राहत भरी खबर, 95 प्रतिशत मरीजों के गले तक ही अटैक कर पा रहा कोरोना, मगर हिसार में केस ज्‍यादा

तीसरी लहर में कोरोना सिर्फ गले तक ही अटैक कर पा रहा है फेफड़ों में कोरोना नहीं पहुंच रहा है। जिसके कारण 1909 मरीजों में से पांच प्रतिशत का ही सिटी स्कैन करने की आवश्यकता पड़ी है ये भी वे है जिन्हें अस्पतालों में दाखिल करवाया गया है।

Manoj KumarPublish: Wed, 19 Jan 2022 02:47 PM (IST)Updated: Wed, 19 Jan 2022 02:47 PM (IST)
राहत भरी खबर, 95 प्रतिशत मरीजों के गले तक ही अटैक कर पा रहा कोरोना, मगर हिसार में केस ज्‍यादा

सुभाष चंद्र, हिसार: तीसरी लहर में कोरोना संक्रमण अधिक फैल रहा है। जिले में एक्टिव केसों की संख्या 1098 पर पहुंच गई। तीसरी लहर में कुल 1909 मामले मिल चुके हैं। राहत की बात यह है कि पहली दो लहरों में संक्रमित होने पर 70 प्रतिशत लोग सांस और बीपी की समस्या से गुजरे थे। उस दौरान काेरोना फेफड़ों पर अधिक असर डाल रहा था, इस कारण लोगों की सांस फूल रही थी और उन्हें आक्सीजन और वेंटीलेटर की अधिक जरूरत पड़ी थी।

इस कारण हर तीसरे मरीज का सिटी स्कैन भी करवाना पड़ रहा था, लेकिन चिकित्सक मान रहे हैं कि तीसरी लहर में कोरोना सिर्फ गले तक ही अटैक कर पा रहा है, फेफड़ों में कोरोना नहीं पहुंच रहा है। जिसके कारण 1909 मरीजों में से पांच प्रतिशत का ही सिटी स्कैन करने की आवश्यकता पड़ी है, ये भी वे है, जिन्हें अस्पतालों में दाखिल करवाया गया है। इस बार होम आइसोलेशन में ही मरीज तीन से चार दिन में स्वस्थ हो रहे है। अब तक 1909 में से 811 स्वस्थ भी हो चुके है। सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में अब तक तक अधिक से अधिक एक बार में 18 संक्रमित दाखिल हुए है। इनमें से भी किसी का सिटी स्कैन करने की आवश्यकता नहीं पड़ी है। सिटी स्कैन करके चिकित्सक संक्रमितों में फेफड़ों में संक्रमण की स्थिति की जांच करके जानते है कि कोरोना ने फेफड़ों पर कितना असर डाला है।

रिकवरी रेट घटकर 95.99 प्रतिशत हुआ

डिप्टी सीएमओ डा. सुभाष खतरेजा ने बताया कि कोरोना केस बढ़ने से रिकवरी रेट घटक़र 95.99 प्रतिशत हो गया है। उन्होंने बताया कि जिले में आठ लाख 55 हजार 296 लोगों की जांच की जा चुकी है, जिसमें संक्रमण के कुल 55 हजार 911 मामले सामने आ चुके हैं। अब तक कुल 53 हजार 670 लोग कोरोना से रिकवर हो चुके हैं। कोविड-19 की पहली लहर में 327, दूसरी लहर में 814 तथा तीसरी लहर में दो संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु हुई है।

सलाखों के पीछे लगातार बढ़ रहा कोरोना, 14 बंदी संक्रमित

मंगलवार को मिले कोरोना के मामलों में 14 बंदी, 34 विद्यार्थी, 11 शिक्षक, तीन डाक्टर समेत 11 हेल्थ कर्मी संक्रमित मिले है। इनके अलावा डीएचबीवीएन कर्मी, रेलवे कर्मी, जीजेयू कर्मचारी, बैंक कर्मचारी, बिजनैसमैन, पुलिसकर्मी, दुकानदार, टैक्सी ड्राइवर, सहित कई गृहिणिया और अनय लोग संक्रमित मिले है। गौरतलब है कि अब तक 182 हेल्थ कर्मी संक्रमित मिले चुके है।

टेक्सट मैसेज के जरिये भी जान रहे संक्रमित का हालचाल -

होम आइसालेशन में अब 921 संक्रमित है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से प्रतिदिन सुबह- शाम फोन करके उनका हाल-चाल विभाग की टीम जानती है। वहीं मरीजों को दवा भी उपलब्ध करवाई जाती है। साथ ही टेक्सट मैसेज करके भी उनसे हाल-चाल बारे जानकारी ली जाती है, साथ ही स्वस्थ होने पर सर्टीफिकेट भी उपलब्ध करवाया जाता है।

हिसार में वैक्सीनेशन के आंकड़े -

पहली डोज लगी - 1260816

हेल्थ वर्कर - 14580 (पीडी - 3302)

फ्रंटलाइन वर्कर - 8785 (पीडी - 414)

60 से अधिक आयु वर्ग - 162558 (पीडी - 478)

45-60 आयु वर्ग - 260300

18-44 आयु वर्ग - 750202

15-17 आयु वर्ग - 64391

-- -- -- -- -- -- -- -

दूसरी डोज लगी - 839978

हेल्थ वर्कर - 14445

फ्रंटलाइन वर्कर - 8667

60 आयु वर्ग -121363

45-60 आयु वर्ग - 199114

18- 44 आयु वर्ग - 496379

15-17 आयु वर्ग - 0

-- -- - तीसरी लहर में मिले अब तक के मामलों में देखने में आया है कि अधिकतर मामलाें में कोरोना मरीजों के गले तक ही पहुंचा है, अभी काेरोना फेफड़ों पर प्रभाव नहीं डाल रहा है। यह गले में रहकर अधिक संकमण फैला रहा है। छींकने और जुकाम से संक्रमण अधिक फैल रहा है। न ही अभी तक सिटी स्कैन की अधिक जरूरत पड़ी है।डा. अजय चुघ, फिजीशियन, सिविल अस्पताल, हिसार।

Edited By Manoj Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept