हरियाणा में कोरोना के केस बेहद कम होने से माहौल अनुकूल, अब पहली से तीसरी तक कक्षाएं शुरू करने की तैयारी

हरियाणा में कोरोना के मामले काफी कम हो गए हैं। इस कारण राज्‍य सरकार अब स्‍कूल शिक्षा को पटरी पर लाना चाहती है। हरियाणा सरकार की अब पहली से तीसरी तक कक्षाएं भी शुरू करने की तैयारी है। अभी स्‍कूलों में चौथी से 12वीं तक की कक्षाएं लग रही हैं।

Sunil Kumar JhaPublish: Mon, 06 Sep 2021 04:55 PM (IST)Updated: Mon, 06 Sep 2021 06:47 PM (IST)
हरियाणा में कोरोना के केस बेहद कम होने से माहौल अनुकूल, अब पहली से तीसरी तक कक्षाएं शुरू करने की तैयारी

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा में अब पहली से तीसरी तक की कक्षाएं शुरू करने की तैयारी है। प्राथमिक स्कूलाें में पहली सितंबर से चौथी और पांचवीं की कक्षाएं पहले ही शुरू हो चुकी हैं जिनमें 25 फीसद से अधिक बच्चे उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। कोरोना संक्रमण में लगातार गिरावट से उत्साहित सरकार का मानना है कि फिलहाल परिस्थितियां सही हैं । अगर ऐसे ही हालात रहते हैं तो पहली से तीसरी कक्षाएं शुरू करने में कोई दिक्कत नहीं।

चौथी और पांचवीं कक्षाओं में आ रहे 25 फीसद से अधिक बच्चे, बढ़ती जा रही उपस्थिति

वहीं, शिक्षा विभाग ने सेवा का अधिकार कानून को सख्ती से लागू कर दिया है। इससे अब जिला शिक्षा अधिकारियों की मनमानी पर अंकुश लगेगा। जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) और जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों (डीईईओ) को पांच दिन में स्कूल लिविंग सर्टिफिकेट पर काउंटर साइन करने होंगे। सात दिन में अध्यापन अनुभव प्रमाणपत्र देना होगा।

सेवा के अधिकार कानून से बांधे डीईओ और डीईईओ के हाथ, निर्धारित समय में काम न होने पर होगी कार्रवाई

एसीपी (एनुअल करियर प्रमोशन) के मामले 15 दिन, 55 साल की उम्र के बाद सेवा वृद्धि और चिकित्सा प्रतिपूर्ति बिल के मामले 10 दिन तथा जीपीएफ लोन, चाइल्ड केयर लीव, एलटीसी, पदोन्नति मामले विभाग को अग्रसारित करने के लिए सात दिन का समय रखा गया है।

निर्धारित समय में काम नहीं हुआ तो अपने आप ही शिकायत पहले महकमे के निदेशक के पास पहुंचेगी और वहां कोई कार्रवाई नहीं हुई तो फिर आटोमेटिक अपील अतिरिक्त मुख्य सचिव के पास पहुंच जाएगी। इसके बाद संबंधित शिक्षा अधिकारी या कर्मचारी से जवाब तलब करते हुए जुर्माना भी लगाया जाएगा।

निजी स्कूल भी आरटीआइ के दायरे में

सूचना का अधिकार (आरटीआइ) कानून के तहत निजी स्कूल सूचना देने से इन्‍कार नहीं कर सकते। राज्य सूचना आयोग के आदेशों का हवाला देकर स्कूल शिक्षा निदेशक ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। सूचना नहीं देने वाले निजी स्कूलों की मान्यता भी जा सकती है। निजी स्कूलाें को 15 दिन के भीतर आरटीआई में मांगी गई सूचना का जवाब देना होगा।

यही हालात रहे तो कक्षाएं लगाने में कोई दिक्कत नहीं : कंवरपाल

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर का कहना है कि कोरोना संक्रमण के मामले काफी कम हो चुके हैं। फिलहाल परिस्थितियां सही हैं। अगर भविष्य में भी ऐसे ही हालात रहे तो पहली से तीसरी कक्षा तक के स्कूल खोलने का निर्णय लिया जा सकता है। चौथी-पांचवीं की कक्षाएं शुरू करने के काफी अच्छे नतीजे आए हैं। बच्चों के साथ अभिभावक भी खुश हैं। बच्चों की सुरक्षा और स्वास्थ्य हमारे लिए सर्वोपरि है। सभी मानकों को सुनिश्चित करने के बाद ही कक्षा अनुसार स्कूल खोले जा रहे हैं।

Edited By Sunil Kumar Jha

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept