कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने जारी की नई गाइडलाइन, अब इन बातों का रखना होगा ध्यान

Coronavirus Update स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस को लेकर नई गाइडलाइन जारी की है। इसके तहत कोरोना संक्रमित मरीजों और विदेश से लौटने वाले मरीजों को कई बातों का ध्यान रखना होगा। नई गाइडलाइन में क्या कुछ बदलाव हुए हैं इस रिपोर्ट में पढ़ें।

Rajesh KumarPublish: Sat, 22 Jan 2022 01:56 PM (IST)Updated: Sat, 22 Jan 2022 01:56 PM (IST)
कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने जारी की नई गाइडलाइन, अब इन बातों का रखना होगा ध्यान

पानीपत, जागरण संवाददाता। कोरोना वायरस (Covid-19) मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय समय-समय पर गाइडलाइन में बदलाव करता रहा है। विदेश से लौटने वाले कोरोना (Corona) पाजिटिव मरीज को सात दिन तक अस्पताल में भर्ती रखना अनिवार्य है।

ओमिक्रोन (Omicron) की रिपोर्ट और आठवें दिन होने वाली आरटीपीसीआर (RTPCR) जांच की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उसे होम आइसोलेशन में भेजा जाएगा। कोविड-19 के जिला नोडल अधिकारी डा. सुनील संडूजा ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि रूटीन में आ रहे कोरोना पाजिटिव को होम आइसोलेशन में रखा जा रहा है। उसी मरीज को भर्ती किया जाएगा जिसमें कोरोना के गंभीर लक्षण दिख रहे हों। होम आइसोलेशन में रह रहे लोगाें को हेल्थ वर्कर समय-समय पर पूछते रहेंगे कि कोई दिक्कत तो नहीं है। सभी पाजिटिव का आठवें दिन पुन: टेस्ट होगा। रिपोर्ट नेगेटिव आने पर भी सेल्फ क्वारंटाइन रहना होगा। विभाग के बताए नियमों को मानना होगा।

सीवियर पेशेंटस को ही अस्पताल में भर्ती किया जा रहा है

सुनील संडूजा ने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीजों को चार कैटेगरी, वेरी माइल्ड, माइल्ड, माडरेट और सीवियर पेशेंट्स में बांटा गया है। माडरेड और सीवियर पेशेंट्स को ही अस्पताल में भर्ती किया जा रहा है। आइसोलेशन नोडल अधिकारी की रिपोर्ट पर हल्के लक्षण वाले मरीज को आइसोलेशन वार्ड में एडमिट किया जा सकता है।

ये है गाइडलाइन

-मेडिकल आफिसर तय करेंगे मरीज कौन सी कैटेगरी में है।

-होम आइसोलेशन में मरीज की 24 घंटे देखभाल सुनिश्चित होगी।

-मरीज और तीमारदार को आरोग्य सेतु ऐप एक्टिव रखना होगा।

-स्वास्थ्य विभाग को समय-समय पर जानकारी देनी होगी।

इन स्थितियों में लें सलाह

-यदि सांस लेने में दिक्कत हो रही हो।

-छाती में निरंतर भारीपन या दर्द हो रहा हो।

-सोचने-समझने में दिक्कत हो रही हो।

-चेहरा या होंठ नीले पड़ रहे हो।

केयर-टेकर को बरतनी होगी सावधानी

-थ्री-लेयर डिस्पोजेबल मास्क हमेशा पहनना होगा।

-हाथ, नाक या मुंह को छूने से बचें।

-हाथों को कम से कम 40 सेकेंड तक धोएं।

-एल्कोहल युक्त सेनेटाइजर का प्रयोग करें।

-हाथों में हमेशा दस्ताने पहनने होंगे।

-मरीज की किसी भी चीज को इस्तेमाल न करें।

Edited By Rajesh Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept