This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी तैयार कर रहा इको कमांडर, पर्यावरण संरक्षण के लिए उठाया बड़ा कदम

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से इको कमांडर का प्रशिक्षण ले समाज को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक करेंगे विद्यार्थी। दिसंबर 2020 से अप्रैल 2021 तक 24 विद्यार्थियों ने ली ट्रेनिंग। पर्यावरण संरक्षण गतिविधि कार्यक्रम के तहत दी जा रही विशेष ट्रेनिंग।

Anurag ShuklaSat, 24 Apr 2021 02:46 PM (IST)
कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी तैयार कर रहा इको कमांडर, पर्यावरण संरक्षण के लिए उठाया बड़ा कदम

कुरुक्षेत्र, जेएनएन। पर्यावरण संरक्षण को लेकर समाज के बीच पहुंचकर आम जन को जागरूक करने के लिए कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ने इको कमांडर तैयार करने शुरू कर दिए हैं। यही इको कमांडर अपनी पढ़ाई पूरी करने के साथ-साथ विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण का महत्व भी बताएंगे। इतना ही नहीं पढ़ाई पूरी होने के बाद समाज के बीच में रहकर यह वहां पर भी पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करेंगे। इन इको कमांडर को इसके लिए खास तरह का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। दिसंबर माह में इस अभियान से जुड़ने के बाद अप्रैल तक ही कुवि के 24 विद्यार्थियों ने इको कमांडर के इस प्रशिक्षण को पूरा कर लिया है।

गौरतलब है कि कुवि ने दिसंबर माह से राष्ट्रीय पर्यावरण संरक्षण गतिविधि कार्यक्रम के तहत जुड़कर इस पर काम शुरू कर दिया है। पर्यावरण संरक्षण गतिविधि कार्यक्रम के तहत देश भर के कई विश्वविद्यालय जुड़े हुए हैं। कुवि ने दिसंबर 2020 में इस अभियान से जुड़कर पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में काम शुरू कर दिया है।

इको कमांडर को दिया जा रहा खास प्रशिक्षण

पर्यावरण संरक्षण के महत्व को देखते हुए पर्यावरण संरक्षण गतिविधि कार्यक्रम के तहत चयनित विद्यार्थियों को खास तरह का प्रशिक्षण दिया जाता है। यह प्रशिक्षण भविष्य को ध्यान में रख दिया जा रहा है। इस प्रशिक्षण के लिए चयनित इको कमांडर को खास तौर पर पढ़ाई के बाद भी समाज में जाकर काम करने के लिए तैयार किया जाता है। इको कमांडर को समाज में जागरूकता लाने के साथ-साथ बहुत कम जगह में पौधे रोपण करने के साथ-साथ उनका पालन-पोषण करने का भी प्रशिक्षण दिया जाता है। इस एक माह के प्रशिक्षण के बाद यह सभी विद्यार्थी अपने विभाग, विश्वविद्यालय व समाज को जागरूक करने का काम करेंगे।

आफलाइन पढ़ाई शुरू होते ही कालेजों में शुरू होगा अभियान

कुवि के छात्र कल्याण अधिष्ठाता एवं राष्ट्रीय पर्यावरण संरक्षण गतिविधि कार्यक्रम के नोडल आफिसर प्रो. अनिल वशिष्ठ ने कहा कि आफलाइन पढ़ाई शुरू होने के बाद संबंधित कालेजों को भी इस अभियान से जोड़ा जाएगा और कालेज स्तर पर नोडल अधिकारी बनाए जाएंगे। इन योजनाओं से युवाओं को पर्यावरण संरक्षण से जुड़े महत्वपूर्ण विषयों में भागीदारी करने का अवसर मिलेगा।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

यह भी पढ़ें:  कोरोना महामारी के बीच आई नई मुसीबत, ऑक्सीजन भी होने लगी चोरी, पानीपत रिफाइनरी का टैंकर ले उड़े चोर

यह भी पढ़ें: 'सॉरी' लिखकर चोर ने लौटाई कोरोना वैक्सीन, हरियाणा में सामने आया चौकाने वाला मामला

यह भी पढ़ें: हरियाणा के जींद में लस्‍सी में गिरी छिपकली, पीने से 2 की मौत, 5 की हालत गंभीर


यह भी पढ़ें: बेटी पूरे कर रहे टैक्सी चालक पिता के ख्‍वाब, भाई ने दिया साथ तो कामयाबी को बढ़े हाथ

यह भी पढ़ें: पानीपत में बढ़ रहा कोरोना, बच्‍चों को इस तरह बचाएं, जानिये क्‍या है शिशु रोग विशेषज्ञ की सलाह

यह भी पढ़ें: चोट से बदली पानीपत के पहलवान की जिंदगी, खेलने का तरीका बदल बना नेशनल चैंपियन

पानीपत में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!