कई सप्ताह के बाद जिला कांगड़ा में मौसम से करवट लेते हुए शीत लहर चलाई है। बुधवार दोपहर बाद बदले मौसम से धौलाधार के ऊपरी क्षेत्रों में बर्फवारी शुरू हो गई है। आज यानी वीरवार सुबह तक धौलाधार की ऊपरी क्षेत्र त्रियुंड, अप्‍पर बनगोटू, अप्पर नड्डी, ठठराना, श्री हिमानी चामुंडा मंदिर, बिलिंग क्षेत्रों ताजा बर्फबारी हुई है। इन क्षेत्रों में बर्फबारी को दौर अभी तक जारी है। इसके अलावा निचले क्षेत्रों में रुक कर बारिश हो रही है। पिछले कुछ दिनों से धूप खिलने के चलते लोगों में गर्म कपड़े पहनना कम कर दिए थे। अब एकाएक बढ़ी ठंड के चलते पुन: लोगों के गर्म कपड़े पहन लिए हैं।

यह भी पढ़ें: Snowfall in Shimla: शिमला शहर में चार इंच बर्फबारी, फ‍िसलन से सड़कें बंद; पर्यटकों के वाहन फंसे

जिला मुख्यालय धर्मशाला में बुधवार रात न्यूनमत तापमान 3 डिग्री तक रहा, जबकि अधिकतम 7 डिग्री तक था। अब सर्द मौसम में भी 10 किलाेमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से सर्द हवाएं चल रही हैं। सर्द हवाओं के चलते ठंड का प्रकोप ओर अधिक लग रहा है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक शुक्रवार को क्षेत्र में मौसम में थोड़ा सुधार होगा और बर्फबारी का दौर थम जाएगा, लेकिन हल्की बारिश जारी रहेगी।

इस बर्फबारी से लोग खुश भी हैं, क्योंकि पिछले दिनों धौलाधार की पहाड़ों से बर्फ गायब होने लग पड़ी थी। लोगों का कहना है कि अगर इन दिनों की पहाड़ खाली हो जाएंगे, तो गर्मियों के दिनों के पेयजल का संकट गहराएगा। इसके अलावा निचले क्षेत्रों के हुई बारिश गेंहू की फसल के लिए अच्छी है। इस बारिश से फसल की ग्रोथ तेजी से होगी।

कांगड़ा में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!