This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

पूर्वी चम्पारण

महात्मा गांधी का चंपारण सत्याग्रह भारतीय स्वतंत्रता के इतिहास की अमूल्य धरोहर है। स्वाधीनता संग्राम के समय चंपारण के ही स्वतंत्रता सेनानी राजकुमार शुक्ल के बुलावे पर महात्मा गांधी 1917 में मोतिहारी आए थे। पूर्वी चंपारण लोकसभा सीट से पांचवीं बार सांसद हैं भाजपा नेता और केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह। हालांकि, शुरू और बीच में यहां कांग्रेस, कम्युनिस्ट और राजद के प्रतिनिधि चुने गए। इन सबके बीच राधामोहन सिंह को 1989, 1996, 1999, 2009 व 2014 में पूर्वी चंपारण की जनता ने संसद में भेजा।


विधानसभा क्षेत्र और डेमोग्राफी

पूर्वी चंपारण लोस क्षेत्र के अंतर्गत कुल छह विधानसभा सीटें हैं। ये हैं हरसिद्धि (सुरक्षित), गोविंदगंज, केसरिया, कल्याणपुर, पीपरा और मोतिहारी। इनमें तीन सीटों पर भाजपा का कब्जा है, जबकि दो पर राजद व एक पर लोजपा का वर्चस्व है।लोकसभा क्षेत्र में एनडीए और राजद का वर्चस्व है। कार्यकर्ताओं के मामले में भाजपा मजबूत स्थिति में दिख रही।जिले की जनसंख्या 50 लाख, 99 हजार 371 है। यहां का जनघनत्व 1285 है। औसत साक्षरता 58.26 फीसद है।यहां कुल मतदाता 32 लाख 77 हजार 272 हैं। गांधी सत्याग्रह शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 अप्रैल 2018 को मोतिहारी आए। यहां से पूरे देश को स्वच्छ बनाने का संकल्प लिया गया। महात्मा गांधी की पौत्री भी आईं और अंग्रेजों के खिलाफ सत्याग्रह केप्रयोग की धरती मोतिहारी प्रखंड के चंद्रहिया गांव को बापूधाम चंद्रहिया नाम मिला।


विकास और स्‍थानीय मुद्दे

इस क्षेत्र में हाल के वर्षों में जिले में कई बड़े कार्य हुए। रेलवे स्टेशन का सौंदर्यीकरण कर उसेबेहतर लुक दिया गया। रेलवे लाइन का विद्युतीकरण कार्य पूरा हुआ। दोहरीकरण कार्य निर्माणाधीन है। पीपराकोठी को कृषि के तीर्थ स्थल के रूप में विकसित किया गया। यहां राष्ट्रीय समेकित कृषि अनुसंधान केंद्र, बागवानी व वानिकी महाविद्यालय की स्थापना के साथ बंबू नर्सरी व पशुओं के सीमेन के लिए केंद्र खोला गया। कोटवा में मदरडेयरी प्लांट की स्थापना की गई। हरसिद्धि में गैस बॉटलिंग प्लांट की स्थापना हुई। कौशल विकास के लिए केंद्र खोला गया। केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना के साथ कई छोटे-बड़े कार्य नियमित रूप से होते रहे।लेकिन, स्थानीय किसानों को उनकी उपेक्षा खटकती है। बंद चीनी मिलों को चालू कराने और गन्ना उत्पादकों का बकाया भुगतान भीलंबित है।

 

पूर्वी चंपारण की खास बातें

पूर्वी चंपारण बिहार के 40 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। इस लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में मोतिहारी समेत 6 विधानसभा क्षेत्रों को समाहित किया गया है। 1971 में चंपारण को विभाजित कर बनाए गए पूर्वी चंपारण का मुख्यालय मोतिहारी है। इस क्षेत्र की सीमाएं नेपाल से जुड़ती हैं। पुराण में वर्णित है कि राजा उत्तानपाद के पुत्र भक्त ध्रुव ने यहां के तपोवन नामक स्थान पर ज्ञान प्राप्ति के लिए घोर तपस्या की थी। यह क्षेत्र देवी सीता की शरणस्थली भी रहा है। यहां भगवान बुद्ध ने लोगों को उपदेश दिए और विश्राम किया। यहां कई बौद्ध स्तूप भी हैं। आजादी की लड़ाई में नील आंदोलन समेत कई प्रमुख आंदोलनों को महात्मा गांधी ने यहीं से शुरू किया था। इस क्षेत्र में प्रमुख शैक्षिक संस्थारनों में महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वेविद्यालय, मोतिहारी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग शामिल हैं।

और पढ़ें >
  • सीटें534
  • महिला मतदाता659,560
  • पुरुष मतदाता779,657
  • कुल मतदाता1,439,253

घोषित उम्मीदवार लोकसभा 2019

लोकसभा चुनाव

    राधा मोहन सिंह

    विजयी सांसद – 2014
    • जन्मतिथि01 सितंबर 1949
    • जेंडरM
    • शिक्षाग्रेजुएट
    • संपत्ति2.25 करोड़

    पूर्व सांसद

    • राधा मोहन सिंह

      बीजेपी2019

    • राधा मोहन सिंह

      बीजेपी2009

    वीडियो

    किसने क्या कहा और पढ़ें

    • अरुण जेटली(भाजपा)

      प्रधानमंत्री की जाति कैसे प्रासंगिक है? उन्होंने कभी जाति की राजनीति नहीं की। उन्होंने केवल विकासात्मक राजनीति की है। वह राष्ट्रवाद से प्रेरित हैं। जो लोग जाति के नाम पर गरीबों को धोखा दे रहे हैं वे सफल नहीं होंगे। ऐसे लोग जाति की राजनीति के नाम पर केवल दौलत बटोरना चाहते हैं। बीएसपी या आरजेडी के प्रमुख परिवारों की तुलना में प्रधानमंत्री की संपत्ति 0.01 फीसद भी नहीं है।

      अन्य बयान
    • दिग्विजय सिंह(कांग्रेस)

      मैं सदैव देशहित, राष्ट्रीय एकता और अखंडता की बात करने वालों के साथ रहा हूं। मैं धार्मिक उन्माद फैलाने वालों के हमेशा खिलाफ रहा हूं। मुझे गर्व है कि मुख्यमंत्री रहते हुए मुझ में सिमी और बजरंग दल दोनों को बैन करने की सिफारिश करने का साहस था। मेरे लिए देश सर्वोपरि है, ओछी राजनीति नहीं।

      अन्य बयान
    • राहुल गांधी(कांग्रेस)

      हमारे किसान हमारी शक्ति और हमारा गौरव हैं। पिछले पांच साल में मोदी जी और भाजपा ने उन्हें बोझ की तरह समझा और व्यवहार किया। भारत का किसान अब जाग रहा है और वह न्याय चाहता है

      अन्य बयान
    • नरेंद्र मोदी(भाजपा)

      आज भारत दुनिया में तेजी से अपनी जगह बना रहा है, लेकिन कांग्रेस, डीएमके और उनके महामिलावटी दोस्त इसे स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं। इसलिए वे मुझसे नाराज हैं

      अन्य बयान
    • राबड़ी देवी(राजद)

      जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर लालू जी से मिलने उनके और तेजस्वी यादव के आवास पर पांच बार आए थे। नीतीश कुमार ने वापस आने की इच्छा जताई थी और साथ ही कहा था कि तेजस्वी को वो 2020 के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं और इसके लिए 2019 के लोकसभा चुनाव में लालू उन्हें पीएम पद का उम्मीदवार घोषित कर दें।

      अन्य बयान
    राज्य चुनें
    • उत्तर प्रदेश
    • पंजाब
    • दिल्ली
    • बिहार
    • उत्तराखंड
    • हरियाणा
    • मध्य प्रदेश
    • झारखण्ड
    • राजस्थान
    • जम्मू-कश्मीर
    • हिमाचल प्रदेश
    • छत्तीसगढ़
    • पश्चिम बंगाल
    • ओडिशा
    • महाराष्ट्र
    • गुजरात
    आपका राज्य