Dharamshala Ropeway: पर्यटकों के लिए रोमांच का सफर शुरू, पांच मिनट में करें मैक्‍लोडगंज की सैर

Dharamshala Mcleodganj Ropeway धर्मशाला की वादियों में घूमने आ रहे पर्यटकों के लिए अच्‍छी खबर है। अब धर्मशाला से मैक्‍लोडगंज का सफर महज नौ मिनट में बिना जाम में फंसे तय कर पाएंगे। आज से रोमांच का सफर शुरू हो गया है

Rajesh Kumar SharmaPublish: Wed, 19 Jan 2022 11:25 AM (IST)Updated: Wed, 19 Jan 2022 03:21 PM (IST)
Dharamshala Ropeway: पर्यटकों के लिए रोमांच का सफर शुरू, पांच मिनट में करें मैक्‍लोडगंज की सैर

धर्मशाला, जागरण संवाददाता। Dharamshala Mcleodganj Ropeway, धर्मशाला की वादियों में घूमने आ रहे पर्यटकों के लिए अच्‍छी खबर है। अब धर्मशाला से मैक्‍लोडगंज का सफर महज पांच मिनट में बिना जाम में फंसे तय कर पाएंगे। आज से रोमांच का सफर शुरू हो गया है और धर्मशाला के विकास के अध्याय में एक और नाम जुड़ गया है, जिसके लिए पर्यटक यहां पर आएंगे। धर्मशाला से मैक्लोडगंज तक बने रोपवे को मुख्यमंत्री ने लोकार्पित किया। 207 करोड़ रुपये की इस परियोजना से पर्यटक के विकास को पंख लगने की उम्मीद है।

इससे पहले धर्मशाला को परमपावन दलाई लामा की शरणस्थली के कारण विश्व मानचित्र में जाना जाता था उसके बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम के कारण विश्व ख्याति मिली और धर्मशाला व मैक्लोडगंज का नाम विश्व के पर्यटकों तक पहुंचा और पर्यटकों ने यहां दस्तक देने शुरू की। अब एक नया अध्याय इसके साथ जुड़ गया है। धर्मशाला से मात्र नौ मिनट में हवा में मैक्लोडगंज तक सफर किया जा सकेगा।

मुख्यमंत्री ने रोपवे से प्राकृतिक सौंदर्यों को निहारा

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रोपवे का उद्घाटन करके के बाद कैबिन में सवार होकर हवा से प्राकृतिक सौंदर्य को निहारा। उनके साथ विधायक विशाल नैहरिया भी धर्मशाला से मैक्लोडगंज तक गए व प्राकृतिक सौंदर्य को रोप वे से निहारा।

पांच सौ रुपये होगा अनुमानित किराया

रोपवे का आनंद उठाने के लिए पांच सौ रुपये किराया खर्च करना पड़ेगा। एक तरफ का 340 रुपये किराया तय किया गया है, जबकि दोनों तरफ के सफर के लिए पांच सौ रुपये देने होंगे। तीन साल से छोटे बच्‍चों के लिए टिकट नहीं लेनी पड़ेगी।

पौने दो किलोमीटर लंबा है रोपवे

रोपवे की लंपाई पौने दो किलोमीटर है। इसका बेस टर्मिनल धर्मशाला बस अड्डे और ऊपरी टर्मिनल को दलाई लामा बौद्ध मठ के समीप स्थापित किया गया है। इसके लिए 13 टावरों के साथ एक मोनो केबल डिटेचेबल गोंडोला केबिन सिस्टम रोपवे में शामिल है। प्रति एक घंटे एक हजार लोगों को लाने व ले जाने की इसकी क्षमता है। जबकि धर्मशाला से मैक्लोडगंज करीब दस किलोमीटर दूर है।

यह भी पढ़ें: धर्मशाला से मैक्‍लोडगंज रोपवे: दिन में 18 घंटे मिलेगी सुविधा, पांच लाख का बीमा कवर भी

 207 करोड़ से तैयार हुई परियोजना

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने धर्मशाला मैक्लोडगंज रोपवे को लोकार्पित किया। इस पूरी परियोजना के लिए 207 करोड़ रुपये का खर्चा हुआ है और परियोजना को टाटा कंपनी ने पूरा किया है। इस परियोजना के लिए 2015 में हिमाचल सरकार के से साथ अनुबंध किया था और यह परियोजना 2018 में बनना शुरू हुई और अब लोगों के लिए उपलब्ध है। धर्मशाला से मैक्लोडगंज तक जाने व आने के लिए पांच सौ रुपये किराया प्रति व्यक्ति निर्धारित किया है जबकि एक तरफ का तीन सौ रुपये तय है। इस परियोजना के शुरू होने से पर्यटन को पंख लगेंगे।

Edited By Rajesh Kumar Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept