This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

स्कूल बंद करने के खिलाफ लामबंद होने लगे अभिभावक

वाट्सएप ग्रुप से जहां अभिभावक एकजुट होकर स्कूल को चलाने के पक्ष में हैं वहीं इसी को लेकर प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज से भी मिलने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि अभी मैनेजमेंट का रुख स्पष्ट है लेकिन अभिभावक चाहते हैं कि यह स्कूल चले।

JagranFri, 16 Apr 2021 08:02 AM (IST)
स्कूल बंद करने के खिलाफ लामबंद होने लगे अभिभावक

जागरण संवाददाता, अंबाला : अंबाला कैंट के कॉन्वेंट आफ सेक्रेड हार्ट (सीएसएच) स्कूल को बंद करने की घोषणा के बाद जहां विद्यार्थियों के अभिभावकों की धड़कनें बढ़ी हुई हैं, वहीं स्कूल मैनेजमेंट के इस फैसले के खिलाफ लोग लामबंद हो रहे हैं। वाट्सएप ग्रुप से जहां अभिभावक एकजुट होकर स्कूल को चलाने के पक्ष में हैं, वहीं इसी को लेकर प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज से भी मिलने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि अभी मैनेजमेंट का रुख स्पष्ट है, लेकिन अभिभावक चाहते हैं कि यह स्कूल चले। इस में मंत्री विज दखल दें ताकि बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ न हो। अभी तक इस मामले को लेकर मैनेजमेंट का रुख तो स्पष्ट है, जबकि अभिभावक स्कूल चलाने के पक्ष में हैं।

स्कूल मैनेजमेंट कह चुका है कि पहली से आठवीं तक के विद्यार्थियों को अभिभावक कहीं भी दाखिला दिलवा सकते हैं। दूसरी ओर सेंट्रल बोर्ड आफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) के दिशा-निर्देश के तहत यह स्कूल शिक्षा सत्र 2022-23 तक चलाया जाएगा। शिक्षा सत्र 2021-22 में जहां 81 विद्यार्थी पासआउट कर जाएंगे, वहीं शिक्षा सत्र 2022-23 में दसवीं में विद्यार्थियों की संख्या 57 की रह जाएगी। उल्लेखनीय है कि स्कूल मैनेजमेंट ने सीबीएसई को चिट्ठी लिखकर स्कूल बंद करने की गुहार लगाई थी। हालांकि चार साल पहले भी इसी स्कूल को बंद करने को लेकर विवाद उभरा था, जिसके बाद प्रबंधन ने स्कूल बंद की बात को अफवाह बताया था। अब बीच में ही प्रबंधन ने इसे बंद करने का फैसला ले लिया। इसको लेकर अभिभावकों अब विरोध के स्वर उठने लगे हैं।

स्कूल मैनेजमेंट के सचिव एमके जैन ने कहा कि अभिभावकों को स्कूल बंद करने की जानकारी दे दी है। फिलहाज सिटिग 9वीं और 10वीं कक्षाओं को ही पढ़ाया जाएगा। अभिभावक अपने बच्चों को किसी भी स्कूल में दाखिला दिलवाने के लिए स्वतंत्र हैं।

------------

स्कूल मैनेजमेंट द्वारा अचानक से मैसेज भेजकर स्कूल को बंद करने की जानकारी दी गई है। यह पूरी तरह से गलत है, जबकि बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। इसी को लेकर अभिभावक भी बच्चों के भविष्य को लेकर परेशान हैं।

अनिल कुमार, अभिभावक

---------------

स्कूल को एकाएक बंद करने का फैसला तो ले लिया गया, लेकिन इस में अभिभावकों को विश्वास में नहीं लिया गया। पहले भी इसी तरह की अफवाहें उड़ीं थीं, जबकि स्कूल ने कहा था कि यह बंद नहीं होगा। अब स्कूल बंद करने का फरमान सुनाकर अभिभावकों के लिए दिक्कतें खड़ी हो गई हैं।

हीरा आनंद, अभिभावक

---------------

अभिभावक चाहते हैं कि यह स्कूल चले, जबकि बच्चों को सालों तक इसी स्कूल में पढ़ाया है। इसको लेकर अभिभावक आगामी रणनीति तैयार कर रहे हैं। अभिभावक एकजुट हैं, जबकि अब देखते आगे क्या कदम उठाया जाना है।

मिलन गुप्ता, अभिभावक

---------------

इस मामले में प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज से मिलने की तैयारी कर रहे हैं। उनके सामने सारा पक्ष रखा जाएगा। इसके बाद देखते हैं क्या होता है। अभिभावक नहीं चाहते कि यह स्कूल बंद हो।

नितेश मित्तल, अभिभावक

Edited By Jagran

अंबाला में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!