हरियाणा सरकार ने नए साल में सेट किया रोजगार का एजेंडा, आय बढ़ाने के लिए जल्द लाई जाएंगी नई योजनाएं

हरियाणा सरकार नए वर्ष में कई नई योजनाएं लेकर आएगी। रोजगार सरकार के मुख्य एजेंडे में शामिल है। गरीबों की आय बढ़ाने के लिए भी सरकार संकल्पित है। गरीब बच्चों को निजी स्कूलों में दाखिले की प्रक्रिया तेज होगी।

Kamlesh BhattPublish: Wed, 29 Dec 2021 11:18 AM (IST)Updated: Wed, 29 Dec 2021 11:18 AM (IST)
हरियाणा सरकार ने नए साल में सेट किया रोजगार का एजेंडा, आय बढ़ाने के लिए जल्द लाई जाएंगी नई योजनाएं

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि गरीब परिवारों की आय बढ़ाने के लिए राज्य सरकार आने वाले दिनों में नई योजनाएं लेकर आएगी। इसके साथ-साथ पुरानी योजनाओं की समीक्षा कर लाभार्थियों को ज्यादा से ज्यादा लाभ दिए जाएंगे। सरकार का लक्ष्य लाइन में खड़े अंतिम व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पहुंचाना है। मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि सात जनवरी से प्रदेश भर में अंत्योदय मेलों का दूसरा चरण शुरू होगा। पहले चरण में 156 मेले आयोजित किए गए थे। इसमें डेढ़ लाख परिवारों में से 90 हजार ने हिस्सा लिया। इसमें आए बहुत से लोगों का ऋण भी मंजूर हो गया है। इन मेलों का उद्देश्य गरीब परिवारों को रोजगार दिलाने का है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल मंगलवार को हरियाणा निवास में प्रदेश भर के अतिरिक्त जिला उपायुक्तों की बैठक ले रहे थे। इस दौरान मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी उमाशंकर व सभी उपायुक्त वर्चुअल बैठक में जुड़े। बैठक के दौरान अतिरिक्त जिला उपायुक्तों को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार पहचान पत्र की तारीफ न केवल प्रदेश में हो रही है बल्कि देश भर में इसकी चर्चा की जा रही है। दूसरे प्रदेशों से लोग इस पैटर्न का अध्ययन करने के लिए हरियाणा आ रहे हैं। सभी एडीसी को संवेदनशीलता के साथ इस काम को पूरा करना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी का लक्ष्य गरीब और जरूरतमंद परिवारों को आगे बढ़ाना है। हमें पूरे जिले को आत्मनिर्भर बनाना है। युवाओं को नौकरी की तरफ नहीं बल्कि रोजगार की तरफ लेकर जाना है ताकि वे नौकरी लेने वालों के बजाय, नौकरी देने वालों की कतार में शामिल हो सकें। परिवार पहचान पत्र के तीसरे चरण का काम पूरा हो गया है। चौथे चरण का काम जल्द शुरू हो जाएगा। आने वाले दिनों में बहुत सी योजनाओं का लाभ इनके माध्यम से मिलने लगेगा। जो व्यक्ति 55 साल से ऊपर है और अपना काम करना चाहते हैं, उनके लिए भी किसी स्कीम में विशेष प्रविधान किया जाएगा।

हायर एजुकेशन में जोड़े जाएं सामाजिक कार्यों के नंबर

मुख्यमंत्री ने कहा कि विद्यार्थियों में सामाजिक सेवा व पर्यावरण संरक्षण जैसे सामाजिक विषयों पर भावना जागृत करने के लिए हायर एजुकेशन विभाग को कदम बढ़ाना चाहिए। भविष्य में ऐसे प्रविधान किए जाएंगे कि कालेज व विश्वविद्यालयों में स्वच्छता, पौधे लगाना, सफाई अभियान व सरकारी योजनाओं से जुड़े कार्यों के नंबर दिए जाएं। उन्होंने जिला उपायुक्तों को समर्पण पोर्टल पर ज्यादा से ज्यादा पंजीकरण करवाने पर बल देने को कहा। उन्होंने कहा कि हर जिले में सेना एवं सरकारी सेवाओं से सेवानिवृत्त कर्मचारियों व अधिकारियों की बड़ी संख्या है। ऐसे लोगों को सामाजिक कार्यों में योगदान के लिए समर्पण पोर्टल पर पंजीकरण करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

134-ए की इनकम वैरिफिकेशन जल्द से जल्द की जाए पूरी

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि प्रदेश भर में हरियाणा स्कूल शिक्षा नियमों की धारा 134-ए के तहत विद्यार्थियों का प्राइवेट स्कूलों में दाखिलों के लिए चयन हुआ है। जिला उपायुक्त जल्द से जल्द जिला शिक्षा अधिकारियों से इनकी सूची लेकर इनकम वैरिफिकेशन करने का काम पूरा करें ताकि इन विद्यार्थियों को स्कूलों में दाखिला मिल सके। इन बच्चों को प्राइवेट स्कूलों में मुफ्त दाखिला मिलता है। निजी स्कूल इसे देने से मना कर रहे हैं और सरकार पर अपना बकाया क्षतिपूर्ति-फीस का पैसा देने का दबाव बना रहे हैं।

मेरी फसल-मेरा ब्योरा में पंजीकरण के प्रति किसानों को करें जागरूक

मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार पहचान पत्र की तरह देशभर में मेरी फसल-मेरा ब्योरा स्कीम की भी तारीफ हो रही है। यह किसानों के लिए सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। इसके तहत साल में दो बार किसानों को अपनी फसल का ब्योरा देना होता है। इससे 100 प्रतिशत भूमि की मैङ्क्षपग का कार्य भी हो जाएगा। जिला उपायुक्तों को ग्रामीण स्तर पर कैंप लगाकर ज्यादा से ज्यादा किसानों को इस संदर्भ में जागरूक करना चाहिए। इसके साथ-साथ जिन किसानों ने पंजीकरण करवा लिया है उनके नाम का चार्ट गांवों में लगाना चाहिए।

सरकार की योजना

  • जिनके पास जन्मतिथि का प्रमाण नहीं, उनकी भी सुनेगी सरकार
  • भविष्य में माडल संस्कृति स्कूलों की संख्या बढ़ाई जाएगी।
  • प्रदेश भर में जिन लोगों के पास जन्म तिथि का कोई प्रूफ नहीं है, उन लोगों की जन्मतिथि को सत्यापित करने का कार्य भी शुरू किया जाएगा।
  • इसके लिए क्या प्रणाली अपनाई जाएगी, उस पर जल्द विचार कर निर्णय लिया जाएगा।
  • नए वैरिएंट ओमिक्रोन को लेकर सतर्कता बरतना जरूरी है।
  • एक जनवरी से डबल डोज लेने वालों का ही सार्वजनिक स्थलों पर प्रवेश सुनिश्चित किया जाए।
  • 15 से 18 वर्ष के किशोरों व युवाओं का तीन जनवरी से कोरोना टीकाकरण शुरू हो जाएगा।
  • 60 वर्ष से अधिक आयु व गंभीर बीमारी से ग्रस्त लोगों को 10 जनवरी से बूस्टर डोज लगनी शुरू होगी।

Edited By Kamlesh Bhatt

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept