अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

गया

फल्गु नदी के तट पर बसा गया कई छोटी-छोटी पहाड़ि‍यों से घिरा है। इसे मोक्ष और ज्ञान की भूमि भीकहा जाता है, क्यों कि फल्गु में तर्पण-अर्पण करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। बोधगया वह भूमि है, जहां ज्ञान पाकर राजकुमार सिद्धार्थ भगवान बुद्ध बने। यहां बड़े कल-कारखाने नहीं हैं। यहां की पटवा टोली में बुनकरों की बड़ी तादाद है, जहां कपड़े तैयार किए जाते हैं। सैकड़ों लोग कुटीर उद्योग से जुड़े हैं। गया संसदीय क्षेत्र की अर्थव्युवस्थाा कृषि आधारित है। झारखंड की सीमा से सटा यह क्षेत्र नक्सल प्रभावित भी है। जिले के 24 प्रखंडों में शहर को छोड़कर लगभग सभीक्षेत्रों में नक्स ल समस्याक व्याहप्त है। नक्सालियों पर नकेल के लिए सीआरपीएफ की स्थाेयी बटालियन भी तैनात है। यहां सेना की ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी और अंतरराष्ट्रीीय हवाई अड्डा भी है। गया संसदीय सीट अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित है। गया जिले में कुल 10 विधानसभा क्षेत्र हैं। इनमें छह विधानसभा क्षेत्र गया संसदीय क्षेत्र में आते हैं।गया संसदीय क्षेत्र में गया, बोधगया, बेलागंज, शेरघाटी, बाराचट्टी और वजीरगंज विस क्षेत्र शामिल है।जिले की 10 विधानसभा सीटों में चार पर राजद, एक पर हम, दो पर भाजपा, दो पर जदयू, एक पर कांग्रेस काबिज है। 

 

इतिहास और बड़ी घटनाएं
1952 से 2014 तक यहां से छह बार कांग्रेस, एक बार प्रजातांत्रिक सोशलिस्टट पार्टी, एक बार जनसंघ, एक बार जनता पार्टी, तीन बार जनता दल, एक बार राजद औरचार बार भाजपा विजयी रही है।  
गया में कुल मतदाताओं की संख्यार 28,62,060 है। यह देश के अति पिछड़े जिलों में शामिल है, जिसके लिए विशेष योजनाएं दी गई हैं।जिले की कुल जनसंख्या0 43,91,418 है और साक्षरता दर 52.38 फीसद है।

 

बड़ी घटनाएं, विकास और मुद्दे
19 जनवरी 2018 को दलाईलामा के बोधगया प्रवास और सूबे के तत्कालीन राज्यपाल के बोधगया आगमन के दौरान आतंकियों द्वारा बम विस्फोाट किया गया था। 2013 में भी बोधगया में सीरियल ब्ला स्ट  किया गया था। 2005 के विधानसभा चुनाव के दौरान नक्सीलियों ने बाराचट्टी में वेंकैया नायडू का हेलीकाप्ट्र जला दिया था।बोधगया में आईआईएम की स्थाचपना, पंचानपुर मेंदक्षिण बिहार केंद्रीय विश्वकविद्यालय औरबिजली के क्षेत्र में सुधार यहां होने वाले प्रमुख कार्य हैं। हालांकि डोभी-पटना फोर लेन का काम बंद है। फल्गुा में वियर बांध, फोर लेन निर्माण, हवाई अड़़डा का विस्तायर और उत्तनर कोयल परियोजना से जुड़े काम की लोग मांग कर रहे हैं। इस तरह ये काम इस संसदीय क्षेत्र के प्रमुख मुद्दे हैं। स्वाोस्य् का और शिक्षा की हालत गंभीर है। मगध मेडिकल कॉलेज एंड हास्पिटल के लिए घोषणाएं तो बहुत हुईं, पर यह धरातल पर नहीं उतर सका।

 

गया की खास बातें

गया बिहार के 40 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। इस लोकसभा क्षेत्र में 6 विधानसभा क्षेत्रों को समाहित किया गया है। फाल्गुनी नदी के तट पर बसा यह शहर झारखंड की सीमा से जुड़ता है। ऐतिहासिक और धार्मिक रूप से यह बिहार का सबसे महत्वपूर्ण नगर है। पितृपक्ष पर हजारों लोग पिंडदान के लिए यहां जुटते हैं। इस क्षेत्र से कुछ दूरी पर बोधगया स्थित है जहां भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। यहां का विष्णुपद मंदिर पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है। इस क्षेत्र का उल्लेख महाकाव्य रामायण में भी मिलता है। गया मौर्य काल में एक महत्वपूर्ण नगर था। मध्यकाल में यह शहर मुगल सम्राटों के अधीन था।

और पढ़ें >
  • सीटें534
  • महिला मतदाता702,311
  • पुरुष मतदाता799,210
  • कुल मतदाता1,501,521

लोकसभा चुनाव

    हरी मांझी

    विजयी सांसद – 2014
    • जन्मतिथि8 जनवरी 1963
    • जेंडरM
    • शिक्षा8वीं
    • संपत्ति1.01 करोड़

    पूर्व सांसद

    • हरी मांझी

      बीजेपी2009

    • राजेश कुमार मांझी

      राजद2004

    • रामजी मांझी

      बीजेपी1999

    • कृष्णा कुमार चौधरी

      बीजेपी1998

    • भगवती देवी

      जेडी1996

    • राजेश कुमार

      जेडी1991

    • इनस्वसर चौधरी

      जेडी1989

    • रामस्‍वरूप राम

      कांग्रेस1984

    • रामस्वरूप राम

      कांग्रेस1980

    • ईश्वर चौधरी

      बीएलडी1977

    • ईश्वर चौधरी

      बीजेएस1971

    • आर दास

      कांग्रेस1967

    • बृजेश्वर प्रसाद

      कांग्रेस1962

    • ब्रजेश्वर प्रसाद

      कांग्रेस1957

    वीडियो

    किसने क्या कहा और पढ़ें

    • नरेंद्र मोदी(भाजपा)

      आज भारत दुनिया में तेजी से अपनी जगह बना रहा है, लेकिन कांग्रेस, डीएमके और उनके महामिलावटी दोस्त इसे स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं। इसलिए वे मुझसे नाराज हैं

      अन्य बयान
    • राबड़ी देवी(राजद)

      जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर लालू जी से मिलने उनके और तेजस्वी यादव के आवास पर पांच बार आए थे। नीतीश कुमार ने वापस आने की इच्छा जताई थी और साथ ही कहा था कि तेजस्वी को वो 2020 के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं और इसके लिए 2019 के लोकसभा चुनाव में लालू उन्हें पीएम पद का उम्मीदवार घोषित कर दें।

      अन्य बयान
    • साक्षी महाराज(भाजपा)

      मैं एक संत हूं और वोट मांगने आए हूं। एक वोट का दान कई कन्यादान के बराबर होता है। संन्यासी लोगों का भला करते हैं। मैं आपसे घर, खेती या अन्य चीज दान में नहीं मांग रहा, सिर्फ आपका वोट मांग रहा हूं। संत की मांग जो पूरी नहीं करता वह उसके किए गए पुण्य ले जाता है।

      अन्य बयान
    • राजनाथ सिंह(भाजपा)

      अगर हमारी सरकार सत्ता में दोबारा आती है, तो हम देशद्रोह कानून को और ज्यादा सख्त करेंगे। अगर जम्मू-कश्मीर के लिए अलग पीएम की मांग की जाती रही तो हमारे पास अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है।

      अन्य बयान
    • राहुल गांधी(कांग्रेस)

      लोकसभा 2019 का चुनाव देश की दो विचारधाराओं की लड़ाई है। कांग्रेस कहती है कि देश की सभी विचारधारा, अवसर, भाषा, इतिहास, संस्कृति सब हंसी-खुशी से साथ रहें। सबको अपनी बात रखने का हक है। लेकिन संघ और बीजेपी चाहती है कि देश में एक ही विचारधारा का राज कायम रहे।

      अन्य बयान
    राज्य चुनें
    • उत्तर प्रदेश
    • पंजाब
    • दिल्ली
    • बिहार
    • उत्तराखंड
    • हरियाणा
    • मध्य प्रदेश
    • झारखण्ड
    • राजस्थान
    • जम्मू-कश्मीर
    • हिमाचल प्रदेश
    • छत्तीसगढ़
    • पश्चिम बंगाल
    • ओडिशा
    • महाराष्ट्र
    • गुजरात
    आपका राज्य