केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने की अनिल विज की तारीफ, कहा-हरियाणा ने कोरोना वैक्सीनेशन में किया बेहतर काम

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की सराहना की है। मनसुख मांडविया ने कहा-‘हरियाणा ने वैक्सीनेशन में अच्छा काम किया इसके लिए वह बधाई के पात्र। आरटीपीसीआर टेस्ट और बफर स्टॉक को लेकर भी केंद्रीय मंत्री से हरियाणा को मिली सराहना।

Rajesh KumarPublish: Wed, 26 Jan 2022 05:09 PM (IST)Updated: Wed, 26 Jan 2022 05:09 PM (IST)
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने की अनिल विज की तारीफ, कहा-हरियाणा ने कोरोना वैक्सीनेशन में किया बेहतर काम

अंबाला, जागरण संवाददाता। हरियाणा में कोरोना रोकथाम के लिये किए जा रहे सफल प्रयासों हेतु प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मांडविया ने दिल खोलकर सराहना व प्रशंसा की है। केंद्रीय मंत्री ने देश के विभिन्न राज्यों के साथ आयोजित वीडियो कांफ्रेंसिंग में कहा कि हरियाणा ने कोरोना वैक्सीनेशन के कार्य में अच्छा काम किया है और इसके लिए वह बधाई के पात्र है।’ इतना ही नहीं केंद्रीय मंत्री मांडविया ने प्रदेश में आरटीपीसीआर टेस्ट 82 प्रतिशत और दवाओं के बफर स्टाक को लेकर भी विज की कार्यशैली की सराहना की। वीसी में विज ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए हरियाणा में दवाएं, इंफ्रास्ट्क्चर व अन्य पर्याप्त इंतजाम है। उन्होंने यह भी बताया कि संक्रमित मरीजों की संख्या ज्यादा होने के बावजूद अस्पताल में बेहद कम मरीज भर्ती हैं जोकि एक सुखद पहलू है।

वैक्सीनेशन में बेहतर प्रतिशत, इस वजह से हुई प्रशंसा

मांडविया ने कहा कि देश के प्रमुख वैज्ञानिकों से चर्चा के बाद एक बात सामने आ रही है कि कोरोना वैक्सीन लगाने वाले लोगों की संख्या अस्पतालों में कम है। अस्पताल में ज्यादातर वह लोग आ रहे हैं जिन्हें वैक्सीन नहीं लगी है। हरियाणा के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि हरियाणा वैक्सीनेशन पर बहुत अच्छा काम कर रहा है। आने वाले समय में बच्चों व 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों की भी पूरी तरह वैक्सीनेशन हो जाए तो हमें फायदा मिलेगा। गौरतलब है कि हरियाणा में कोरोना वैक्सीन की प्रथम डोज 104 प्रतिशत और दूसरी डोज 79 प्रतिशत लगाई जा चुकी है।

वैक्सीनेशन की वजह से कम लोग अस्पताल में हो रहे दाखिल : विज

विज ने कहा कि हरियाणा में वैक्सीनेशन तेजी से की जा रही है और इसका फायदा मिल रहा है। कोरोना के केस बढ़ने के बावजूद भी ज्यादा गंभीर मामले सामने नहीं आ रहे है। अब भी प्रदेश में बैड आक्यूपेंसी 3.7 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य प्रबंधन बेहतर हैं और इसके लिए ऑक्सीजन बेड, वेंटीलेटर, पीएसए प्लांट लगाए गए हैं। मगर, अस्पताल में लोग कम आ रहे हैं। वर्तमान स्थिति के अनुसार 664 मरीज ऑक्सीजन पर है, 82 वेंटीलेटर पर हैं और 294 आईसीयू में हैं।

राज्य में कोरोना से निपटने के लिए पर्याप्त प्रबंध है और लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है। पर्याप्त दवाएं व उपकरण के साथ-साथ वेंटीलेटर व अन्य सामान उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पर्याप्त पीएसए प्लांट हैं जोकि चालू अवस्था में है जबकि वेंटीलेटर भी है जोकि ठीक प्रकार से काम कर रहे हैं। इसके अलावा, आक्सीजन कंसट्रेटर एवं दवाओं का पर्याप्त स्टाक प्रदेश में उपलब्ध है।

Edited By Rajesh Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept