डरने से नहीं डटकर मुकाबला करने से हारेगा ओमिक्रोन

कोरोना के नए वैरिएंट (ओमिक्रोन) ने एक बार फिर तीसरी लहर की आशंका बढ़ा दी है। कोरोना का यह नया प्रारूप सबसे तेजी से फैलने वाला वायरस माना जा रहा है। हालांकि चिकित्सकों का मानना है कि इससे डर कर नहीं अपितु डटकर और जागरूकता के साथ हराया जा सकता है।

JagranPublish: Tue, 07 Dec 2021 06:07 PM (IST)Updated: Tue, 07 Dec 2021 06:07 PM (IST)
डरने से नहीं डटकर मुकाबला करने से हारेगा ओमिक्रोन

संवाद सहयोगी,तावडू: कोरोना के नए वैरिएंट (ओमिक्रोन) ने एक बार फिर तीसरी लहर की आशंका बढ़ा दी है। कोरोना का यह नया प्रारूप सबसे तेजी से फैलने वाला वायरस माना जा रहा है। हालांकि, चिकित्सकों का मानना है कि इससे डर कर नहीं अपितु डटकर और जागरूकता के साथ हराया जा सकता है।

सिविल सर्जन नूंह डा. सुरेंद्र यादव ने बताया कि देश में नए वैरिएंट की दस्तक को लेकर जिला प्रशासन पूरी तरह सतर्क है। इसको लेकर एक बार फिर से सार्वजनिक स्थानों पर पूरी तरह मास्क लगाने के साथ निश्चित शारीरिक दूरी बनाए रखने के निर्देश दिए गए हैं। जिला प्रशासन ने भी स्थानीय पुलिस के साथ नगर पालिका अधिकारियों को बिना मास्क घूमने वाले लोगों के चालान काटने के सख्त निर्देश जारी कर दिए हैं। साथ ही बाहर से आने वाले लोगों पर भी प्रशासन की पूरी नजर है। जो लोग बाहर से आ रहे है उन्हें जांच के बाद भी होम आइसोलेट किया जा रहा है।

आपात स्थिति से निपटने की तैयारी: स्वास्थ्य विभाग किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। कोरोना की दूसरी लहर में हुए जानमाल की हानि को देखते हुए जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में बेड सुविधा बढ़ाने के साथ आक्सीजन की समुचित व्यवस्था कर ली गई है। जिले में करीब दर्जन भर आक्सीजन प्लांट स्थापित कर दिए गए हैं। उसके अलावा आक्सीजन कंसंट्रेटर और वेंटिलेटर की सुविधा भी बढ़ा दी गई है। यदि लोगों का सही सहयोग मिला तो कोरोना के नए वैरिएंट का जिले में कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। उन्होंने अपने स्तर पर सभी चिकित्सा अधिकारियों को टीकाकरण में तेजी लाने के साथ जांच का दायरा बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि कोरोना के इस नए प्रारूप को लेकर क्षेत्र के लोग अभी भी बेपरवाह दिखाई दे रहे हैं। प्रशासन के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। नगर के बाजार, सब्जी मंडी और सार्वजनिक परिवहन सेवा बस इत्यादि में कहीं भी प्रशासन की अपील का असर देखने को नहीं मिल रहा। सबसे अधिक डर सुबह के समय सब्जी मंडी में रहता है। यहां पर अलग-अलग शहरों से सब्जी और फल विक्रेता खरीद-फरोख्त के लिए काफी संख्या में आते हैं। विदित हो कि तावडू क्षेत्र में कोरोना का पहला मामला भी इसी सब्जी मंडी के एक युवक में पाया गया था जो दिल्ली की आजादपुर मंडी से सब्जी लेकर आया था। उसके बाद कई लोगों में यह संक्रमण फैल गया।

नगर के प्रमुख समाज सेवी सीटू शर्मा, बलवान सोनी, ब्लाक समिति चेयरमैन नरेश यादव, हरिओम बंसल, अजय सतीजा का कहना है कि महामारी को लेकर लोगों को सतर्क होने की ज्यादा जरूरत है। यदि जल्द ही लोगों ने अपनी आदतों में बदलाव नहीं किया तो हालात पहले से भी ज्यादा भयावह हो सकते हैं। किसी एक व्यक्ति की थोड़ी सी लापरवाही भी लोगों के लिए बड़ी मुश्किल पैदा कर सकती है। सोमवार को ही यहां का कार्यभार संभाला है। कर्मचारियों को बिना मास्क मिलने वाले और शारीरिक दूरी के नियमों का उल्लंघन करने वालों के चालान काटने के निर्देश दिए गए हैं।

- कृष्ण कुमार, शहर थाना प्रभारी,तावडू वैक्सीनेशन के साथ कोरोना नियमों का पालन कर ही संक्रमण से बचा जा सकता है। फिलहाल पूरा ध्यान अधिक से अधिक टीकाकरण कराने पर है। तावडू उपमंडल में 93 फीसद लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है।

- जगविदर जाखड़, प्रवर चिकित्सा अधिकारी, सीएचसी तावडू

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept