किलोमीटर स्कीम बसों पर अनुभवहीन चालक लगाने से हो रहे हादसे: ग्रेवाल

रोडवेज कर्मचारी यूनियन हरियाणा संबंधित हरियाणा कर्मचारी महासंघ ने किलोमीटर स्कीम की बसों पर योग्य चालक लगाने की मांग की है।

JagranPublish: Thu, 27 Jan 2022 06:10 PM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 06:10 PM (IST)
किलोमीटर स्कीम बसों पर अनुभवहीन चालक लगाने से हो रहे हादसे: ग्रेवाल

जागरण संवाददाता, जींद : रोडवेज कर्मचारी यूनियन हरियाणा संबंधित हरियाणा कर्मचारी महासंघ और एटक ने किलोमीटर स्कीम पर सवाल उठाते हुए इसे पानीपत के शाहपुर गांव के पास हुए हादसे के लिए जिम्मेदार ठहराया। एटक राज्य प्रधान ओमप्रकाश ग्रेवाल, महासचिव जयवीर घणघस, प्रदेश प्रवक्ता रामनिवास खरक भूरा ने बताया कि किलोमीटर स्कीम की बसों पर अनुभवहीन चालकों की वजह से ये बड़ा हादसा हुआ है। दिन प्रतिदिन किलोमीटर स्कीम बसें दुर्घटना की शिकार हो रही हैं। जिससे हरियाणा रोडवेज बसों की छवि खराब हो रही है। रामनिवास खरकभूरा ने बताया कि चार तरह के टेस्ट लिए जा रहे हैं। इनमें सबसे पहले क्रमानुसार डैग टेस्ट, 8-सेफ, जिग-जैग तथा रोड टेस्ट शामिल हैं। रोड टेस्ट सबसे बाद में खुली सड़क पर ड्राइविंग बस द्वारा लिया जाएगा। सबसे कठिन 8-सेफ टेस्ट होता है। आठ टेस्ट भी बोला जाता है। इसमें चालक को पास होना जरूरी होता है। लेकिन प्रशासन व प्राइवेट मालिकों की मिलीभगत के कारण अनुभवहीन चालकों को किलोमीटर स्कीम की बसों पर नियुक्त किया गया है। अनुभवहीन चालकों के कारण हरियाणा राज्य परिवहन विभाग बदनाम हो रहा है। हरियाणा राज्य परिवहन विभाग के नियमानुसार किलोमीटर स्कीम की बसों पर कार्यरत चालक का पहले टेस्ट लिया जाए और वर्दी पहचान पत्र सहित नियम अधिकारियों द्वारा सख्ती से लागू किया जाए। कर्मचारी नेताओं ने सरकार से किलोमीटर स्कीम व स्टेज कैरिज स्कीम को रद करके हरियाणा रोडवेज के बेड़े में 14000 बसें शामिल करके 84000 बेरोजगारों को रेगुलर भर्ती कर रोजगार देने की मांग की। कर्मचारी की जायज मांगों व निजीकरण के खिलाफ जनहित में यूनियन 23 व 24 फरवरी को राष्ट्रव्यापी हड़ताल में भाग लेगी।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept