हरियाणा में रिश्‍वतकांड: विजिलेंस टीम ने रिश्वत लेते राजस्व विभाग का पटवारी पकड़ा

हरियाणा में एक बार फिर से रिश्‍वत कांड सामने आया है। इस बार पटवारी रिश्‍वत लेते पकड़ा गया। जमीन के खाते अलग करने के लिए पटवारी ने रिश्‍वत की मांग की थी। विजिलेंस ने 8 हजार रुपये लेते पकड़ा है।

Anurag ShuklaPublish: Fri, 01 Jul 2022 05:13 PM (IST)Updated: Fri, 01 Jul 2022 05:13 PM (IST)
हरियाणा में रिश्‍वतकांड: विजिलेंस टीम ने रिश्वत लेते राजस्व विभाग का पटवारी पकड़ा

जींद, जागरण संवाददाता। जींद में रिश्‍वत लेते पटवारी गिरफ्तार किया गया। जमीन के खाते अलग करने की एवज में आठ हजार रुपये रिश्वत मांग रहा था। राजस्व विभाग के पटवारी सुनील को स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।

गांव कैरखेड़ी निवासी जयपाल की शिकायत पर विजिलेंस टीम ने ये कार्रवाई की है। विजिलेंस टीम ने आराेपित पटवारी के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर पूछताछ शुरू कर दी है।

गांव कैरखेड़ी निवासी जयपाल ने स्टेट विजिलेंस ब्यूरो को दी शिकायत में बताया था कि उनका जमीन का खाता साझा है। जिसको अलग करने की एवज में हलका पटवारी सुनील दलाल रिश्वत मांग रहा है। पटवारी सुनील दो हजार रुपये पहले ले चुका है और अब आठ हजार रुपये की और मांग कर रहा है। पूरे पैसे नहीं देने पर खाता अलग करने से संबंधित कागजात को लटकाए हुए है।

विजिलेंस टीम ने कार्रवाई के लिए टीम गठित करते हुए पंचायती राज विभाग के एक्सईन प्रेम सिंह को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया। स्टेट विजिलेंस ब्यूरो के निरीक्षक मनीष कुमार के नेतृत्व में सब इंस्पेक्टर बलजीत, एएसआइ कमलजीत, हेडकांस्टेबल जगबीर ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट द्वारा 500 रुपये के 16 नोटों को हस्ताक्षर करवाकर पाउडर लगाकर शिकायतकर्ता किसान जयपाल को दिए।

जयपाल ने पटवारी सुनील को फोन किया, तो उसने पटवारखाना के एक नंबर कमरे में बुलाया। जैसे ही जयपाल ने पटवारी को रिश्वत की राशि दी, विजिलेस टीम ने पटवारी सुनील दलाल को काबू कर लिया और उसके कब्जे से रिश्वत के पैसे बरामद कर लिए।

विजिलेंस टीम ने पटवारी सुनील के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मामला दर्ज करते पूछताछ शुरू कर दी। स्टेट विजीलेंस ब्यूरो के निरीक्षक मनीष कुमार ने बताया कि जमीन का खाता अलग करने की एवज में आठ हजार रुपये की रिश्वत राशि लेते हुए पटवारी सुनील दलाल को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है।

Edited By Anurag Shukla

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept