Coronavirus: गुजरात में राजकोट के सिविल अस्पताल में डॉक्टर व नर्सों सहित 50 कर्मचारी कोरोना संक्रमित

Coronavirus गुजरात के राजकोट शहर के सिविल अस्पताल के डाक्टरों और नर्सों सहित करीब 50 कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी। शनिवार को प्रदेश में कोरोना के 23150 नए मामले मिले थे।

Sachin Kumar MishraPublish: Sun, 23 Jan 2022 03:56 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 03:56 PM (IST)
Coronavirus: गुजरात में राजकोट के सिविल अस्पताल में  डॉक्टर व नर्सों सहित 50 कर्मचारी कोरोना संक्रमित

राजकोट, प्रेट्र। गुजरात के राजकोट शहर के सिविल अस्पताल के डाक्टरों और नर्सों सहित करीब 50 कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी। सिविल अस्पताल के अधीक्षक आरएस त्रिवेदी ने कहा कि चूंकि उनमें से कोई भी गंभीर स्थिति में नहीं है, इसलिए उनका घरेलू इलाज चल रहा है। अस्पताल के हेल्थकेयर स्टाफ के सदस्य, जो मरीजों के सीधे संपर्क में आते हैं, उनका कोविड-19 के लिए परीक्षण किया गया। उनमें से लगभग 50, जिनमें पैरामेडिकल स्टाफ, नर्सों और डाक्टर शामिल थे, संक्रमित पाए गए। एक गंभीर स्थिति में है और उनमें से ज्यादातर घर में हैं। गुरुवार को गुजरात में 24,485 संक्रमित मिले। स्वास्थ्य विभाग की शनिवार शाम की विज्ञप्ति के अनुसार, गुजरात के सक्रिय मामलों की संख्या भी एक लाख का आंकड़ा पार कर गई है और वर्तमान में 1.29 लाख है, जिसमें कुल 244 रोगियों को वेंटिलेटर पर रखा गया है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, वर्तमान में राजकोट जिले में 7,653 सक्रिय मामले हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, जिले में अब तक 69,414 संक्रमण के मामले और 61,025 ठीक हो चुके हैं, जिसमें अब तक 736 मरीजों की मौत हो चुकी है। 

इधर, जूनागढ़ के सक्करबाग चिड़ियाघर के शेर व तेंदुओं को भी कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए केंद्रीय वन व पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति मांगी गई है। कोरोना महामारी की तीसरी लहर देश व दुनिया में तेजी से फैल रही है, ऐसे में केंद्रीय मंत्रालय ने वन्य जीवों को भी महामारी से सुरक्षित रखने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। पांच चिड़ियाघरों दिल्ली, बेंगलुरू, नागपुर, भोपाल और जयपुर में रखे गए शेर व तेंदुओं को कोरोना वैक्सीन लगाने की मंजूरी दी गई है। हरियाणा के हिसार के आइसीएआर-नेशनल रिसर्च सेंटर इक्विंस ने यह टीका विकसित किया है। करीब 490 एकड़ में फैले सक्करबाग चिड़िया घर को 1863 में खोला गया था। बाद में इसे पश्चिम भारत के शेर प्रजनन केंद्र के रूप में विकसित किया गया। चिड़िया घर के निदेशक अभिषेक कुमार के अनुसार, वन व पर्यावरण मंत्रालय से शेरों को कोरोना वैक्सीन लगाने की अनुमति मांगी गई है। शेरों को 28 दिन के अंतराल पर टीका लगाया जाता है। यहां अभी 70 शेर तथा 50 तेंदुए हैं। इस बीच, गुजरात में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 23150 नए मामले सामने आए, 10103 रिकवरी और 15 मौतें भी दर्ज की गई। सक्रिय मामले 1,29,875 हैं।

Edited By Sachin Kumar Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम