Haryana School Open: हरियाणा में आज से खुल गए स्‍कूल, जारी की गई गाइडलाइन, दी गईं ये हिदायत

हरियाण में एक जुलाई से स्‍कूल खुल गए हैं। बारिश की वजह से स्‍कूलों में पहले दिन काफी कम बच्‍चे पहुंचे। वहीं कोरोना केस बढ़ने की वजह से गाइडलाइंंस जारी की गई। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने भी कोरोना केस बढ़ने पर चिंंता जाहिर की है।

Anurag ShuklaPublish: Fri, 01 Jul 2022 12:22 PM (IST)Updated: Fri, 01 Jul 2022 12:22 PM (IST)
Haryana School Open: हरियाणा में आज से खुल गए स्‍कूल, जारी की गई गाइडलाइन, दी गईं ये हिदायत

पानीपत/जींद, जागरण संवाददाता। गर्मियों की छुट्टियों के बाद शुक्रवार को स्कूलों में रौनक लौटी है। पहले दिन विद्यार्थियों की संख्या काफी कम रही है। इस बीच कोरोना केस बढ़ने की वजह से स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने गाइडलाइंस जारी की गईं। शिक्षा विभाग ने कोविड गाइडलाइंस को सख्‍ती के साथ पालन करने की हिदायत दी है।

हरियाणा में एक जुलाई से नया शैक्षणिक सत्र शुरू हो गया। शिक्षा विभाग ने गर्मियों की छुट्टियों के बाद स्कूलों के समय में बदलाव किया गया। अब स्कूलों का समय सुबह आठ बजे से लेकर दोपहर दो बजकर 30 मिनट तक है। वहीं, शिक्षा विभाग ने कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच दिशा निर्देश जारी किए हैं।

ये जरूरी है

स्‍कूलों में टीचिंंग और नान टीचिंंग स्‍टाफ का पूर्ण टीकाकरण कराना होगा

प्रिकाशन डोज यानी बूस्‍टर डोज जरूर लगवााएं

अगर शुरुआती दोनोंं डोज लगने के बाद बूस्‍टर डोज के लिए समयाविधि पूरी हो गई हो तो बूस्‍टर डोज जरूर लगवाएं

स्‍कूलों में 12 साल से अधिक उम्र के बच्‍चों को टीककारण के प्रोत्‍साहित करें

सोशल डिस्‍टे‍ंसिंग का ध्‍यान रखा जाए

मास्‍क, सैनिटाइजर भी जरूरी है

अगर किसी बच्‍चे में कोविड संक्रमण के लक्षण हैं तो स्‍वास्‍थ्‍य विभाग को इसकी सूचना जरूर दें। उसकी सैंपलिंग जरूरी है।

स्कूलों में लौटी रौनक

जींद के खंड शिक्षा अधिकारी सुशील कुमार जैन ने बताया कि एक महीने की छुट्टी के बाद स्कूलों में रौनक लौटी है। विद्यार्थियों को दोपहर के समय मिड डे मील परोसा जाएगा। वहीं विद्यार्थियों के लिए किताबें भी शिक्षा विभाग द्वार पहुंचाई जाएंगी। पहले दिन शुक्रवार को विद्यार्थियों की संख्या कम रही है। आने वाले दिनों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ेगी।

दो साल बाद मिलेगा मिड डे मील

वहीं दो साल बाद स्कूलों में विद्यार्थियों को मिड डे मील दिया जाएगा। मिड डे मील के लिए शिक्षा विभाग द्वारा बजट जारी कर दिया गया है। दो साल बाद विद्यार्थियों को स्कूलों में मिड डे मील परोसा जा रहा है। कोरोना संक्रमण के दौरान 2020 में विद्यार्थियों के लिए स्कूलों में बनने वाले मिड डे मील पर रोक लगा दी गई थी। विद्यार्थियों को घर-घर जाकर सूखा राशन बांटा जा रहा था। अब दो साल बाद कोरोना संक्रमण की स्थिति सामान्य होने के चलते विद्यार्थियों को मिड डे मील बांटा जाएगा।

किताबें भी पहुंचाई जाएंगी

वहीं सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए शिक्षा विभाग द्वारा अब किताबें भी पहुंचाई जाएंगी। इसके लिए शिक्षा विभाग ने स्कूलों के प्राचार्यों को शाम पांच बजे तक स्कूल खोलने के निर्देश दिए हैं। राजकीय स्कूलों में पहली से आठवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को मुफ्त किताबें मुहैया करवाई जाती हैं। कोरोना संक्रमण के चलते पिछले दो साल से विद्यार्थियों को किताबें भी नहीं मिल पाई हैं। अब शिक्षा विभाग द्वारा विद्यार्थियों के लिए किताबें पहुंचाई जाएंगी, जिसके लिए स्कूलों को शाम पांच बजे तक खोलने के निर्देश दे रखे हैं।

Edited By Anurag Shukla

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept