दर्दनाक: खाने में मिट्टी डाली तो मां ने दो बेटियों को मार डाला, खुद को भी चाकू मारा

खेदड़ में महिला ने अपनी दो बेटियों की चाकू से की हत्या कर दी। पति बोला-बेटियों ने खाने में डाल दी थी मिट्टी तो पत्नी को आ गया था गुस्सा। इससे दोनों की हत्‍या कर दी।

Anurag ShuklaPublish: Mon, 25 May 2020 09:55 AM (IST)Updated: Mon, 25 May 2020 09:55 AM (IST)
दर्दनाक: खाने में मिट्टी डाली तो मां ने दो बेटियों को मार डाला, खुद को भी चाकू मारा

हिसार, जेएनएन। खेदड़ गांव में सड़क किनारे झुग्गी में रहने वाले एक राजस्थानी बंजारा भाट परिवार की महिला ने अपनी दो बेटियों की चाकू से वार कर हत्या कर दी। हत्या के बाद उनके शव बिस्तर में छिपाकर अपनी गर्दन पर भी चाकू से कई वार किए। पुलिस ने पति की शिकायत पर पत्नी के खिलाफ हत्या और आत्महत्या के प्रयास का केस दर्ज लिया। वहीं, पति ने बताया कि उसकी बेटियों ने सुबह खाने में मिट्टी डाल दी थी। उसके बाद उसकी पत्नी को काफी गुस्सा आया था।

खेदड़ गांव में फरीदपुर रोड पर काम चल रहा है। यहां राजस्थान के बंजारा भाट समुदाय के लोग काम कर रहे हैं। यह पाबड़ा रोड पर वाटर वक्र्स के पास झुग्गियों में रहते हैं। एक झुग्गी में अहमद 27 वर्षीय पत्नी चारिया और दो बेटियों तीन वर्षीय ममता और एक वर्षीय किरण के साथ रहता था। रविवार सुबह 10 बजे अहमद अन्य साथियों के साथ काम पर चला गया। उसके जाने के थोड़ी देर बाद चारिया ने चाकू से ममता और किरण की हत्या कर दी। साथ ही अपनी गर्दन पर भी चाकू से वार किए। झुग्गी से चिल्लाने की आवाज सुनकर आस-पास के लोग वहां पहुंचे तो देखा कि चारिया खून से लथपथ है। वह उसे पहले बरवाला और बाद में हिसार के अस्पताल में ले गए। इधर ग्रामीणों ने जब झुग्गी की तलाशी ली तो बिस्तर में दोनों बच्चिों के शव मिले। ग्रामीणों ने इसकी सूचना बरवाला पुलिस को दी। डीएसपी बरवाला संजय कुमार बिश्नोई, थाना प्रभारी इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह घटनास्थल पर पहुंचे। 

अहमद बोला-मोटे दिमाग की है पत्नी

अहमद ने पुलिस को बताया कि उसकी पत्नी मोटे दिमाग की है। सुबह जब वह खाना बना रही थी तो बेटियों ने खाने में मिट्टी आदि डाल दी थी। इस पर चारिया गुस्सा हो गई थी। 

आरोपित चारिया की हालत गंभीर है। वह हिसार के नागरिक अस्पताल में भर्ती है। उससे पूछताछ के बाद ही पता चल पाएगा कि उसने किस कारण वारदात को अंजाम दिया। 

संजय कुमार बिश्नोई, डीएसपी बरवाला।

चार माह पहले आया था परिवार

मेहनत-मजदूरी कर परिवार का पालन पोषण करने वाले अहमद का परिवार चार माह पहले बरवाला के गांव खेदड़ आया था। दो माह से लॉकडाउन होने के कारण सब काम बंद था। उनको गांव के लोग राशन पहुंचाते और उनका गुजारा होता।

पति बोला-दिमागी तौर पर पत्‍नी बीमार

रविवार का दिन अहमद के परिवार के लिए बुरा निकला। उसकी पत्नी चारिया ने सब्जी काटने वाले चाकू से अपनी दो बच्चियों की हत्या कर दी। गांव के लोग भी हैरान हैं कि कोई मां ऐसी भी हो सकती है। अहमद बेशक पत्‍नी के दिमागी तौर पर बीमार होने की बात कह रहा है। लॉकडाउन के कारण अहमद काम बंद होने के चलते घर पर ही रहता था। अब लॉकडाउन खुला को अहमद काम पर दोबारा जाने लगा। लेकिन दोपहर बाद उसको पता चला कि उसका परिवार पत्नी ने ही खत्म कर दिया है। अहमद ने बताया कि उसका अपनी पत्‍नी के साथ कभी झगड़ा नहीं हुआ। उसने बताया कि उसकी बेटियों ने रविवार सुबह खाने में मिट्टी डाल दी थी। उसके बाद उसकी पत्नी को काफी गुस्सा आया था।

पति के बयान पर महिला के खिलाफ हत्या और आत्महत्या के प्रयास का केस दर्ज

डीएसपी ने बताया कि पुलिस इस संदर्भ में हर पहलू से जांच कर रही है। इसमें चारिया पर हत्या का आरोप है। चूंकि उसने भी अपनी गर्दन पर चाकू मार लिया था तो उसे गंभीर हालत में हिसार के नागरिक अस्पताल में दाखिल कराया गया है। उपचार के बाद मेडिकल फिट होने पर उससे भी पूछताछ की जाएगी कि आखिर उसने किस कारण इस वारदात को अंजाम दिया। दोनों बालिकाओं के शवों को पोस्टमार्टम के लिए हिसार भेजा गया है। बरवाला के थाना प्रभारी कुलदीप सिंह ने बताया कि पुलिस ने इस संदर्भ में महिला के पति अहमद के बयान पर उसकी पत्नी के खिलाफ दो बेटियों की हत्या करने और आत्महत्या के प्रयास का केस दर्ज करके जांच आरंभ कर दी है।

घटना में प्रयुक्त चाकू बरामद

हत्या का पता चलने पर डीएसपी बरवाला संजय कुमार बिश्नोई, थाना प्रभारी इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह मौके पर पहुंचे और घटनास्थल का निरीक्षण किया। सीन ऑफ क्राइम की टीम भी मौके पर पहुंची थी। टीम ने हत्या में प्रयोग चाकू भी मौके से बरामद कर लिया।

 

Edited By Anurag Shukla

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept