Raxaul Election 2020: जानिए क्यों पूर्वी चंपारण की इस सीट पर बागी उम्मीदवारों से सभी दलों को है भितरघात का खतरा

Raxaul Election 2020 यहां लड़ाई चतुष्कोणीय होती दिख रही है। विभिन्न दलों के बागी उम्मीदवार चुनाव के गणित को उलट-फेर कर सकते हैं।भाजपा के विधायक डॉ. अजय कुमार सिंह बसपा से चुनाव लड़ रहे है। जदयू से भाजपा में आए प्रमोद सिन्हा भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं।

Ajit KumarPublish: Thu, 29 Oct 2020 10:51 PM (IST)Updated: Sat, 07 Nov 2020 07:24 PM (IST)
Raxaul Election 2020: जानिए क्यों पूर्वी चंपारण की इस सीट पर बागी उम्मीदवारों से सभी दलों को है भितरघात का खतरा

पूर्वी चंपारण, जेएनएन : रक्सौल विधानसभा क्षेत्र में राष्ट्रीय और क्षेत्रीय प्रमुख राजनैतिक दलों का टिकट नहीं मिलने पर कई निर्दलीय उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। भारत-नेपाल सीमा पर बसे रक्सौल विधानसभा का कांग्रेस उम्मीदवार पंडित राधा पांडेय ने 1951 से 1957 तक प्रतिनिधित्व किया। इसके बाद सोशलिस्ट पार्टी से समाजवादी नेता विन्धयाचल सिंह 1962 में चुनाव जीते। कांग्रेस के राधा पांडेय पुनः 1967 में चुनाव जीते। कांग्रेस के पूर्व मंत्री सगीर अहमद 1972 से 1985 तक चार बार चुनाव जीते। राजद के राजनंदन राय ने 1990 से 1995 तक दो बार इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। वहीं भाजपा के डॉ. अजय कुमार सिंह 2000 से 2020 तक लगातार पांच बार चुनाव जीते। इस बार विधानसभा में छठी बार पहुंचने का ये प्रयास कर रहे हैं। इस बार रक्सौल से कुल 13 प्रत्याशी मैदान में हैं। यहां फिलहाल जो स्थिति है उससे लड़ाई चतुष्कोणीय होती दिखी। विभिन्न दलों के बागी उम्मीदवार चुनाव के गणित को उलट-फेर कर सकते हैं। भाजपा के विधायक डॉ. अजय कुमार सिंह बसपा से चुनाव लड़ रहे है। जदयू से भाजपा में आए प्रमोद सिन्हा भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। महागठबंधन से कांग्रेस के टिकट पर रामबाबू यादव मैदान में हैं। राजद के पूर्व प्रत्याशी सुरेश यादव बागी उम्मीदवार के रूप में निर्दलीय चुनाव मैदान में हैं। वहीं पूर्व निर्दलीय प्रत्याशी अरविंद प्रसाद सह राजद के युवा नेता निर्दलीय बन चुनाव मैदान में हैं। इस तरह सभी दलों को भितरघात का खतरा है। यहां 57.25  फीसद मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है । 

2020 के प्रमुख प्रत्याशी

प्रमोद सिन्हा, भाजपा

डॉ. अजय कुमार सिंह, बसपा

रामबाबू यादव, कांग्रेस

सुरेश यादव, निर्दलीय

2015 में विजेता, उप विजेता और मिले मत :

डॉ. अजय कुमार सिंह, भाजपा- 64731

सुरेश यादव, राजद- 61000

2010 में विजेता, उप विजेता और मिले मत :

डॉ. अजय कुमार सिंह, भाजपा- 48686

राज राजनंदन राय, राजद -38569

2005 में विजेता, उप विजेता और मिले मत :

डॉ. अजय कुमार सिंह, भाजपा - 38448

राजनंदन राय,लोजपा- 29999

कुल वोटर: 2,73361

पुरुष वोटर:147000

महिला वोटर:126000

ट्रांसजेंडर वोटर: 13

जीत का गणित

रक्सौल विधान सभा की आबादी करीब छह लाख है। जातीय समीकरण में मुस्लिम यादव करीब 65 हजार है। राजपूत और ब्राह्मण 25 हजार है। वैश्य 70 से 80 हजार है। कोइरी और कुर्मी 38 से 40 हजार बताए जाते हैं। जातीय गोलबंदी जिधर होगी, उधर का पलड़ा भारी रहेगा।

चुनावी मुद्दा

1.रक्सौल के सात प्रखंडों को मिलाकर इसे उत्तरी चंपारण के नाम से जिला बनाने की मांग की जा रही है।

2. रक्सौल को जाम समस्या से मुक्ति के लिए मुख्यपथ और एयरपोर्ट रोड स्थित रेलवे क्रासिंग पर ऊपरी पुल का निर्माण जरूरी है।

3. अंतरराष्ट्रीय महत्व के शहर में खेल का मैदान स्टेडियम, रंगशाला (टाउन हॉल) के निर्माण की आवश्यकता लोग महसूस कर रहे।

4. शहर में स्वास्थ्य सेवा के लिए ट्रामा सेंटर, तकनीकी शिक्षा के लिए महाविद्यालय की भी मांग वर्षों से की जा रही है। 

Edited By Ajit Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept