विजिलेंस की टीम ने सरस्वती कुंज में बनी झुग्गियों में पकड़ी बिजली चोरी

सेक्टर-53 सरस्वती कुंज कालोनी में बनी करीब 600 झुग्गियों में विजिलेंस की टीम ने बड़े पैमाने पर बिजली चोरी पकड़ी है। बिजली चोरी के मामले में छह लोगों को नामजद किया गया है।

JagranPublish: Sat, 29 Jan 2022 07:10 PM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 07:10 PM (IST)
विजिलेंस की टीम ने सरस्वती कुंज में बनी झुग्गियों में पकड़ी  बिजली चोरी

संवाद सहयोगी, बादशाहपुर: सेक्टर-53 सरस्वती कुंज कालोनी में बनी करीब 600 झुग्गियों में विजिलेंस की टीम ने बड़े पैमाने पर बिजली चोरी पकड़ी है। बिजली चोरी के मामले में छह लोगों को नामजद किया गया है। सभी बिजली चोर वजीराबाद गांव के रहने वाले बताए जाते हैं। 50 किलो वाट की चोरी पकड़े जाने के बाद बिजली निगम के अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। विजिलेंस की टीम ने मौके पर सेक्टर-56 उपमंडल अभियंता को भी बुलाया।

वजीराबाद गांव के पास बने झुग्गियों में विजिलेंस की टीम ने पिछले साल भी बड़े पैमाने पर बिजली चोरी पकड़ी थी। उस समय भी साउथ सिटी सब डिवीजन की कार्यप्रणाली पर सवाल उठे थे। उनके क्षेत्र में इतने बड़े पैमाने पर बिजली चोरी हो रही है तो बिजली निगम के आपरेशन की टीम क्या कर रही है। बिजली चोरी रोकने के लिए बनी बिजली निगम की विजिलेंस टीम को सूचना मिली कि सरस्वती कुंज में बनी झुग्गियों में बिजली चोरी की जा रही है। विजिलेंस के कार्यकारी अभियंता प्रवीण यादव ने दो उपमंडल अभियंता पवन ग्रोवर तथा मनीष की टीम बनाई। इस टीम ने इन झुग्गियों में छापेमारी की। टीम बिजली चोरी को देखकर हैरान रह गई। हर झुग्गी में बिजली चोरी की जा रही थी। टीम ने छह अलग-अलग लोगों के खिलाफ एलएल-वन भरी है। कई झुग्गियों में तो मीटर भी नहीं लगे थे। कुछ झुग्गियों में लोगों ने दिखावे के लिए मीटर लगा रखे हैं। जिन झुग्गियों में बिजली के मीटर लगे हैं। उन में भी मीटर को बायपास कर चोरी पकड़ी गई है।

करीब 50 किलो वाट बिजली चोरी पकड़ी गई। बिजली चोरी की रिपोर्ट सेक्टर-56 उप मंडल अभियंता को भेज दी गई है। उपमंडल अभियंता आपरेशन इस मामले में जुर्माना राशि तय करता है। अभी जुर्माना राशि तय नहीं की गई है। एक मोटे अनुमान के तौर पर 10 से 12 लाख रुपये का जुर्माना इन बिजली चोरों पर लगाया जाना है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept