लखनौर साहिब वीएलडीए कालेज का निर्माण कार्य अब तक नहीं हुआ पूरा, युवाओं की टिकी नजरें

अंबाला में लखनौर साहिब वीएलडीए कालेज का निर्माण कार्य अब तक पूरा नहीं हो पाया है। छात्रों की निगाहें इस कालेज पर टिकी है। पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान में डिग्री के लिए कालेज में 60 युवाओं को प्रवेश मिलना है।

Rajesh KumarPublish: Tue, 17 May 2022 03:03 PM (IST)Updated: Tue, 17 May 2022 03:03 PM (IST)
लखनौर साहिब वीएलडीए कालेज का निर्माण कार्य अब तक नहीं हुआ पूरा, युवाओं की टिकी नजरें

अंबाला शहर, जागरण संवाददाता। अंबाला के लखनौर साहिब में बन रहे वीएलडीए कालेज का निर्माण अभी तक पूरा नहीं हुआ। जबकि अब तक शैक्षणिक सत्र से कक्षाएं शुरू होनी थी। इस कालेज में 60 युवाओं को पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान में डिग्री के लिए प्रवेश दिया जाना है।

बता दें कि लखनौर साहिब में करीबन 37 करोड़ रुपये की लागत से वीएलडीए कालेज का शिलान्यास मुख्यमंत्री ने किया था। महाविद्यालय के लिए प्रथम चरण में ही 13.46 करोड़ की राशि उपलब्ध करवा दी गई थी। गांव लखनौर साहिब में बनने वाले माता गुजरी पशु चिकित्सा एवं पशुधन विकास सहायक महाविद्यालय के निर्माण का काम काफी समय से चल रहा है। इस कालेज के बनने से जिला के युवाओं को बहुत लाभ मिलेगा। युवाओं को डिप्लोमा या डिग्री लेने के लिए दूर की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। जिला में रहकर ही युवा पढ़ाई कर सकेंगे। इससे युवाओं के लिए रोजगार के अवसर खुलेंगे।

राजकीय एवीएलडीडी कालेज का निर्माण करवाया गया

वीएलडीडी डिप्लोमा और पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान में स्नातक की पढ़ाई के लिए लखनौर साहिब में राजकीय एवीएलडीडी कालेज का निर्माण करवाया जा रहा है। इसमें शैक्षणिक सत्र के दौरान कक्षाएं लगनी शुरू की उम्मीद थी। इस कालेज में 60 युवाओं को पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान में डिग्री करने के लिए प्रवेश दिया जाएगा।

प्रदेश में वीएलडीडी डिप्लोमा और पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान में स्नातक की उपाधि देने के लिए लाला लाजपतराय विश्वविद्यालय हिसार एवं इंटरनेशनल इंस्टीच्यूट आफ वेटरनरी एजुकेशन एंड रिसर्च रोहतक के बहुअकबरपुर में चलाए जा रहे हैं।

2 वर्ष में करवाया जाएगा डिप्लोमा

इनमें 80-80 सीटें पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान में है और साढे पांच साल की अवधि की स्नातक उपाधि एवं एलडी डिप्लोमा दो वर्ष में करवाया जा रहा है। वीएलडी डिप्लोमा के लिए एक राजकीय डिप्लोमा महाविद्यालय लुवास एवं 11 निजी डिप्लोमा महाविद्यालय भी मान्यता प्राप्त है। इनमें 783 युवाओं को पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान में स्नातक के अलावा एलडी डिप्लोमा भी करवाया जा रहा है। नए निजी महाविद्यालय शुरु करने के लिए निर्धारित मानदंडों एवं शर्तों के अनुसार लुवास और पशु चिकित्सा परिषद से संबद्वता लेनी अनिवार्य है।

Edited By Rajesh Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept