राजपथ परेड में यमुनानगर की बेटी ने 14 हरियाणा बटालियन का किया प्रतिनिधित्व, 28 को पीएम मोदी से मुलाकात

यमुनानगर की निकिता ने 26 जनवरी को दिल्‍ली में राजपथ की परेड में लिया हिस्सा। 28 जनवरी को होगी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात। निकिता ने 14 हरियाणा बटालियन का किया प्रतिनिधित्व। निकिता का सपना आर्मी आफिसर बनने का है।

Anurag ShuklaPublish: Thu, 27 Jan 2022 06:26 PM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 06:26 PM (IST)
राजपथ परेड में यमुनानगर की बेटी ने 14 हरियाणा बटालियन का किया प्रतिनिधित्व, 28 को पीएम मोदी से मुलाकात

यमुनानगर, जागरण संवाददाता। यमुनानगर की बेटी ने राजपथ परेड में हिस्‍सा लिया। डीएवी गर्ल्स कॉलेज में बी काम जनरल अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता कांबोज ने 26 जनवरी को राजपथ पर परेड में शामिल हुईं। निकिता ने 14 हरियाणा बटालियन एनसीसी यमुनानगर का प्रतिनिधित्व किया। मूल रूप से गांव कांजून की रहने वाली निकिता का सपना आर्मी आफिसर बनना है। इसलिए उसने एनसीसी ज्वाइन की है। सपनों को पंख देने के लिए निकिता ने एसएससी की तैयारी भी शुरू कर दी हैं।

डीएवी गर्ल्स कालेज की एनसीसी इंचार्ज मेजर गीता शर्मा ने बताया कि निकिता ने अपनी अथक मेहनत के बल पर यह मुकाम हासिल किया। इस उपलब्धि पर कालेज प्रिंसिपल डा. आभा खेतरपाल, स्टाफ सदस्य व 14 हरियाणा बटालियन के कमांडिंग आफिसर कर्नल अजय पाल कौशिश, एडम आफिसर कर्नल एपीएस संधू , सूबेदार मेजर सुरम सिंह व समस्त स्टाफ सदस्यों ने निकिता को बधाई दी।

परिजनों ने टीवी पर देखी बेटी की परेड

निकिता कांबोज ने जागरण के साथ बातचीत में बताया कि कोरोना की वजह से इस बार परिजनों को राजपथ पर परेड देखने की अनुमति प्रदान नहीं की गई। लेकिन उसके परिजनों व रिश्तेदारों ने टीवी पर परेड को देखा है। निकिता के मुताबिक उसके पिता अंजेश कांबोज किसान है, जबकि मां नीलम गृहणी है। बडा भाई एकांत फिलहाल कोचिंग ले रहा है।

पीएम रैली में हिस्सा लेगी निकिता

निकिता ने बताया कि प्रोटोकाल के हिसाब से 28 जनवरी को सभी एनसीसी कैडेट की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात होगी। जिसे पीएम रैली नाम दिया गया है। हालांकि हर बार सभी कैडेट राष्ट्रपति व रक्षामंत्री से भी मिलते थे, लेकिन कोरोना की वजह से यह कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए हैं। 29 जनवरी को दिल्ली में आयोजित एनसीसी शिविर की औपचारिकताएं पूरी करेंगे। 30 जनवरी को सभी कैडेट रोपड के लिए निकलेंगें। जहां पर दो-तीन दिन ठहराव के बाद वह घर लौटेगी।

Edited By Anurag Shukla

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept