बहादुरगढ़ के खेतों में अभी तक भरा पानी, फिर से बने बारिश के आसार, किसानों की अटकी सांसें

इन दिनों अधिकतम तापमान 16 और न्यूनतम सात डिग्री दर्ज किया गया। धूप फीकी ही रही। ऊपर से सर्द बयार जारी रही। इस कारण लोग ठंड से बचाव के लिए गर्म कपड़ों में लिपट नजर आए।दुपहिया वाहनों पर चलने वाले लोगों के लिए ठंड ज्यादा परेशानी बन रही है।

Naveen DalalPublish: Tue, 18 Jan 2022 03:51 PM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 03:51 PM (IST)
बहादुरगढ़ के खेतों में अभी तक भरा पानी, फिर से बने बारिश के आसार, किसानों की अटकी सांसें

बहादुरगढ़, जागरण संवाददाता। हरियाणा में एक बार फिर से बारिश के आसार बन रहे हैं। पूर्वानुमान सटीक रहा तो वीरवार से तीन दिनों तक बारिश हो सकती है। इससे किसानों की सांसें अटकी हुई हैं। पहले ही बारिश का पानी काफी जगहों खेतों में भरा हुआ है। वहां फसलों पर संकट है। ऐसे में अगर और बारिश होती है तो गेहूं की फसल को बचा पाना मुश्किल होगा। इधर, ठंड के कारण जनजीवन प्रभावित हो रहा है। अब दो दिनों से धूप भी कम रहती है। तेज हवा के कारण कोहरा नहीं हो रहा, मगर ठिठुरन बढ़ गई है। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि इस बार शुरूआत में सर्दी कम रही। ऐसे में अब बारिश की वजह से ठंड लंबी खिचेंगी।

पांच घंटे बाद दिखे सूर्यदेव, फीकी रही धूप, सर्द बयार ने ठिठुराया

मंगलवार को सूर्योदय का समय तो 7:17 बजे का था। मगर सूर्यदेव सवा 12 बजे आसमान पर नजर आए। इस दिन अधिकतम तापमान 16 और न्यूनतम सात डिग्री दर्ज किया गया। धूप फीकी ही रही। ऊपर से सर्द बयार जारी रही। इस कारण लोग ठंड से बचाव के लिए गर्म कपड़ों में लिपट नजर आए। दुपहिया वाहनों पर चलने वाले लोगों के लिए ठंड ज्यादा परेशानी बन रही है। अब बाजार में अलाव खूब जल रहे हैं और ठंड से जुड़ी चीजों की खरीददारी में तेजी आ गई है।

फसलों में खाद डालने में जुटे किसान, और बारिश न होने की कर रहे दुआ

पिछले दिनों हुई बारिश के बाद किसानों की ओर से अब फसलों में खाद डाला जा रहा है। हालांकि जहां पर पानी भरा हुआ है, वहां पर अभी यह कार्य संभव नहीं है। वहां पर तो फसल से पानी निकाला जा रहा है। कई जगह ज्यादा पानी जमा होने से फसल खराब भी हो चुकी है। ऐसे में किसान दुआ कर रहे हैं कि अब और बारिश न हो।

Edited By Naveen Dalal

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept