हिमंता बिस्व सरमा का चुनाव आयोग को जवाब, कहा- हग्रामा मोहिलरी को नहीं दी धमकी

बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के प्रमुख हग्रमा मोहिलारी को कथित तौर पर धमकी देने पर चुनाव आयोग ने हिमंता बिस्व सरमा पर कार्रवाई की है। आयोग ने असम के मंत्री के चुनाव प्रचार करने पर तत्काल प्रभाव से 48 घंटे का प्रतिबंध लगा दिया।

Manish PandeyPublish: Sat, 03 Apr 2021 01:44 PM (IST)Updated: Sat, 03 Apr 2021 01:44 PM (IST)
हिमंता बिस्व सरमा का चुनाव आयोग को जवाब, कहा- हग्रामा मोहिलरी को नहीं दी धमकी

नई दिल्ली, एएनआइ। असम के मंत्री और भाजपा नेता हिमंत बिस्वा सरमा ने अपने उपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। चुनाव आयोग को दिए अपने जवाब में सरमा ने कहा है कि विपक्षी दल बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के नेता हग्रामा मोहिलरी पर की गई उनकी टिप्पणी कोई धमकी नहीं है। कांग्रेस ने 30 मार्च को सरमा पर आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग से शिकायत की थी।

कांग्रेस का आरोप था कि भाजपा नेता ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी का दुरपयोग कर मोहिलरी को जेल भेजने की धमकी दी थी। मामले में आयोग ने सरमा को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। वहीं, शुक्रवार को चुनाव आयोग ने सरमा पर कार्रवाई करते हुए उनके चुनाव प्रचार करने पर 48 घंटे का प्रतिबंध लगा दिया था। बता दें कि बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट असम में कांग्रेस की सहयोगी पार्टी है।

चुनाव आयोग को दिए अपने जवाब में सरमा ने कहा है कि उनकी टिप्पणी का मतलब है कि जांच एनआईए को सौंपी जा सकती है क्योंकि अपराध की घटना का स्थान अंतरराष्ट्रीय और अंतर-राज्य सीमा के पास पड़ता है। उन्होंने मामले के संबंध में मोहिलरी के नाम का उल्लेख करने को भी उचित ठहराया। सरमा का कहना है कि मामले में चल रही जांच में भी मोहिलरी का नाम सामने आया है। चुनाव आयोग को दिए अपने जवाब में उन्होंने कहा कि आईजीपी असम ने असम की सरकार को इस आधार पर जल्द से जल्द एनआईए को जांच स्थानांतरित करने पर विचार करने के लिए कहा है।

बता दें कि असम में गुरुवार को हुए दूसरे चरण में 74.76 फीसदी मतदान हुआ। असम में तीन चरणों में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान कराए जा रहे हैं। असम में तीसरे और अंतिम चरण का मतदान छह अप्रैल को कराया जाएगा। इसी चरण में खुद बिस्व सरमा की सीट पर भी वोटिंग होनी है। 

Edited By Manish Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept