हरियाणा में प्लाटों की ई-नीलामी हैक कर रिजर्व प्राइस में छेड़छाड़ की जांच में होंगे खुलासे

Plot E Auction हरियाणा में प्‍लाटाेंं की ई नीलामी को हैकर्स ने हैक कर लिया। हैकर्स ने एचएसआइआइसी के प्‍लाटों की ई नीलामी को हैक कर लिया। हैकर्स ने इसके साथ ही प्‍लाटों की रिजर्व प्राइस को 14 लाख रुपये से बढ़ाकर 54 लाख रुपये कर दिया।

Sunil Kumar JhaPublish: Fri, 28 Jan 2022 09:02 PM (IST)Updated: Fri, 28 Jan 2022 09:02 PM (IST)
हरियाणा में प्लाटों की ई-नीलामी हैक कर रिजर्व प्राइस में छेड़छाड़ की जांच में होंगे खुलासे

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। Plot E-Auction: सोनीपत के खरखौदा के आइएमटी में जमीन की ई-नीलामी के दौरान बड़ा खेल सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है। यह ई नीलामी हरियाणा औद्योगिक एवं आधारभूत संरचना विकास निगम (एचएसआइआइडीसी) के करीब 450 वर्गमीटर के जिन 250 प्लाटों के लिए हो रही थी। हैकरों ने यह सब कैसे किया और  ई-नीलामी के लिए रिजर्व प्राइस 14 हजार 200 रुपये प्रति वर्ग गज को 54 लाख रुपये कैसे कर‍ दिया गया इसकी व्‍यापक जांच होगीी।  इस मामले का पता उस समय चला जब  इस नीलामी में शामिल कुछ लोगों ने जब इस बारे में निगम के अधिकारियों से बात की। इससे बाद प्रारंभिक जांच में खुलासा है कि ई नीलामी के साथ छेड़छाड़ की गई थी। इसके बाद ई नीलामी को रद कर दिया गया। 

एचएसआइआइडीसी ने करनी थी 250 प्लाटों की नीलामी

निगम के प्रबंध निदेशन विकास गुप्‍ता ने पूरे मामले की जांच के निर्देश दिया। इसके बाद चीफ कार्डिनेटर (इंडस्‍ट्री) व इस्‍टेट एचओडी सुनील शर्मा ने इस पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं। सुनील शर्मा ने आशंका जताई कि एचएसआइआइडीसी की इस नीलामी को प्रभावित करने के‍ लिए निगम के पोर्टल से छेड़छाड़ कर रिजर्व प्राइस के को बदला गया। इसका मकसद यह लगता है कि आम लोग इसमें भाग न ले सकें। अब निगम के आइटी हेड सुरेश गर्ग की अगुवाई  में जांच से पूरे मामले का खुलासा होगा। बताया जा रहा है कि इस मामले में खरखौदा पुलिस थाना में एफआइआर भी दर्ज होगी।

बता दें कि हरियाणा सरकार सोनीपत जिले के खरखौदा आइएमटी में मारुति लिमिटेड को 800 एकड़ से अधिक जमीन आबंटित कर रही है। आइएमटी में देश व विदेश की टापर कंपनियां निवेश करेंगी।  कंपनियों काे जमीन अलाट करने के लिए ई - नीलामी की जाती रही है। इसके लिए प्‍लाटों की रिजर्व प्राइस तय की जाती रही है।   

Edited By Sunil Kumar Jha

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept