कुरुक्षेत्र के चौथे युवक की तुर्की में मौत, एजेंटों पर अवैध तरीके से जर्मनी भेजने का आरोप

कुरुक्षेत्र के चौथे युवक की तुर्की में मौत का मामला। स्वजनों ने एजेंटों पर लगाये अवैध तरीके से जर्मनी भेजने के आरोप। स्वजनों ने कहा कि लाखों रुपये देने के बाद भी एजेंटों ने उनके बेटे को जर्मनी नहीं भेजा।

Rajesh KumarPublish: Tue, 17 May 2022 02:16 PM (IST)Updated: Tue, 17 May 2022 02:16 PM (IST)
कुरुक्षेत्र के चौथे युवक की तुर्की में मौत, एजेंटों पर अवैध तरीके से जर्मनी भेजने का आरोप

कुरुक्षेत्र, जागरण संवाददाता। कुरुक्षेत्र के चौथे युवक की तुर्की में मौत हो गई है। एक बार फिर एजेंटों पर आरोप लगे हैं कि लाखों रुपये लेने के बाद भी आरोपितों ने युवक को अवैध तरीके से विदेश भेजा। आरोपितों ने युवक को जर्मनी भेजने की बात कही थी, मगर उसे तुर्की करीब एक साल से रखा हुआ था। पुलिस ने स्वजनों की शिकायत पर तीन एजेंटों के खिलाफ केस दर्ज किया है। 

गांव बारना के जगीर सिंह ने केयूके थाना पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि उसी के गांव के रमेश कुमार, टहल सिंह वर्तमान में जर्मनी में रह रहे हैं। आरोपित वीर सिंह भी जर्मनी में रह रहा है। आरोपित रमेश कुमार व टहल सिंह ने उसे झांसा दिया कि वे उसके पुत्र विक्की को जर्मनी भेज देंगे। उनका वीर सिंह जर्मनी में रह रहा है, उसका वहां पर अच्छा कारोबार है। उसे काम करने के लिए एक भारतीय आदमी की जरूरत है। जर्मनी जाते ही विक्की लाखों रुपये महीना कमाने लगेगा। इसके लिए आरोपितों ने 14 लाख रुपये की मांग की।

विक्की को सीधा जर्मनी भेजने की हुई थी बात

आरोपितों ने उसे कहा कि वे विक्की को बाय एयर सीधा जर्मनी भेजेंगे। उसने राशि का इंतजाम कर आरोपितों को दे दी। नौ जून 2021 को आरोपितों ने जर्मनी के लिए बोलकर विक्की की फ्लाइट करा दी। विक्की ने अपने जीजा के मोबाइल पर बताया कि आरोपितों ने उसे जर्मनी भेजने की बात कही थी, लेकिन वह दुबई में है। इसके बाद सर्बिया के लिए फ्लाइट है। इसके बाद वह अवैध तरीके से ग्रीस पहुंचा। 30 जून 2021 को विक्की ने ग्रीस पहुंचकर बातचीत की। वे एजेंटों के माध्यम से ही विक्की से बातचीत कर पाते थे। उसे बताया गया कि 15-20 दिन में विक्की जर्मनी चला जाएगा। यदि वे विक्की को जर्मनी भेजना चाहते हैं तो छह लाख रुपये और भेजो, जबकि उनकी बात 14 लाख रुपये में तय हुई थी। इसके बाद से विक्की को कोई अता-पता नहीं था।

भारतीय दूतावास से आया फोन

11 मई को एजेंटों ने 4000 यूरो की मांग की। उन्होंने यूरो देने से मना कर दिया। 13 मई को उसके दामाद रविंद्र सिंह के पास तुर्की भारतीय दूतावास से फोन आया कि विक्की की मौत हो चुकी है। यदि वे विक्की का शव लेना चाहते हैं तो लिखित नमूना भेजें। अस्टाम पर टाइप करवाकर उन्हें भेजा जाए वे शव को भारत भेज देंगे। शिकायतकर्ता का आरोप है कि यूरो न देने के कारण विक्की की हत्या की गई है। इसके लिए रमेश कुमार, टहल सिंह व वीर सिंह जिम्मेदार हैं। पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर लिया है। मामले की जांच ज्योतिसर पुलिस चौकी प्रभारी राम स्नेही को सौंपी गई है। 

पुलिस ने शव भारत लाने के लिए की है कार्रवाई : जांच अधिकारी 

जांच अधिकारी राम स्नेही ने बताया कि स्वजनों की मांग पर पुलिस विक्की के शव को भारत लाने के लिए कार्रवाई कर रही है। मामले में तीन आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज किया है। हालांकि अभी तीनों विदेश में है। पुलिस नियमानुसार कार्रवाई करेगी।

Edited By Rajesh Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept