तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा शो फेम मुनमुन दत्‍ता की हिसार कोर्ट में सुनवाई आज, बढ़ सकती है मुश्किल

टीवी धारावाहिक तारक मेहता का उल्टा चश्मा की मशहूर कलाकार (बबीता जी) मुनमुन दत्ता पर अनुसूचित जाति से संबंधित आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में कोर्ट हियरिंग चल रही है। नेशनल अलायंस फ़ॉर दलित ह्युमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन ने हांसी एसपी को मामले में शिकायत दी थी

Manoj KumarPublish: Sun, 23 Jan 2022 05:51 PM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 11:56 AM (IST)
तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा शो फेम मुनमुन दत्‍ता की हिसार कोर्ट में सुनवाई आज, बढ़ सकती है मुश्किल

जागरण संवाददाता, हिसार। पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह, अभिनेत्री युविका चौधरी की तरह ही टीवी धारावाहिक तारक मेहता का उल्टा चश्मा की मशहूर कलाकार (बबीता जी) मुनमुन दत्ता पर अनुसूचित जाति से संबंधित आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में कोर्ट हियरिंग चल रही है। नेशनल अलायंस फ़ॉर दलित ह्युमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन ने हांसी एसपी को मामले में शिकायत दी थी, करीब आठ महीने पहले इस पर केस दर्ज हुआ था। आरोप है कि अभिनेत्री मुनमुन दत्ता ने इंस्टाग्राम पर जारी एक कथित वीडियो में कहा था 'उसे यूट्यूब पर वीडियो डालनी है, जिसमें वह अच्छा दिखना चाहती है और एक जाति विशेष जैसा नहीं दिखना चाहती। इस मामले में कल उनकी जमानत को लेकर आज हिसार कोर्ट में सुनवाई है और उनकी ओर से उनके वकील के बहस करने के लिए पहुंचने की जानकारी सामने आई है।

अनुसूचित जाति पर टिप्पणी करने पर दी थी शिकायत

कलसन ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि उक्त अभिनेत्री ने इंस्टाग्राम पर वीडियो डालकर पूरे भारत में अनुसूचित जाति समाज का अपमान किया है और एक जाति विशेष शब्द को गाली के तौर पर इस्तेमाल किया है। पुलिस को दी शिकायत में उन्होंने कहा कि जाति विशेष अनुसूचित जाति की एक उपजाति है। इसे पूरे अनुसूचित जाति समाज की भावनाएं आहत हुई हैं। कलसन ने एसपी से शिकायत देकर मांग की अभिनेत्री के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाए उसे गिरफ्तार किया जाए। बता दें कि टीवी पर आने वाले धारावाहिक तारक मेहता का उल्टा चश्मा में बबीता जी के नाम से मुनमुन दत्ता किरदार निभाती हैं। यह धारावाहिक काफी प्रचलित है और हास्य से जुड़ा है।

मुनमुन ने सार्वजनिक तौर पर मांगी थी माफी

मुनमुन उर्फ बबीता जी ने कहा है कि हिंदी भाषा का उन्हें ज्यादा ज्ञान नहीं है इस कारण शब्दों के अर्थ नहीं पता। उनका ऐसा किसी के बारे में गलत बोलने का बिल्कुल इरादा नहीं था और वह सभी समुदायों व व्यक्तियों की इज्जत करती हैं। हर जाति, समुदाय, धर्म के लोगों का देश व समाज के विकास में योगदान होता है। मगर वकील कलसन की ओर से केस वापस नहीं लिया गया।

Edited By Manoj Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept