राव तुलाराम जैसी महान शख्सियत हमारे लिए प्रेरणास्रोत : कमलेश ढांडा

समारोह में दिए संदेश में महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि 1950 में आज ही के दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। इसी संविधान के कारण हम सभी को समान न्याय स्वतंत्रता एवं समानता का अधिकार मिला।

Prateek KumarPublish: Wed, 26 Jan 2022 08:12 PM (IST)Updated: Wed, 26 Jan 2022 08:12 PM (IST)
राव तुलाराम जैसी महान शख्सियत हमारे लिए प्रेरणास्रोत : कमलेश ढांडा

रेवाड़ी [अमित सैनी ]। प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के महानायकों में शामिल अमर शहीद राव तुलाराम की पावन धरती पर आना उनके लिए सौभाग्य की बात है। रेवाड़ी वो इलाका है, जहां कण-कण में शौर्य की गाथाएं गढ़ी गई हैं। राज्य मंत्री ने कहा कि वह गणतंत्र दिवस के इस पावन अवसर पर रेवाड़ी जिला की धरा की उन माताओं, बहनों को नमन करती हैं, जिन्होंने वीर सपूतों को जन्म दिया है। आज भी हरियाणा के नौजवान सेना में भर्ती होना अपनी शान समझते हैं। यही कारण है कि भारतीय सेना का हर दसवां जवान हरियाणा से है।

महिला एवं बाल विकास मंत्री बुधवार को जिला मुख्यालय स्थित राव तुलराम स्टेडियम में आयोजित 73वें जिलास्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के उपरांत जिलावासियों को अपना संदेश दे रही थीं। समारोह में पहुंचने से पहले महिला एवं बाल विकास मंत्री ने राव तुलाराम स्टेडियम परिसर में बने शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित कर वीर शहीदों की शहादत को सलाम किया। स्टेडियम में मुख्यातिथि कमलेश ढांडा ने ध्वज फहराने के उपरांत परेड का निरीक्षण किया और मार्च पास्ट की सलामी ली। जिला प्रशासन के अधिकारीगण ने मुख्यातिथि का समारोह में पहुंचने पर स्वागत किया।

समारोह में दिए संदेश में महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि 1950 में आज ही के दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। इसी संविधान के कारण हम सभी को समान न्याय, स्वतंत्रता एवं समानता का अधिकार मिला। उन्होंने कहा कि मैं बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर सहित संविधान सभा के तमाम सदस्यों को नमन करती हूं। गणतंत्र दिवस के साथ हमारे देशभक्तों के त्याग और बलिदान की एक लंबी गौरवगाथा जुड़ी हुई है। देश को आजादी दिलाने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, शहीद भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, चंद्रशेखर आजाद और उधम सिंह जैसे अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने लंबा संघर्ष किया।

राज्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने युद्ध के दौरान शहीद हुए हरियाणा के सैनिकों और अर्ध-सैनिक बलों के जवानों की अनुग्रह राशि 20 लाख रुपये से बढ़ाकर 50 लाख रुपये की है। इसी प्रकार, आई.ई.डी. बलास्ट में शहीद होने पर भी अनुग्रह राशि 20 लाख रुपये से बढ़ाकर 50 लाख रुपये की गई है। युद्ध अथवा आतंकवादियों से मुठभेड़ या किसी अन्य घटना के दौरान घायल हुए सैनिकों और अर्ध-सैनिक बलों के जवानों की अनुग्रह राशि नि:शक्ता के आधार पर बढ़ाकर 35 लाख रुपये, 25 लाख रुपये और 15 लाख रुपये की गई है। सरकार ने सैनिकों के कल्याण के लिए आठ जिलों में एकीकृत सैनिक सदन बनाने का निर्णय लिया है। इन पर करीब 100 करोड़ रुपये की लागत आएगी।

सबका साथ-सबका विकास’ हरियाणा सरकार का मूलमंत्र

महिला एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि हरियाणा में भी मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में मौजूदा सरकार ‘सबका साथ-सबका विकास’ के मूलमंत्र पर प्रदेश के हर क्षेत्र का समान विकास करवाने के लिए प्रयासरत है। राज्य सरकार ने व्यवस्था परिवर्तन एवं सुशासन के पथ पर चलते हुए कई अनूठी पहल की हैं। इनमें युवाओं को योग्यता के आधार पर सरकारी नौकरी, कर्मचारियों का ऑनलाइन तबादला, राशन, पेंशन, वजीफों, सब्सिडी में चल रहे फर्जीवाड़े को बंद करना आदि शामिल है। आज हरियाणा की गिनती देश के सर्वाधिक विकसित राज्यों में होती है। हरियाणा देश का पहला राज्य है, जहां पढ़ी-लिखी पंचायतें हैं।

मंत्री ने कहा कि हरियाणा देश का पहला राज्य है, जहां हैपेटाइटिस-सी व बी की दवाइयां मुफ्त उपलब्ध करवाई जा रही हैं। एनीमिया मुक्त भारत कार्यक्रम में हरियाणा को देश में प्रथम स्थान मिला है। हरियाणा ऐसा पहला प्रमुख राज्य बन गया है, जहां प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डी.बी.टी.) के माध्यम से शत-प्रतिशत लाभार्थियों के खाते में सामाजिक सुरक्षा पेंशन भेजी जा रही है। प्रदेश में हर व्यक्ति को उसके घर-द्वार पर ही सरकार की योजनाओं व सेवाओं का लाभ मिले, इसके लिए विभिन्न विभागों की योजनाओं व सेवाओं को ऑनलाइन किया जा रहा है।

कमलेश ढांडा ने कहा कि ‘मेरा परिवार-मेरी पहचान’ कार्यक्रम के तहत सभी परिवारों के परिवार पहचान-पत्र बनाए जा रहे हैं। राज्य सरकार द्वारा लगभग 27 लाख लाभापात्रों की सामाजिक सुरक्षा पेंशन को परिवार पहचान-पत्र से जोड़ा गया है। प्रदेश के सबसे गरीब परिवारों का जीवन स्तर ऊंचा उठाने के लिए ‘मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना‘ चलाई जा रही है। इसके तहत सबसे गरीब परिवारों की पहचान करके उनकी वार्षिक आय कम से कम 1.80 लाख रुपये की जाएगी। इस योजना के तहत अब तक एक लाख रुपये से कम वार्षिक आय वाले लगभग 1 लाख 49 हजार परिवारों की पहचान की गई है। मार्च, 2022 तक 1 लाख परिवारों के उत्थान का लक्ष्य है।

प्रदेश में बी.पी.एल.परिवारों की वार्षिक आय सीमा 1 लाख 20 हजार रुपये से बढ़ाकर 1 लाख 80 हजार रुपये की गई है ताकि ज्यादा से ज्यादा परिवारों को गरीब कल्याण से जुड़ी योजनाओं का लाभ मिल सके। ‘मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना‘ के तहत बी.पी.एल. परिवारों को 6 हजार रुपये वार्षिक सहायता दी जा रही है। ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ के तहत कोविड महामारी के मद्देनजर मार्च-2022 तक मुफ्त राशन दिया जाएगा। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ के तहत रेहड़ी-फड़ी वालों को अपना काम शुरू करने के लिए 10 हजार रुपये तक का ऋण दिया जा रहा है। ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ के तहत गरीबों के लिए 75,000 मकान बनाए गए हैं।

महिला एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आई है। इस महामारी से लडऩे के लिए किए जा रहे टीकाकरण में भारत विश्व में पहले स्थान पर है। हरियाणा में भी युद्ध स्तर पर टीकाकरण किया जा रहा है। अठारह वर्र्ष से अधिक आयु के शत-प्रतिशत लोगों को पहली डोज और 79 प्रतिशत लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। वहीं, 15 से 18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों का भी टीकाकरण किया जा रहा है। इसके तहत लगभग 8 लाख बच्चों को वैक्सीन की पहली डोज लगाई जा चुकी है। साथ ही, करीब 56 हजार लोगों को बूस्टर डोज भी लगाई जा चुकी है। प्रदेश में सभी कोरोना मरीजों का इलाज व टीकाकरण मुफ्त किया जा रहा है। कोविड-19 महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों के पुनर्वास और सहायता के लिए ‘मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’के तहत प्रति बच्चा 2500 रुपये मासिक सहायता दी जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार किसान, गरीब व जरूरतमंद हर वर्ग के लोगों को लाभांवित करने के लिए प्रभावी कदम उठा रही है।

महिला सुरक्षा एवं सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध सरकार

महिला एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार महिला सुरक्षा एवं सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध है। ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ कार्यक्रम के फलस्वरूप प्रदेश में जन्म के समय लिंगानुपात की दर में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। दिसंबर, 2021 तक हरियाणा में प्रति हजार लडक़ों पर 914 बेटियां जन्म ले रही हैं। सरकार का लक्ष्य इस आंकड़े को बढ़ाकर 950 तक लेकर जानें का है। मुख्यमंत्री दूध उपहार योजना’ के तहत गर्भवती महिलाओं को फोर्टिफाइड मीठा सुगंधित दूध दिया जा रहा हैं। महिला एवं किशोरी सम्मान योजना’ के तहत बी.पी.एल. परिवारों की किशोंरयों व महिलाओं को सैनेटरी पैड मुफ्त उपलब्ध करवाये जा रहे हैं। गर्भवती एवं स्तनपान करवाने वाली महिलाओं के स्वास्थ्य में सुधार के लिए ‘प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना‘ को लागू करने में हरियाणा को देश में तीसरा स्थान मिला है। महिलाओं की सुरक्षा के लिए महिला हैल्पलाइन-1091 और दुर्गा शक्ति एप, दुर्गा शक्ति रेपिड एक्शन फोर्स और दुर्गा शक्ति वाहिनी की स्थापना की गई है।

घर से दो किलोमीटर से अधिक दूरी वाले स्कूलों की 9वीं से 12वीं तक की छात्राओं के लिए ‘‘छात्रा परिवहन सुरक्षा योजना‘‘आरम्भ की गई है। महिलाओं को पंचायती राज संस्थाओं में 50 प्रतिशत प्रतिनिधित्व दिया गया है। राज्य सरकार हरियाणा पुलिस में महिला पुलिस कर्मियों की संख्या 15 प्रतिशत करने के लिए कृत-संकल्प है। उन्होंने कहा कि युवा प्रतियोगी परीक्षाओं में अग्रणी रहें, इसके लिए सुपर-100 प्रोग्राम चलाया जा रहा है, इसका एक केन्द्र रेवाड़ी में भी है। यह गर्व की बात है कि इसके तहत कोचिंग पाने वाले विद्यार्थी आई.आई.टी. मेन्स और नीट जैसी राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाओं में मैरिट में स्थान प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ओजस्वी मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में ‘सबका साथ-सबका विकास’ के मूलमंत्र और पण्डित दीनदयाल उपाध्याय जी के ‘अंत्योदय’ के दर्शन पर चलते हुए प्रदेश की तस्वीर बदली है, लोगों की तकदीर बदली है। प्रदेश की आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक संस्कृति में बड़ा बदलाव किया है। समान विकास, जन-जन के कल्याण और भ्रश्टाचार मुक्त व्यवस्था के माध्यम से प्रदेशवासियों को एक नये विश्वास का अहसास कराया है।

समारोह की मुख्यातिथि महिला एवं बाल विकास मंत्री ने विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों को सम्मानित किया। जिला प्रशासन की ओर से महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती ढांडा को एडीसी जयदीप कुमार व डीआईपीआरओ दिनेश कुमार ने समारोह के आगाज के दौरान फहराए गए राष्ट्रीय ध्वज का चित्र सम्मान पूर्वक भेंट कर अभिनंदन किया। वहीं समारोह के समापन अवसर पर एडीसी जयदीप कुमार , सीटीएम देवेंद्र शर्मा ने मुख्यातिथि को स्मृति चिह्नï भेंट करते हुए उनका धन्यवाद व्यक्त किया।

समारोह में ये सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए

गणतंत्र दिवस समारोह में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की श्रंखला में नेता जी सुभाष चन्द्र बोस की 125वीं जयंती के उपलक्ष्य में नेता जी के जीवन वृतांत को दर्शाती हरियाणवी लोक शैली में आर्टिस्ट मुकेश कुमार द्वारा रागिनी की प्रस्तुति दी गई। वहीं लावण्या फाउंडेशन द्वारा हरियाणवी संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए समूह नृत्य प्रस्तुत किया गया। आजादी अमृत महोत्सव के तहत देशभक्ति से सराबोर सांस्कृतिक प्रस्तुतियां जिला के संगीत विधा से जुड़े शिक्षक वर्ग द्वारा दी गई। गणतन्त्र दिवस समारोह में विभिन्न विभागों की ओर से सरकार की नीतियों से संबंधित झांकियों को भी प्रदर्शन किया गया। जिला के डीपीई व पीटीआई द्वारा 75 करोड़ सूर्य नमस्कार लक्ष्य के तहत सूर्य नमस्कार की क्रियाएं भी की गई।

गणतंंत्र दिवस समारोह में आयोजित परेड में परेड कमांडर की भूमिका अंडर ट्रेनिंग आईपीएस ऑफिसर जसलीन कौर ने निभाई। उनके नेतृत्व में जिला पुलिस की टुकड़ी की अगुवानी पीएसआई देवीलाल ने की। महिला पुलिस टुकड़ी का नेतृत्व लवली देवी, होम गार्ड की टुकड़ी का नेतृत्व एएसआई सुधीर कुमार, एनसीसी सीनियर विंग बॉयज की टुकड़ी का नेतृत्व कैडेट नितिन राठी, एनसीसी गल्र्स की टुकड़ी का नेतृत्व कैडेट मनीषा भारद्वाज द्वारा किया गया।

समारोह में ये रहे मौजूद

जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में कोसली से विधायक लक्ष्मण सिंह यादव, हरको बैंक के चेयरमैन डॉ अरविन्द यादव, नप चेयरपर्सन पूनम यादव, भाजपा जिला अध्यक्ष मास्टर हुकमचंद, जेजेपी जिला अध्यक्ष श्याम सुंदर सभ्रवाल सहित जिला एवं सत्र न्यायाधीश दिनेश कुमार मित्तल, रेवाड़ी रेंज आईजी एम.रविकिरण, पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार, एडीजे सुनील कुमार, सीजीएम कपिल राठी, एडीसी जयदीप कुमार, एसडीएम सिद्धार्थ दहिया, सीटीएम देवेन्द्र शर्मा, डीआईपीआरओ दिनेश कुमार, एआईपीआरओ सुरेश कुमार गुप्ता, प्रवक्ता सत्यवीर नाहडिय़ा व प्रवक्ता डा.ज्योत्स्ना यादव सहित जिले के विभिन्न विभागों के अधिकारी व गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

उपमंडल स्तर पर भी मनाया गया 73वां गणतंत्र दिवस

जिला के उपमंडल बावल व कोसली में भी उपमंडल स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह मनाया गया। उपमंडल बावल में एसडीएम संजीव कुमार तथा उपमंडल कोसली में एसडीएम होशियार सिंह ने ध्वज फहराकर परेड का निरीक्षण किया और मार्च पास्ट की सलामी ली।

Edited By Prateek Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept