This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

अस्‍पताल देरी से जाने और लक्षणों की अनदेखी के कारण गंभीर हालत में पहुंच रहे मरीज, जानिए विशेषज्ञों की राय

Dr Suggestions On Coronavirus हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। नए मामले आने के साथ साथ संक्रमण से मौत का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है। खांसी जुकाम बुखार सांस लेने में परेशानी होने पर तुरंत डाक्टरी परामर्श लें।

Rajesh Kumar SharmaTue, 18 May 2021 07:22 AM (IST)
अस्‍पताल देरी से जाने और लक्षणों की अनदेखी के कारण गंभीर हालत में पहुंच रहे मरीज, जानिए विशेषज्ञों की राय

शिमला, जेएनएन। Dr Suggestions On Coronavirus, हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। नए मामले आने के साथ साथ संक्रमण से मौत का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है। खांसी, जुकाम, बुखार, सांस लेने में परेशानी होने पर तुरंत डाक्टरी परामर्श लें। कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है, इसलिए जरूरी है समय रहते एहतियात बरती जाए। जिला निगरानी अधिकारी शिमला डा. राकेश भारद्वाज का कहना है अस्पताल देरी से जाने पर मरीज गंभीर हालत में पहुंच रहे हैं। कोरोना का सामुदायिक फैलाव हो चुका है, इसलिए लापरवाही न बरतें। लक्षण नजर आने पर सबसे पहले खुद को घर पर आइसोलेट कर लें।

यह भी पढ़ें: कोरोना को हराने लगा हौसला, हिमाचल में कर्फ्यू के दौरान स्‍वस्‍थ होने की दर 75.50 फीसद हुई, देखिए आंकड़े

यह भी पढ़ें: उच्च रक्तचाप के मरीजों के लिए कोरोना ज्यादा खतरनाक, 35 फीसद पहाड़ी लोग भी इसकी चपेट में, जानिए बचाव के उपाय

यह भी पढ़ें: कोविड वैक्‍सीनेशन के बाद कुछ समय के लिए डाउन होती है इम्‍यूनिटी, जानिए किस तरह बरतें सावधानी

नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जाकर या ऑनलाइन ओपीडी के माध्यम से डाक्टरों से इस बारे में बात करें। संक्रमण हाथ के माध्यम से नाक, मुंह और आंखों के जरिये शरीर में प्रवेश करता है। कार्यक्षेत्र में काम करने व अन्य आवश्यक काम करने के लिए घर से बाहर निकलें तो सार्वजनिक स्थलों पर यहां-वहां हाथ न लगाएं। हाथ को बार-बार साबुन लगाकर धोते रहें। दिन में बार-बार हाथ धोने को आदत बना लें। कम से कम 20 सेकंड तक हाथ धोने की प्रक्रिया को जारी रखें। ऐसा करके काफी हद तक संक्रमण को खत्‍म किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: कांगड़ा में मां की मृत्यु के पांच दिन बाद कोरोना ने बेटे की भी ले ली जान, टांडा मेडिकल कॉलेज में तोड़ा दम

यह भी पढ़ें: अस्‍पताल देरी से जाने और लक्षणों की अनदेखी के कारण गंभीर हालत में पहुंच रहे मरीज, जानिए विशेषज्ञों की राय

Edited By: Rajesh Kumar Sharma

कांगड़ा में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!