पराली जलाने पर 336 लोगों को लगाया 7.25 लाख जुर्माना

धान के सीजन में पराली और धान के अवशेष जलाने वाले किसानों पर कृषि विभाग सख्त रहा। इस सीजन में 336 लोगों के चालान किए और इन पर 7.25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया।

JagranPublish: Thu, 18 Nov 2021 05:16 PM (IST)Updated: Thu, 18 Nov 2021 05:16 PM (IST)
पराली जलाने पर 336 लोगों को लगाया 7.25 लाख जुर्माना

लोगो लगाएं.....----पराली का समाधान है समझदारी--- फोटो-18

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : धान के सीजन में पराली और धान के अवशेष जलाने वाले किसानों पर कृषि विभाग सख्त रहा। इस सीजन में 336 लोगों के चालान किए और इन पर 7.25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। प्रशासन का दावा है कि किसान भी इस बार जागरूक नजर आए। इस बार अपेक्षाकृत कम पराली जलाई गई।

डीसी मुकुल कुमार ने बताया कि कुरुक्षेत्र जिले में फसल अवशेषों में आग लगाने वाले लोगों के खिलाफ जुर्माना लगाया जा रहा है। इतना ही नहीं ऐसा बार-बार करने

वाले किसानों के खिलाफ एफआइआर भी दर्ज की जा रही है। इसको लेकर सभी अधिकारी गंभीरता से कार्य कर रहे हैं। जिले में किसानों को पराली प्रबंधन के प्रति ओर जागरूक भी किया जा रहा है। इसका असर दिखाई दिया है। कृषि विभाग ने अब तक 336 लोगों के चालान किए गए हैं। इनसे 7.25 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

604 स्थानों पर आग लगने की मिली थी सूचना

डीसी ने बताया कि जिले में हरियाणा स्पेस एप्लीकेशन सेंटर (हरसेक) से 535 और अन्य माध्यमों से 69 सहित 604 जगह आग लगाने से संबंधित घटनाएं सामने आई हैं। इन सभी लोकेशन पर कृषि विभाग की टीमें पहुंची। इनमें कृषि भूमि पर 397 जगहों पर आग लगने की पुष्टि की गई। इन पर कृषि विभाग 336 चालान कर चुका है। सभी टीमें दिन-रात फानों में आग लगाने वालों पर नजर रखे हुए है। ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है।

जागरूक अभियान भी चलाया

प्रशासन और कृषि विभाग ने इस बार जागरूक अभियान जिले में चला। एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र के ओवरआल इंचार्ज रहे। वे अधिकारियों के साथ खेतों में पहुंचे। यहां पर किसानों के जागरूक कार्यक्रम चलाए और आधुनिक मशीनों के साथ सरकार की योजनाओं की जानकारी दी। इसका असर इस बार जिले में दिखाई दिया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept