Ilam chand: 84 साल में युवाओं जैसा जोश, एथलेटिक्स में इनके हुनर के राष्ट्रपति भी कदरदान, करेंगे सम्मान

सिरसा के वयोवृद्ध खिलाड़ी ईलम चंद को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद एक अक्टूबर को वयोवृद्ध सम्मान देंगे। 84 वर्षीय ईलम चंद को यह सम्मान वयोवृद्ध खिलाड़ियों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शानदार खेल उपलब्धियों के लिए दिया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ईलम चंद से बीती 20 सितंबर को संपर्क किया था।

Rajesh KumarPublish: Sat, 25 Sep 2021 06:10 AM (IST)Updated: Sat, 25 Sep 2021 12:26 PM (IST)
Ilam chand: 84 साल में युवाओं जैसा जोश, एथलेटिक्स में इनके हुनर के राष्ट्रपति भी कदरदान, करेंगे सम्मान

आनंद भार्गव, सिरसा। शाह सतनाम नगर में रहने वाले यूपी मूल निवासी वयोवृद्ध खिलाड़ी ईलम चंद को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद एक अक्टूबर को वयोवृद्ध सम्मान देंगे। सम्मान स्वरूप ईलम चंद को ढाई लाख रुपये, शाल, प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। 84 वर्षीय ईलम चंद को यह सम्मान वयोवृद्ध खिलाड़ियों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शानदार खेल उपलब्धियों के लिए दिया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ईलम चंद से बीती 20 सितंबर को संपर्क किया था। ईलम चंद शनिवार को स्वजनों के साथ दिल्ली रवाना होंगे। सम्मान प्राप्ति के समाचार से उत्साहित ईलमचंद का कहना है कि बेशक वह 84 का हो गया है परंतु आज भी उनमें जोश 20 साल के खिलाड़ियों सा है। यह सब गुरु की प्रेरणा से हुआ है।

विजयवाड़ा के बीबी इंटर कालेज में रहे प्राचार्य

ईलम चंद मूल रूप से यूपी के बागपत जिले के बड़ौत तहसील के गांव अनछाड़ के रहने वाले हैं। वे शिक्षाविद रहे हैं और 1996 में यूपी के बिजवाड़ा के बीपी इंटर कालेज के प्राचार्य रहे हैं। वर्ष 2000 में वे सिरसा में डेरा सच्चा सौदा में आ गए और यहां आकर 63 वर्ष की उम्र में उन्होंने योग शुरू किया। जिसके बाद योग, एथलेटिक्स में 425 से अधिक मेडल जीत चुके हैं, जिनमें राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताएं शामिल हैं। ईलम चंद ने बताया कि 22 किलोमीटर लंबी हाफ मैराथन में वर्ष 2011 से लेकर सीनियर सिटीजन श्रेणी में जीतते आ रहे हैं। चीन, मलेशिया में हुई पोल वाल्ट प्रतियोगिता में 70 वर्ष से अधिक उम्र में भाग लिया।

800 मीटर दौड़ में जीता था गोल्ड

मलेशिया में आयोजित 800 मीटर दौड़ में 65 वर्ष से अधिक उम्र वालों में गोल्ड जीता। 2013 में चीन में आयोजित पोल वाल्ट में दूसरे स्थान पर रहे। एथलेटिक्स में उन्होंने 130 से अधिक मेडल जीते हैं जबकि योग में करीब 300 मेडल हैं। उनके मार्गदर्शन में अनेक योग खिलाड़ी राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन कर चुके हैं। वर्तमान में 250 से अधिक खिलाड़ियों को वह प्रशिक्षित कर रहे हैं।

Edited By Rajesh Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept