This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

गांवोंकी गलियों को गंदा करने वालों पर लगेगा जुर्माना

गांवों में जगह-जगह कूड़ा-कचरा फेंक कर गंदगी का आलम करने

JagranSat, 08 Dec 2018 09:23 AM (IST)
गांवोंकी गलियों को गंदा करने वालों पर लगेगा जुर्माना

संवाद सहयोगी, सिवानीमंडी : गांवों में जगह-जगह कूड़ा-कचरा फेंक कर गंदगी का आलम करने वालों की अब खैर नहीं है। विकास एवं पंचायत विभाग ने गंदगी फैलाने वालों को जुर्माना लगाने का प्रावधान किया है। ग्राम पंचायत अब कूड़ा-कचरा फेंकने वालों पर जुर्माना लगाएगी। इसके साथ ही विभाग ने पंचायतों को भी सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखने के निर्देश दिए हैं। उल्लेखनीय है कि गांवों को निर्मल एवं स्वच्छ बनाने के लिए समय-समय पर स्वच्छता अभियान चलाए जाते हैं, लेकिन फिर भी कुछ लोग सरेआम कूड़ा-कचरा फेंकने की अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे। ऐसे लोगों पर ही शिकंजा कसने के लिए विकास एवं पंचायत विभाग ने जुर्माना लगाने का प्रावधान किया है। यहां तक कि पंचायतें सरे-राह थूकने वाले लोगों पर भी जुर्माना लगा सकेगी। विभाग के निर्देशानुसार इसके साथ-साथ पंचायतें कुछ मासिक चार्ज वसूल करके अपनी आमदनी भी बढ़ा सकेगी, जिससे सफाई व्यवस्था को दुरुस्त रखा जा सकेगा। पंचायतें इस प्रकार लगाएंगी जुर्माना

कारण जुर्माना राशि

-प्राईवेट या पब्लिक वाहन से बाहर सामान फेंकने या थूकने पर 50 रुपये

-रेहड़ी द्वारा कचरा फेंकने पर 50 रुपये

-दुकानदारों द्वारा गली में सामान फेंकने पर 250 से 500 रुपये

-धार्मिक स्थलों द्वारा कचरा फेंकने पर 250 रुपये

-सीएचसी और पीएचसी द्वारा कचरा फेंकने पर 1500 रुपये

-शिक्षण संस्थानों द्वारा कचरा फेंकने पर 500 रुपये

-उद्योगों द्वारा कचरा फेंकने पर 1500 रुपये

-होटल-ढ़ाबों द्वारा कचरा फेंकने पर 500 रुपये

-परिवार द्वारा खाली प्लाट या खुले में कचरा फेंकने पर 100 रुपये

-रोड़, पार्क या गली में कचरा फेंकने पर 100 रुपये

-खुले में शौच या पेशाब करने पर 2000 रुपये

-बारबर द्वारा रोड़ पर बाल फेंकने पर 800 रुपये

-आयोजन स्थल पर द्वारा गंदगी फैंलाने पर 1000 रुपये

-पशुओं द्वारा गंदगी फैंलाने पर मालिक पर 1000 रुपये

-सरेआम कचरा जलाने पर 5000 रुपये

-जोहड़/तालाब या जलघर में कचरा डालने वालों पर 1500 रुपये

-दीवारों पर पोस्टर या पें¨टग करने वालो पर 1000 रुपये

-गोबर को सार्वजनिक जगह पर डालने पर 750 रुपये इस प्रकार आमदनी बढ़ा सकेंगी पंचायतें

विकास एवं पंचायत विभाग के निर्देशानुसार ग्राम पंचायतें सफाई व्यवस्था को दुरुस्त रखने में होने वाले खर्च को वहन करने के लिए अपनी आमदनी गांवों से ही बढ़ा सकेगी। पंचायतें प्रति माह के हिसाब से प्रत्येक परिवार से 40 रुपये, होटल-ढाबों से 100 रुपये, मैरिज पैलेस से 500 रुपये, व्यवसायिक प्रतिष्ठानों से 750 रुपये, शिक्षण संस्थाओं से 200 रुपये, क्लीनिक, डिस्पेंशनरी व होस्टल से 800 रुपये और धार्मिक संस्थान से 1000 रुपये प्रति माह चार्ज करेंगे। नियमानुसार पंचायत रख सकेगी सफाई कर्मचारी

पंचायतों को यह भी अधिकार दिया गया है कि वे 150 से 300 परिवारों के गांवों तक दो सफाई कर्मचारी, 500 घरों वालें गांवों में तीन और 500 से उपर घरों वालें गांवों में चार सफाई कर्मचारी रख सकते हैं। इनका मानदेय पंचायतें जुर्माना राशि व मासिक चार्ज से देंगी। सफाई रखने की दी हिदायत

जिला कार्यक्रम प्रबंधक सतीश कुमार ने बताया कि पंचायतों को हिदायतें दी गई हैं कि वे गली व सड़कों के नजदीक कुरड़ियों को साफ करें। खाली प्लाटों से कचरे व कुरड़ियों को हटवाएं ताकि गांवों में गंदगी का माहौल न रहें। नोडल ऑफिसर नियुक्त, हर माह देंगे रिपोर्ट

एसडीएम सुरेश कस्वां ने बताया कि जिला स्तर पर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी तथा खंड स्तर पर खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी को नोडल ऑफिसर नियुक्त किया गया है। दोनों अधिकारी हर महीने की जाने वाली गतिविधियों की रिपोर्ट उनके समक्ष प्रस्तुत करेंगे तथा इन नियमों की पालना सुनिश्चित करवाएंगे। उन्होंने बताया कि स्वच्छता के लिए इन नियमों के प्रति स्कूलों व समुदायों में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

Edited By Jagran

हिसार में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
Jagran Play

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

  • game banner
  • game banner
  • game banner
  • game banner