This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

नारनौंद में तेज हवा के साथ बारिश, सड़कें जलमग्न

नारनौंद नारनौंद में करीबन 3 बजे तेज हवाओं के साथ हुई हल्की बारिश से तापमान में आई गिरावट।

JagranSun, 13 Jun 2021 07:35 AM (IST)
नारनौंद में तेज हवा के साथ बारिश, सड़कें जलमग्न

संवाद सहयोगी,नारनौंद : नारनौंद में करीबन 3 बजे तेज हवाओं के साथ हुई हल्की बारिश से जहां मौसम खुश नुमा हुआ। इस बारिश से लोगों का गर्मी से राहत भी मिली। मगर नारनौंद के एसडीएम कार्यालय व नागरिक अस्पताल के सामने रास्ता जलमगन होने के कारण वहां से गुजरने वाले राहगीरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। इस दौरान छोटे वाहनों में पानी घुस जाने से वह वहीं बंद भी हो गए। नागरिकों में धर्मपाल, कुरड़ा राम, राजेश, अशोक, राजकुमार आदि ने बरशात के पानी भरने के बारे में बताया कि नारनौंद का मेन बाजार ऊंचा होने के कारण बाजार का सारा पानी यहां आकर एकत्रित हो जाता है। इसके अतिरिक्त पहले जो पानी नारनौंद की नहर के साथ बनी बरसाती ड्रेन में चला जाता था। नए नालों के निर्माण के दौरान पानी का बहाव हांसी जींद रोड की तरफ कर दिया गया। वहीं जिस साइड से नगरपालिका के नाले में यह पानी जाता है। वह काफी पुराना व जर्जर हालात में होने के कारण बरसात का पानी निकलने में काफी समय लगता है। उपर से अभी नगरपालिका प्रशासन की तरफ से उसकी सफाई भी नहीं करवाई गई है। इस बारे में नगरपालिका सचिव ने बताया कि नाले की सफाई का कार्य आरम्भ किया हुआ है। जिसे मानसून की वर्षा आने से पहले ही नाले की सफाई का कार्य पूरा करवा दिया जाएगा।

प्री मानसून की हिसार में पहली बारिश से गर्मी छूमंतर

हिसार : हिसार में दिन का तापमान शनिवार को दिन के समय देश के सबसे गर्म शहरों वाले तापमान में दर्ज किया गया। यहां दिन में 44.5 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। दोपहर तक काफी गर्म वातावरण था मगर सायं होते ही मौसम बदला और पहले धूल भरी आंधी चली। इसके बाद तेज बारिश होने लगी। बारिश ने लोगों को गर्मी से राहत देने का कार्य किया है। भारत मौसम विभाग की हिसार स्थित मौसम वेधशाला के अनुसार सात बजे से 10 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी। यह प्री-मानसून की बारिश है। इस बारिश ने गर्मी से जहां राहत दी है तो वहीं कई स्थानों पर जलभराव की समस्या से भी लोग दो चार हुए।

16 जून तक ऐसा ही रहेगा मौसम

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार पंजाब के ऊपर एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन तथा बंगाल की खाड़ी में कम दबाब का क्षेत्र या डिप्रेसन से एक टर्फ रेखा बन गया। जिससे बंगाल की खाड़ी की तरफ से आने वाली नमी वाली मानसूनी हवायों के कारण यह प्री मानसून बारिश हुई है। अगले तीन चार दिन तक (16 जून तक) बीच बीच में राज्य के अधिकतर हिस्सों में गरज चमक व तेज हवायों के साथ बारिश होने की संभावना है।

बारिश फसलों के लिए फायदेमंद

यह बारिश खरीफ फसलों विशेषकर नरमा कपास सब्जियों फलदार पौधों के लिए फायदेमंद है तथा धान लगाने वाले क्षेत्रों में बारिश से भूमि में नमी की अधिकता के कारण पानी की बचत होगी तथा बारानी क्षेत्रों में ग्वार बाजरा की बिजाई करने में सहायक होगी।

Edited By Jagran

हिसार में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!