This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

पशुओं को हो सकता है कोरोना, पेनिक हो व्‍यवहार न बदलें, ऐसे करें विशेष देखभाल

हिसार लुवास विश्वविद्यालय द्वारा घरेलू पशुओं तथा पालतू जानवरों की देखभाल के लिए एडवाइजरी जारी की गई है। अफवाहों पर ध्‍यान न देकर पशुओं को व्‍यायाम करवाने व अन्‍य हिदायतें दी गई हैं

Manoj KumarMon, 13 Apr 2020 04:29 PM (IST)
पशुओं को हो सकता है कोरोना, पेनिक हो व्‍यवहार न बदलें, ऐसे करें विशेष देखभाल

हिसार, जेएनएन। लाला लाजपत राय पशुचिकित्सा एवं पशुविज्ञान विश्वविद्यालय द्वारा घरेलू पशुओं तथा पालतू जानवरों की देखभाल के लिए एडवाइजरी जारी की गई है। जिससे की हरियाणा प्रदेश के लोग अपने घरेलू जानवरों तथा पालतू पशुओं की ठीक से देखभाल कर सकें और उनसे किसी को कोरोना के संक्रमण का खतरा ना हो तथा संक्रमित व्यक्ति भी अपने पालतू जानवरों की देखभाल के लिए विशेष सावधानी का प्रयोग करें।

कोविड-19 रोग एक विषाणु जनित संक्रामक रोग है जो संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से होता है। यदि संक्रमित व्यक्ति अपने पालतू बिल्ली व कुत्ते के संपर्क में आता है तो वह उन्हें भी संक्रमित कर सकता है। यह रोग संक्रमितश्वास से, खांसने से एवम छींकने से फैलता है।

कुत्ते व बिल्ली  स्वयं संक्रमित नहीं होते परन्तु ऐसे पशुओं से संपर्क में रहने पर सावधानी रखनी चाहिए ताकि मनुष्यों से पशुओं में इसके फैलने के संभावना से बचा जा सके। किसी भी अफवाह से न डरें और अपने पालतू पशु को घर से न भगाएं। ऐसी स्थिति में पशुपालक के लिए अपने पशुधन एवं अन्य पालतू पशु जैसे कुत्ता, बिल्ली का रखरखाव और अधिक कठिन एवम महत्वपूर्ण हो जाता है जब सम्पूर्ण विश्व इस संक्रामक रोग की चपेट में हो।

कोरोना से बचाव के लिए इस प्रकार रखें अपने पालतू पशु का ध्यान

- घर पर ही रह कर अपने पशुओं का और पालतू जानवरों का रखरखाव करें ।

- पशुओं  को चारा और पेयजल घर पर ही देवें । पालतू कुत्ते व बिल्ली को भी।

- घर पर रहकर, पर्याप्त भोजन व पीने के पानी की व्यवस्था करें।

- पालतू कुत्ते व बिल्ली को घर पर ही व्यायाम करवाएं। घर के आंगन में, छत पर यह कार्य कर सकते हैं।

- पशुओं को नहलाने की व्यवस्था घर पर ही करें।

- पशुशाला की सफाई पर विशेष ध्यान दें। पशुशाला की सफाई एक प्रतिशत हाइपोक्लोराइट एवं ब्लीच (7 ग्राम एक लीटर पानी में) से करें उसी तरह घर के फर्श की सफाई भी 1 प्रतिशत हाइपोक्लोराइट से करें ।

- इसी प्रकार दरवाजे व उनके हैंडल, खिड़की इत्यादि को भी 1 प्रतिशत हाइपोक्लोराइट से साफ करें ।

- पालतू कुत्ते व बिल्ली के खान पान के बर्तफं को गरम पानी एवम ब्लीच (15 ग्राम, 4 लीटर पानी ) से साफ करें ।

- यदि आप स्वस्थ महसूस नहीं कर रहे तो आप किसी अन्य सदस्य की मदद से पशुओं का, पशुशाला का एवम कुत्ते व बिल्ली के रखरखाव का कार्य सम्पूर्ण करें और पशु के नजदीक न जाएं ।

- अपने हाथों को बार-बार साबुन से धोएं, तत्पश्चात सैनिटाइजर (70  आइसोप्रोपिल अल्कोहल) लगाएं। सैनिटाइजर लगाने के पश्चात आग/अग्नि (धूम्रपान, माचिस, लाइटर, खाना पकाने वाली गैस, बिजली के खटके इत्यादि) के समीप न जाएं जब तक यह सम्पूर्ण रूप से वाष्पीकृत न हो जाए ।

- पालतू कुत्ते व बिल्ली के संपर्क में आने के बाद हाथों को अवश्य धोएं।

- अपने चेहरे पे मास्क लगाएं।

Edited By: Manoj Kumar

हिसार में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!